BREAKING NEWS

चुनावों में जनता के मुद्दे उठाएंगे, लोग भाजपा को सत्ता से बाहर करने को तैयार : कांग्रेस◾चुनाव आयोग का ऐलान, महाराष्ट्र-हरियाणा के साथ इन राज्यों की 64 सीटों पर भी होंगे उपचुनाव◾महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग, 24 को आएंगे नतीजे◾ISRO प्रमुख सिवन ने कहा - चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अच्छे से कर रहा है काम◾विमान में तकनीकी खामी के चलते जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में रुके PM मोदी, राजदूत मुक्ता तोमर ने की अगवानी◾जम्मू-कश्मीर के पुंछ और राजौरी जिलों में पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन◾कपिल सिब्बल बोले- कॉरपोरेट के लिए दिवाली लाई सरकार, गरीबों को उनके हाल पर छोड़ा◾मध्यप्रदेश सरकार ने शराब, पेट्रोल और डीजल पर बढ़ाया 5 फीसदी वैट◾Howdy Modi: 7 दिनों के अमेरिका दौरे पर रवाना हुए पीएम मोदी, ये रहेगा कार्यक्रम◾शरद पवार बोले- केवल पुलवामा जैसी घटना ही महाराष्ट्र में बदल सकती है लोगों का मूड◾नीतीश पर तेजस्वी का पलटवार, कहा- जब एबीसीडी नहीं आती, तो मुझे उपमुख्यमंत्री क्यों बनाया था?◾महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों के लिए आज होगी तारीखों की घोषणा, 12 बजे EC की प्रेस कॉन्फ्रेंस◾विदेश मंत्री जयशंकर ने फिनलैंड के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की◾सुरक्षा बल और वैज्ञानिक हर चुनौती से निपटने में सक्षम : राजनाथ ◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी : अकबरुद्दीन◾भारत, अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में दे सकते हैं योगदान : PM मोदी◾कॉरपोरेट कर दर में कटौती : मोदी-भाजपा ने किया स्वागत, कांग्रेस ने समय पर सवाल उठाया ◾चांद को रात लेगी आगोश में, ‘विक्रम’ से संपर्क की संभावना लगभग खत्म ◾J&K : महबूबा मुफ्ती ने पांच अगस्त से हिरासत में लिए गए लोगों का ब्यौरा मांगा◾अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾

अन्य राज्य

केंद्र 65 श्रीलंकाई तमिलों की परेशानियों को करे खत्म : मद्रास हाई कोर्ट

मद्रास उच्च न्यायालय ने 1983 के दंगों के बाद श्रीलंका से भागे 65 तमिलों को नागरिकता प्रदान करने के पक्ष में पूरी मजबूती से तर्क रखे है। अदालत ने कहा है कि तमिलनाडु के जिस शिविर में यह रह रहे हैं, वहां स्थितियां 'नारकीय' हैं। 

इन तमिलों ने भारत को अपना स्थायी घर बनाने के उद्देश्य से श्रीलंका की समुद्री सीमा को पार किया और भारत पहुंचे लेकिन केंद्र ने इन्हें नागरिकता देने से इनकार किया है। वे दो दशकों से अधिक समय से कानूनी लड़ाई में लगे हुए हैं। हालांकि भारत सरकार ने उन्हें निर्वासित नहीं करने का वादा किया है, लेकिन भारतीय नागरिकता की उनकी मांग पर कोई फैसला नहीं किया है। 

याचिकाकर्ताओं की दुर्दशा पर सहानुभूतिपूर्ण दृष्टिकोण अपनाने और उनके लिए भारतीय नागरिकता हासिल करने के मानदंडों को शिथिल करने के लिए केंद्र से आग्रह करने के लिए उनकी याचिका पर पिछले हफ्ते मद्रास उच्च न्यायालय ने एक आदेश पारित किया। शरणार्थियों को मासिक नकद राशि, राशन, आवश्यक वस्तुएं, आवास, पोशाक सामग्री, बर्तन और मुफ्त शिक्षा मिलती है। 

नागरिकता के मुद्दे पर, तमिलनाडु सरकार का तर्क है कि वे एक अवैध मार्ग से पहुंचे और इसलिए उनकी शरणार्थी की स्थिति को नागरिकता में नहीं बदला जा सकता है। इस पर केंद्र का दृष्टिकोण भी राज्य के समान ही है। याचिकाकर्ताओं का दावा है कि वे गिरमिटिया मजदूरों के वंशज हैं जो औपनिवेशिक काल के दौरान श्रीलंका के चाय बागानों में बस गए थे, वे तमिल भाषी हैं और उनके पूर्वज तमिलनाडु से संबंध रखते हैं। 

न्यायाधीश जी.आर. स्वामीनाथन ने कहा, "एक अवैध प्रवासी इस तरह की छूट का दावा नहीं कर सकता है यदि वह समाज में चोरी-छिपे शामिल हो गया है। यहां ऐसा नहीं है। सरकार द्वारा स्थापित शिविरों में याचिकाकर्ताओं को रखा गया है।" अदालत ने केंद्र का ध्यान उन परिस्थितियों पर आकर्षित किया, जिन्होंने याचिकाकर्ताओं को भारत में शरण लेने और मानवीय आधार पर उनके मामले पर विचार करने के लिए मजबूर किया। 

अदालत ने यह पाया, "एक व्यक्ति जो अपने जीवन को बचाने के लिए संघर्ष कर रहा है, स्पष्ट रूप से उससे यह उम्मीद नहीं की जा सकती कि वह वीजा का इंतजार करेगा। वह ऐसा नहीं कर सकता। इसलिए, कानून की तकनीकी आवश्यकताओं के चश्मे के माध्यम से याचिकाकर्ताओं के मामले को देखना मानवीय दृष्टिकोण से सही नहीं होगा।"