BREAKING NEWS

Maharashtra Politics: मुख्यमंत्री शिंदे के साथ शिवसेना के बागी विधायक गोवा से मुंबई के लिए रवाना◾ बडा़ खुलासा : कन्हैया का सर कलम करने वाले मौहम्मद रियाज ने की थी बीजेपी दफ्तर की रेकी, गौस ने पाक में ली आतंकी ट्रेनिंग ◾ IPS Transfer list: यूपी में 21 IPS अधिकारियों का हुआ ट्रांसफर, इन जिलों के SP बदले गए, देखें पूरी सूची◾आंख निकालने, सिर काटने की धमकी देने वाले जहरीले मौलाना को गिरफ्तारी के दो दिन बाद ही मिली जमानत ◾वकीलों ने की कन्हैया के कसाईयों की धुनाई, जबरदस्त पिटाई, वीडीयो सोशल मीडीया पर वायरल ◾भाजपा की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक शुरु, प्रधानमंत्री मोदी भी मौजूद◾ कन्हैयालाल के परिवार को एक करोड़ की आर्थिक सहायता देंगे भाजपा नेता कपिल मिश्रा◾ बिहार में नीतीश कुमार NDA के चेहरा थे, हैं और रहेंगे, JDU नेता उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा बयान ◾ Nupur Sharma: सस्पेंड BJP नेता नूपुर के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने जारी किया लुकआउट नोटिस, 10 FIR हैं दर्ज◾ presidential election : चुनाव दो विचारधाराओं की लड़ाई बन गया है: यशवंत सिन्हा◾KCR की बीजेपी को खुली चुनौती- मेरी सरकार गिराकर दिखाओ मैं केंद्र सरकार गिरा दूंगा ◾मोहम्मद जुबैर को लगा बड़ा झटका, जमानत याचिका खारिज, हिरासत में भेजा गया ◾कन्हैयालाल की हत्या का आरोपी BJP का सदस्य नहीं, बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा ने सभी दावों का किया खंडन◾शिंदे को शिवसेना से निकालने पर भड़के बागी, कहा - हमारी भी एक सीमा ◾ Amravati Murder Case: अमरावती में हुई उदयपुर जैसी घटना, 54 साल के केमिस्ट की गला काटकर हत्या◾ Udaipur Murder Case: कांग्रेस का बड़ा दावा, कन्हैया हत्याकांड में आरोपी रियाज के BJP नेताओं से संबंध◾पाकिस्तानी सैन्य जनरलों को प्रोपर्टी डीलर बोलने वाले पत्रकार पर हमला ◾सीएम रह चुके फडणवीस कैसे डिप्टी सीएम बनने के लिए हो गए राजी ! भाजपा ने कैसे मनाया ◾महाराष्ट्र : विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए MVA ने राजन साल्वी को बनाया उम्मीदवार, कल होगा चुनाव◾वायनाड में बोले राहुल- मनरेगा की गहराई को नहीं समझ पाए प्रधानमंत्री मोदी◾

CBI ने सतारा जिलाधीश को बिना अनुमति के वधावन भाइयों को नहीं छोड़ने को कहा

सीबीआई ने महाराष्ट्र में सतारा जिला प्रशासन को डीएचएफएल के प्रवर्तकों-कपिल और धीरज वधावन को बिना उसकी अनुमति के कोरोना वायरस के पृथक वास से मुक्त नहीं करने को कहा है क्योंकि यस बैंक के धोखाधड़ी मामले में वे गैर जमानती वारंट का सामना कर रहे हैं। अधिकारियों ने शुक्रवार को इस बारे में जानकारी दी । 

उन्होंने बताया कि यस बैंक के पूर्व सीईओ राणा कपूर और अन्य आरोपियों द्वारा धन की हेराफेरी के संबंध में सीबीआई की प्राथमिकी में दोनों भाइयों के नाम आरोपी के तौर पर दर्ज है। 

अधिकारियों के मुताबिक, सीबीआई ने कहा कि कपिल और धीरज सात मार्च को मामला दर्ज होने के बाद से ही फरार थे जिसके कारण एजेंसी ने विशेष अदालत से उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट हासिल किया । सीबीआई को पंचगनी में सरकारी पृथक केंद्र में उनके ठिकाने के बारे में बृहस्पतिवार को सूचना मिली थी जिसके बाद जांच एजेंसी ने सतारा के जिलाधिकारी को एक ई-मेल भेजकर सीबीआई से अनापत्ति प्रमाण पत्र के बिना उन्हें मुक्त नहीं करने को कहा है। 

पुलिस ने बताया कि मौजूदा राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बीच निषेधाज्ञा के उल्लंघन के लिए बृहस्पतिवार को सतारा जिले के महाबलेश्वर में वधावन बंधुओं को हिरासत में लिया। महाराष्ट्र के प्रधान सचिव (विशेष) अमिताभ गुप्ता ने उन्हें यात्रा के लिए अनुमति पत्र मुहैया कराया था। पत्र सार्वजनिक होने के बाद महाराष्ट्र सरकार ने गुप्ता को छुट्टी पर भेज दिया । 

अधिकारियों ने बताया कि निगम अधिकारियों को ‘दीवान फार्महाउस’ में वधावन बंधु मिले । वधावन परिवार के लोगों सहित 23 लोग फार्म हाउस में मिले । सीबीआई ने नौ मार्च को आरोपियों के परिसरों की तलाशी ली थी लेकिन दोनों नहीं मिले थे । इसके बाद एजेंसी ने समन जारी कर दोनों को जांच अधिकारी के सामने पेश होने को कहा लेकिन दोनों जांच में शामिल नहीं हुए । 

इसके बाद , 17 अप्रैल को कपिल और धीरज के खिलाफ सीबीआई के विशेष न्यायाधीश (मुंबई) ने गैर जमानती वारंट जारी किया । सीबीआई की प्राथमिकी के मुताबिक अप्रैल और जून 2018 के बीच कथित घोटाला हुआ, जब यस बैंक ने दीवान हाउसिंग फाइनेन्स कॉरपोरेशन लिमिटेड (डीएचएफएल) में 3,700 करोड़ रुपये का निवेश किया ।