BREAKING NEWS

देश में अशांति पैदा करने वालों को माकूल जवाब देंगे : राष्ट्रपति ◾स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में केंद्र और राज्य सरकारों की तारीफ की◾कांग्रेस ने सुरजेवाला ने कहा- राजस्थान का ‘विश्वासमत’ प्रजातंत्र के लिए नई रोशनी लेकर आया है◾चीन से तनातनी के बीच बोले रक्षामंत्री - अगर दुश्मन हम पर हमला करता है तो मुंहतोड़ जवाब देंगे◾विधानसभा कार्यवाही के बाद बोले पायलट-पहले मैं सरकार का हिस्सा था, लेकिन अब नहीं◾गृहमंत्री अमित शाह ने कोरोना को दी मात, कोविड टेस्ट रिपोर्ट आई निगेटिव ◾गहलोत सरकार ने हासिल किया विश्वास मत, 21 अगस्त तक के लिए विधानसभा स्थगित◾राजस्थान विधानसभा में सरकार के बचाव में खड़े हुए सचिन पायलट, खुद को बताया सबसे मजबूत योद्धा◾कोर्ट की अवमानना मामले में वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण दोषी करार◾जम्मू-कश्मीर : स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले श्रीनगर में आतंकवादी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद◾सुशांत मामले में बदले संजय राउत के सुर, कहा-अभिनेता के परिवार को मिले न्याय◾कोरोना वैक्सीन बनाने वाले देशों में से एक होगा भारत, सरकार को वितरण रणनीति बनाने की जरूरत : राहुल गांधी◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 64 हजार 533 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 25 लाख के करीब◾दुनियाभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 2 करोड़ 7 लाख के पार, 7 लाख 52 हजार लोगों की मौत ◾LAC विवाद पर US ने दिया भारत का साथ, चीनी आक्रामकता की आलोचना करने वाला प्रस्ताव अमेरिकी सीनेट में पेश◾राजस्थान विधानसभा का सत्र आज से, BJP के अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ कांग्रेस लाएगी विश्वास प्रस्ताव◾स्वतंत्रता दिवस : कोरोना महामारी के बीच हर साल से अलग होगा समारोह, दिल्ली में की गई बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था ◾राजस्थान : विधायक दल की बैठक के बाद कांग्रेस ने कहा- सभी विधायकों ने भाजपा का षड्यंत्र विफल करने का लिया संकल्प ◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 5.60 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 11,813 नए केस◾आंध्र प्रदेश में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटों में 82 लोगों की मौत, 9996 नए मामले◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

छत्तीसगढ़ : धोखाधड़ी के आरोप में पूर्व बैंक प्रबंधक गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले के एक सरकारी बैंक के पूर्व प्रबंधक को कथित तौर पर ग्राहकों से धोखाधड़ी और वित्तीय अनियमितताओं के लिए गिरफ्तार कर लिया है। एक पुलिस अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी। अधिकारी ने आरोपी के खिलाफ शिकायत का उल्लेख करते हुए कहा कि सेन्ट्रल बैंक की रामानुज नगर शाखा के प्रबंधक पद पर रहते हुए आलोक गुप्ता ने कथित धोखाधड़ी करते हुए ग्राहकों के लिए मंजूर किए गए ऋण की राशि खुद हड़पने की मंशा से दूसरे खातों में स्थानांतरित की। 

सूरजपुर के पुलिस अधीक्षक राजेश कुकरेजा ने पीटीआई-भाषा से कहा, “इस संबंध में पिछले महीने दो मुकदमे दर्ज किए जाने के बाद से गुप्ता फरार चल रहा था। उसे शनिवार को झारखण्ड राज्य के गढ़वा जिले से गिरफ्तार किया गया।” 

उन्होंने कहा कि इसके अलावा कथित तौर पर गुप्ता को भागने में सहायता करने के आरोप में दो अन्य व्यक्तियों आलोक शुक्ला और रफीक खान को भी गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि पिछले महीने बैंक के दो ग्राहकों ने गुप्ता, तत्कालीन सहायक प्रबंधक सुरेंद्र मरांडी और तत्कालीन कैशियर अभिषेक मंडल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करवाई थी। 

यह तीनों रामानुज नगर शाखा में कार्यरत थे। अधिकारी ने कहा कि रामानुज नगर में पान की दुकान लगाने वाले राधेश्याम सिंह द्वारा दर्ज की गयी शिकायत के अनुसार उसने साल की शुरुआत में मुद्रा ऋण योजना के तहत बैंक से पांच लाख रुपये ऋण लेने के लिए गुप्ता को अर्जी दी थी। 

इसके बाद जब भी राधेश्याम ऋण के बारे में पूछता तब गुप्ता उस समय ऋण को मंजूरी न मिलने की बात कहकर टाल देता। बाद में सितंबर में जब राधेश्याम सिंह ने अपना जनधन बचत खाता देखा तो पाया कि उसे बैंक से पांच लाख रुपए का मुद्रा ऋण मंजूर किया गया है और एक मार्च को उसके खाते में धन जमा किया गया है। 

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सिंह के खाते में जमा सारा धन उस दिन और अगले दिन दूसरे खातों में स्थानांतरित किया गया जिसके बारे में सिंह को कोई सूचना नहीं थी। अधिकारी ने कहा कि सिंह ने उसके खाते से दूसरे खातों में गलत तरीके से धन स्थानांतरित करने के आरोप में पिछले महीने गुप्ता और मंडल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी। 

इसी प्रकार एक दूसरे ग्राहक दिनेश विश्वकर्मा ने भी बैंक से 20 लाख रुपए का ऋण लिया था। उसके खाते से भी बिना जानकारी के पांच लाख रुपए दो बार अन्य खातों में स्थानांतरित करने के बाद निकाल लिए गए। 

पुलिस अधिकारी ने बताया कि मुख्य साजिशकर्ता गुप्ता ने बैंक के तत्कालीन कर्मियों के साथ मिलकर अपनी बैंक आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल कर खातों में अवैध रूप से धन स्थानांतरित किया। उन्होंने कहा कि मंडल को पिछले महीने गिरफ्तार किया गया था और मरांडी की खोज जारी है। जाँच के दौरान 15 अन्य ग्राहकों ने बिना जानकारी के उनके खातों से धन की निकासी की बात पुलिस को बताई। पुलिस सभी शिकायतों की जाँच कर रही है।