BREAKING NEWS

दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए IB अफसर अंकित शर्मा के परिजनों ने शहीद का दर्जा देने की मांग◾CAA को लेकर अमित शाह का ममता और कांग्रेस पर करारा वार - 'अरे इतना झूठ क्यों बोलते हो'◾निर्भया मामला : फांसी के सजा को उम्रकैद में बदलने के लिए दोषी पवन ने दी याचिका ◾कांग्रेस के अलावा 6 अन्य विपक्षी ने भी राष्ट्रपति कोविंद को लिखा पत्र, दिल्ली हिंसा के आरोपियों पर दर्ज हो FIR◾दिल्ली हिंसा : मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 41, पीड़ितों से मिलने पहुंचे LG अनिल बैजल ◾रविशंकर प्रसाद का कांग्रेस पर वार, बोले- राजधर्म का उपदेश न दें सोनिया◾प्रधानमंत्री मोदी के आगमन से पहले छावनी में तब्दील हुआ प्रयागराज, जानिये 'विश्व रिकार्ड' बनाने का पूरा कार्यक्रम ◾ ताहिर हुसैन के कारखाने में पहुंची दिल्ली फोरेंसिक टीम, जुटाए हिंसा से जुड़े सबूत◾जानिये कौन है IB अफसर की हत्या के आरोपी ताहिर हुसैन, 20 साल पहले अमरोहा से मजदूरी करने आया था दिल्ली ◾एसएन श्रीवास्तव नियुक्त किये गए दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर, कल संभालेंगे पदभार ◾जुमे की नमाज़ के बाद जामिया में मार्च , दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती भरा दिन◾CAA को लेकर आज भुवनेश्वर में अमित शाह करेंगे जनसभा को सम्बोधित ◾CAA हिंसा : उत्तर-पूर्वी दिल्ली में अब हालात सामान्य, जुम्मे के मद्देनजर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम कायम◾CAA को लेकर BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले - कांग्रेस जो नहीं कर सकी, PM मोदी ने कर दिखाया◾Coronavirus : चीन में 44 और लोगों के मौत की पुष्टि, दक्षिण कोरिया में 2,000 से अधिक लोग पाए गए संक्रमित ◾भारत ने तुर्की को उसके आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने से बचने की सलाह दी◾राष्ट्रपति कोविंद 28 फरवरी से 2 मार्च तक झारखंड और छत्तीसगढ़ के दौरे पर रहेंगे◾संजय राउत ने BJP पर साधा निशाना , कहा - दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो केंद्र सरकार क्या कर रही थी ?◾PM मोदी 29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्स्प्रेस-वे की रखेंगे नींव◾दिल्ली हिंसा : SIT ने शुरू की जांच, मीडिया और चश्मदीदों से मांगे 7 दिन में सबूत◾

केंद्र 65 श्रीलंकाई तमिलों की परेशानियों को करे खत्म : मद्रास हाई कोर्ट

मद्रास उच्च न्यायालय ने 1983 के दंगों के बाद श्रीलंका से भागे 65 तमिलों को नागरिकता प्रदान करने के पक्ष में पूरी मजबूती से तर्क रखे है। अदालत ने कहा है कि तमिलनाडु के जिस शिविर में यह रह रहे हैं, वहां स्थितियां 'नारकीय' हैं। 

इन तमिलों ने भारत को अपना स्थायी घर बनाने के उद्देश्य से श्रीलंका की समुद्री सीमा को पार किया और भारत पहुंचे लेकिन केंद्र ने इन्हें नागरिकता देने से इनकार किया है। वे दो दशकों से अधिक समय से कानूनी लड़ाई में लगे हुए हैं। हालांकि भारत सरकार ने उन्हें निर्वासित नहीं करने का वादा किया है, लेकिन भारतीय नागरिकता की उनकी मांग पर कोई फैसला नहीं किया है। 

याचिकाकर्ताओं की दुर्दशा पर सहानुभूतिपूर्ण दृष्टिकोण अपनाने और उनके लिए भारतीय नागरिकता हासिल करने के मानदंडों को शिथिल करने के लिए केंद्र से आग्रह करने के लिए उनकी याचिका पर पिछले हफ्ते मद्रास उच्च न्यायालय ने एक आदेश पारित किया। शरणार्थियों को मासिक नकद राशि, राशन, आवश्यक वस्तुएं, आवास, पोशाक सामग्री, बर्तन और मुफ्त शिक्षा मिलती है। 

नागरिकता के मुद्दे पर, तमिलनाडु सरकार का तर्क है कि वे एक अवैध मार्ग से पहुंचे और इसलिए उनकी शरणार्थी की स्थिति को नागरिकता में नहीं बदला जा सकता है। इस पर केंद्र का दृष्टिकोण भी राज्य के समान ही है। याचिकाकर्ताओं का दावा है कि वे गिरमिटिया मजदूरों के वंशज हैं जो औपनिवेशिक काल के दौरान श्रीलंका के चाय बागानों में बस गए थे, वे तमिल भाषी हैं और उनके पूर्वज तमिलनाडु से संबंध रखते हैं। 

न्यायाधीश जी.आर. स्वामीनाथन ने कहा, "एक अवैध प्रवासी इस तरह की छूट का दावा नहीं कर सकता है यदि वह समाज में चोरी-छिपे शामिल हो गया है। यहां ऐसा नहीं है। सरकार द्वारा स्थापित शिविरों में याचिकाकर्ताओं को रखा गया है।" अदालत ने केंद्र का ध्यान उन परिस्थितियों पर आकर्षित किया, जिन्होंने याचिकाकर्ताओं को भारत में शरण लेने और मानवीय आधार पर उनके मामले पर विचार करने के लिए मजबूर किया। 

अदालत ने यह पाया, "एक व्यक्ति जो अपने जीवन को बचाने के लिए संघर्ष कर रहा है, स्पष्ट रूप से उससे यह उम्मीद नहीं की जा सकती कि वह वीजा का इंतजार करेगा। वह ऐसा नहीं कर सकता। इसलिए, कानून की तकनीकी आवश्यकताओं के चश्मे के माध्यम से याचिकाकर्ताओं के मामले को देखना मानवीय दृष्टिकोण से सही नहीं होगा।"