BREAKING NEWS

J&K : घाटी में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी , लश्कर का शीर्ष कमांडर सहित 2 आतंकवादी ढेर◾खुले में नमाज पढ़ने के विरोध में उतरी भीड़, लोगों ने भजन-कीर्तन करते हुए दर्ज कराई आपत्ति◾यूपी विधानसभा चुनाव : जयंत चौधरी बोले- सपा के साथ गठबंधन को लेकर बातचीत चल रही है◾अखिलेश का भाजपा पर हमला, बोले- उन्हें सिर्फ 'जीभ चलाना' और 'जीप चढ़ाना' ही आता है ◾अब बिना आधार कार्ड वालों को भी लगेगी कोरोना की वैक्सीन, CM नीतीश ने दिए निर्देश◾ कश्मीर में आतंकियों का खूनी खेल जारी, कायर आतंकियों ने अब गोलगप्पे वाले की ली जान ◾PM मोदी 25 अक्टूबर को सिद्धार्थनगर में सात मेडिकल कालेजों का उद्घाटन करेंगे: CM योगी◾तमाम सियासी अटकलों को खारिज करते हुए तेजस्वी ने कहा- लालू बिहार आने को इच्छुक, लेकिन स्वास्थ्य नहीं दे रहा साथ◾लंबे समय बाद करीब पांच घंटे चली CWC मीटिंग, अगले साल चुना जा सकता है कांग्रेस अध्यक्ष◾लखीमपुर में मगरमच्छी आंसू बहा रहे थे भाई-बहन, क्या छत्तीसगढ़ ले जाएंगे मुंगेरी लाल के हसीन सपनों का रथ : BJP ◾अध्यक्ष बनने की मांग पर राहुल गांधी का जवाब- दबाव बनाया गया तो पुन: बन सकता हूं कांग्रेस प्रमुख ◾कांग्रेस वर्किंग कमेटी कम और 'परिवार बचाओ वर्किंग' कमेटी ज्यादा लगती है CWC की बैठक : BJP◾श्रीनगर के 5 में से 3 आतंकवादियों को हमने 24 घंटे से भी कम समय में ढेर कर दिया है: IGP विजय कुमार◾ अंडमान-निकोबार: अमित शाह ने कहा-यहां की हवाओं में हैं सावरकर और बोस, उनके साथ अन्याय हुआ◾राम वियोग में 'दशरथ' ने मंच पर ही त्याग दिए प्राण, रामलीला मंचन के दौरान हार्ट अटैक से कलाकार की मौत◾पुलवामा मुठभेड़ में ढेर हुआ लश्कर का खूंखार कमांडर उमर मुश्ताक, दो पुलिसकर्मियों की हत्या में था शामिल◾कांग्रेस केंद्रीय नेतृत्व को निशाने पर लेते हुए बोले CM शिवराज- ‘सर्कस’ जैसी हो गई है पार्टी की स्थिति◾कौन है Fletcher Patel? नवाब मलिक ने ट्वीट कर NCB से पूछे कई सवाल◾सिंघु बॉर्डर हत्या मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट के दरबार में, आंदोलनकारी प्रदर्शन की आड़ में कानून की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे ◾UN का दावा- लड़कियों को स्कूलों में पढ़ाई की इजाजत पर जल्द घोषणा करेगा तालिबान◾

Chhattisgarh 12th Board Exam : 1 जून से होंगी परीक्षाएं, घर से कॉपी लिखेंगे छात्र

देश में कोरोना महामारी के बीच 12वीं कक्षा के बोर्ड एग्जाम को लेकर चल रही खीचतान के बीच छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CGBSE) ने एक जून से परीक्षाएं कराए जाने का ऐलान किया है। परीक्षाओं को लेकर छत्तीसगढ़ सरकार ने जो पैर्टन अपनाया है उसके अनुसार, छात्रों को एग्जाम सेंटर्स से प्रश्नपत्र लेने, उन्हें घर ले जाकर 5 दिन के अंदर उत्तर पुस्तिका जमा कराने की अनुमति दी जाएगी।

CGBSE के सचिव वी के गोयल द्वारा शनिवार देर शाम जारी एक आदेश के अनुसार, बोर्ड ने कोविड-19 महामारी और राज्य के 2.86 लाख से अधिक छात्रों की सुरक्षा के मद्देनजर इस तरीके से परीक्षाएं कराने का फैसला किया है। आदेश में कहा गया है कि 12वीं कक्षा के छात्रों को चयनित केंद्रों से प्रश्नपत्र और खाली उत्तर पुस्तिका लेने के लिए एक जून से पांच जून तक पांच दिनों का समय दिया जाएगा। वे इन पांच दिनों में से किसी भी दिन प्रश्नपत्र ले सकते हैं। 

इसमें कहा गया है कि छात्रों को प्रश्नपत्र लेने की तारीख से पांच दिनों के भीतर अपने-अपने केंद्रों पर उत्तर पुस्तिका जमा करानी होगी। गोयल ने कहा कि उदाहरण के लिए अगर किसी छात्र ने एक जून को प्रश्नपत्र लिया है तो उसे कामकाजी घंटों के दौरान छह जून तक उत्तर पुस्तिका जमा करानी होगी। जो निर्धारित समय के भीतर उत्तर पुस्तिका जमा नहीं करा पाएंगे, उन्हें अनुपस्थित मान लिया जाएगा। 

उन्होंने बताया कि उत्तर पुस्तिका रविवार और छुट्टी वाले दिन भी जमा करायी जा सकती हैं। छात्रों को केवल अपने विषयों के प्रश्नपत्र लेने की सलाह दी जाती है। उन्होंने कहा कि उन्हें दूसरों की मदद लेने के बजाय खुद से जवाब लिखने चाहिए। गोयल ने कहा कि उत्तर पुस्तिका के पहले पृष्ठ पर छात्र का नाम, रोल नंबर, विषय, विषय कोड, हस्ताक्षर और तारीख संबंधी सभी जानकारियां होनी चाहिए।

छात्रों को उपस्थिति पंजी में हस्ताक्षर करने के साथ ही निजी तौर पर उत्तर पुस्तिका जमा कराने आना होगा। गोयल ने कहा कि अगर कोई छात्र उत्तर देने के लिए 20 पृष्ठ लेता है तो उसे उतने ही पृष्ठ अनिवार्य रूप से जमा कराने होंगे, चाहे वे खाली ही हों। बोर्ड पोस्ट या कुरियर से भेजी गई उत्तर पुस्तिका को स्वीकार नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि सभी छात्रों के लिए प्रश्न पत्र लेते और उत्तर पुस्तिका जमा कराते वक्त सामाजिक दूरी का पालन करना तथा मास्क पहनना अनिवार्य है। 

बोर्ड ने 19 मई 2021 को छात्रों की आंतरिक परीक्षा के नंबरों के आधार पर 10वीं कक्षा के नतीजे घोषित कर दिए थे। छत्तीसगढ़ सरकार ने इस साल मार्च में राज्य में सभी स्कूलों को बंद कर दिया था और कहा था कि वह 10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों को छोड़कर बाकी सभी को बिना परीक्षाएं कराए अगली कक्षा में प्रोन्नत कर देगी।