BREAKING NEWS

नवाब मलिक ने केंद्र पर लगाया आरोप, कहा- निर्यात कंपनियों को महाराष्ट्र को रेमडेसिविर देने से किया मना ◾कोरोना से निपटने में असफल रही केंद्र सरकार, पूर्व PM के सुझावों को मोदी के पास भेजेगी कांग्रेस : CWC ◾कोरोना की स्थिति को लेकर राहुल का मोदी पर निशाना, 'श्मशान और कब्रिस्तान दोनों...जो कहा सो किया'◾बंगाल में 1:30 बजे तक 54.67 % हुआ मतदान, शांतिनगर क्षेत्र में TMC, भाजपा समर्थकों के बीच हुई झड़प◾सोनिया गांधी ने केंद्र पर निशाना साधा, बोलीं- वैक्सीन के लिए आयुसीमा घटाकर 25 साल करे सरकार ◾PM मोदी बोले-2 मई को बंगाल की जनता 'दीदी' को देगी 'भूतपूर्व मुख्यमंत्री' का प्रमाणपत्र◾चारा घोटाला मामले में आजाद हुए लालू, रांची HC ने दी RJD सुप्रीमो को जमानत, जल्द होंगे जेल से रिहा ◾ओडिशा CM का PM मोदी को पत्र, कोरोना संकट के बीच कुछ कदम उठाने के दिए सुझाव◾CM गहलोत ने जनता के नाम संदेश में कहा- कोरोना की दूसरी लहर खतरनाक, सरकार नहीं रखेगी कोई कमी◾भारत में कोरोना का तांडव, एक दिन में 2 लाख 34 हज़ार लोग हुए संक्रमित, 1341 ने गंवाई जान◾PM मोदी ने की संत समाज से अपील, कहा- कुंभ को कोरोना संकट के चलते रखा जाए ‘प्रतीकात्मक’ ◾विश्व में कोरोना केस की संख्या 13.96 करोड़ के पार, मरने वालों का आंकड़ा 29.9 लाख से अधिक ◾सोनिया गांधी की अगुवाई में CWC की बैठक आज, कोरोना महामारी से पैदा हुए हालात पर होगी चर्चा ◾पश्चिम बंगाल : 6 जिलों की 45 सीटों पर वोटिंग जारी, PM मोदी ने लोगों से भारी संख्या में मतदान की अपील की◾राजधानी में फूटा कोरोना बम, 24 घंटे में आए 19,486 नये मामले और 141 की हुई मौत◾पश्चिम बंगाल चुनाव : EC ने शाम सात से सुबह 10 बजे तक रैलियों, जनसभाओं पर लगाया प्रतिबंध ◾कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए CICSE ने 10वीं,12वीं की परीक्षा टाली ◾ममता संविधान की रक्षा करने में विफल रहीं, केंद्रीय बलों पर लगा रही है आरोप : नड्डा ◾वीकेंड कर्फ्यू के दौरान ज्यादा अंतराल पर चलेंगी दिल्ली मेट्रो ट्रेनें, इन लाइन्स पर आधे घंटे का होगा इंतजार ◾भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी जल्द आएगा भारत, प्रत्यर्पण की मांग को ब्रिटेन सरकार ने दी मंजूरी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

विरोध को कुचल रहा है केन्द्र, संशोधित नागरिकता कानून पर पुनर्विचार हो : राकांपा

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस कार्रवाई के लिए केंद्र पर निशाना साधते हुए सोमवार को कहा कि विरोध के स्वरों को ‘‘कुचलना’’ दुर्भाग्यपूर्ण है और भाजपा नीत सरकार को नये कानून पर पुनर्विचार करना चाहिए। 

पार्टी ने कहा कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन हिंसक होने के मामले में पुलिस की भूमिका सवालों के घेरे में हैं। दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में पुलिस कार्रवाई और संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध की आग सोमवार को पूरे देश में फैल गई और हैदराबाद, लखनऊ, मुंबई और कोलकाता सहित देशभर के शिक्षा संस्थानों में छात्रों ने प्रदर्शन किया। 

राष्ट्रीय राजधानी में हिंसा के बाद हजारों की संख्या में छात्र सड़क पर उतर आए और उन्होंने पुलिस द्वारा जामिया पुस्तकालय में कथित रूप से आंसू गैस के गोले छोड़ने और बिना अनुमति के विश्वविद्यालय परिसर में प्रवेश करने की मांग की। 

राकांपा के मुख्य प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि वीडियो सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रहे हैं जिसमें कथित रूप से पुलिसकर्मी वाहनों में आग लगा रहा है। हालांकि, उन्होंने उस स्थान की जानकारी नहीं दी जहां पर वाहन जलाए गए। 

मलिक ने कहा, ‘‘ इस बात की जांच होनी चाहिए कि कैसे हिंसा फैली। शांतिपूर्ण प्रदर्शन के हिंसक होने से पुलिस की भूमिका सवालों के घेरे में आ गई है।’’ 

उन्होंने कहा कि भाजपा यह नहीं समझती की सरकार चलाने के लिए लोगों को भी भरोसे में लेना होता है। मलिक ने कहा, ‘‘सरकार को इस मामले पर पुनर्विचार करना चाहिए और लोगों की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए। वैसे भी मामला अदालत में विचाराधीन है।’’ 

राकांपा प्रवक्ता संजय तटकरे ने भी इसी तरह की राय रखी। राकंपा के प्रवक्ता संजय तटकरे ने कहा, ‘‘ यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि केंद्र सरकार विरोध को कुचल रही हैं। 

प्रदर्शनकारियों को लोकतांत्रिक तरीके से प्रदर्शन करने की अनुमति दी जानी चाहिए। हम मांग करते हैं कि पूरे देश में लोगों के विरोध के मद्देनजर सरकार संशोधित नागरिकता कानून पर पुनर्विचार करे।’’ उन्होंने रेखांकित किया कि असम गण परिषद भाजपा की सहयोगी है, लेकिन वह भी नए कानून का समर्थन करने के बाद विरोध कर रही है। तटकरे ने कहा, ‘‘ यह साबित हो चुका है कि इन पार्टियों पर भारी जनदबाव है जिसकी वजह से उन्होंने संशोधित नागिरकता कानून पर पुनर्विचार किया। इसलिए केंद्र सरकार को भी पुनर्विचार करना चाहिए।’’