BREAKING NEWS

J&K के बाद मोदी सरकार का एक और बड़ा कदम, 2 केंद्र शासित प्रदेशों का होगा विलय◾प्रधानमंत्री 25 नवम्बर को गुमला में रैली को करेंगे संबोधित◾सरकार चाहे कोई बनाए, किसानों का काम हम पूरा करेंगे : गडकरी ◾झारखंड : नक्सली हमले में एएसआई समेत 4 पुलिसकर्मी शहीद ◾कांग्रेस ने झारखंड चुनाव के लिए उम्मीदवारों की आखिरी सूची जारी की◾शेख हसीना के साथ बैठक सौहार्दपूर्ण रही : ममता ◾राजनाथ ने डीआरडीओ और घरेलू रक्षा उद्योगों के बीच सामंजस्य बनाने की अपील की ◾चुनावी बॉन्ड पर सरकार के पास जवाब नहीं : प्रियंका गांधी वाड्रा◾ कांग्रेस नेता अहमद पटेल बोले- बैठक अभी अधूरी है, कल हम फिर करेंगे बैठक ◾BHU में प्रो. फिरोज खान नियुक्ति विवाद पर छात्रों का धरना समाप्त,विरोध जारी◾राज्यसभा में उठा जेएनयू में फीस बढ़ोतरी का मुद्दा ◾TOP 20 NEWS 22 NOV : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कांग्रेस, NCP और शिवसेना गठबंधन पर बोले गडकरी- वे महाराष्ट्र को एक स्थिर सरकार नहीं दे पाएंगे◾मुंबई में शिवसेना ने मारी बाजी, किशोरी पेडनेकर बीएमसी की नई मेयर चुनीं गईं◾प्रकाश जावड़ेकर बोले- बीजिंग से कम समय में दिल्ली में प्रदूषण से निपट लेंगे◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान, बोले-पानी और सीवर के नए कनेक्शन पर देने होंगे 2,310 रुपये ◾NCP ने ली भाजपा की चुटकी, कहा- 'शरद पवार ने राजनीति के चाणक्य को दी मात'◾महाराष्ट्र : सरकार गठन को लेकर मुंबई में शाम 4 बजे होगी शिवसेना, NCP और कांग्रेस की बैठक◾संसद परिसर में कांग्रेस ने 'Electoral Bond' के खिलाफ किया प्रदर्शन◾गठबंधन पर संजय निरुपम तंज, कहा- 'तीन तिगाड़े काम बिगाड़े' वाली सरकार चलेगी कब तक?◾

अन्य राज्य

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा- मां होती है पहली शिक्षक

 1628

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने शिक्षक दिवस पर गुरुवार को यहां कहा कि मां किसी भी व्यक्ति के जीवन की पहली शिक्षक होती है। वह जीवन से जुड़ी हर वह बात सिखाती है जिसकी मदद से बच्चे के भविष्य की नींव मजबूत होती है। 

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज यहां शिक्षक दिवस के एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘मैं बचपन से यही कहावत सुनकर बड़ा हुआ हूं कि भगवान हर जगह मौजूद नहीं हो सकते। इसलिए उन्होंने अपना प्यार सब तक पहुंचाने के लिए मां को बनाया। हमारे देश में मां को भगवान का दर्जा दिया जाता है।

 मां सिर्फ बच्चे को जन्म ही नहीं देती बल्कि जीवन के पहले शिक्षक के रूप में उसे जीवन से जुड़ी हर वो चीज सिखाती है, जिसकी मदद से उसके भविष्य की नींव मजबूत बन सके।’’ उन्होंने कहा कि ‘‘ मां बच्चे के पहले कदम से ही उसे आत्मनिर्भर बनाती है, साथ ही अच्छी बुरी बातों से अवगत भी कराती है। मैं आभार प्रकट करता हूं उन माताओं से जो अपने बच्चे को इस तरह की शिक्षा के साथ बड़ा करतीं हैं।’’ दास ने कहा, ‘‘सभी शिक्षकों को अपनी शुभकामनाएं देता हूं। बस इतना ही कहूँगा, ‘’वन्दनीय हैं आप’। बस शिक्षक भी अपने ज्ञान, त्याग और तप से उस गरिमा को बनाये रखें।’’ 

मुख्यमंत्री ने अपने गुरुजनों को याद करते हुए कहा कि 5 सितंबर का दिन मुझे अतीत में कई साल पीछे ले जाता है। मुझे याद आता है मेरा अपना स्कूल और मेरे शिक्षक। मैं आज जो कुछ भी हूं और जो अपने राज्य के लिए कर पा रहा हूं। यह उन्हीं के दिए हुए ज्ञान का प्रतिफल है। मुझे आज भी याद है वो दिन जब मैं हरिजन स्कूल भालूबासा में पढ़ाई करता था। आज के दिन मैं बेहद ही उत्साहित रहता था, क्योंकि गुरु के सम्मान के लिए हम रंगारंग कार्यक्रम पेश करते थे। 

रघुवर दास ने कहा भारत में गुरु-शिष्य परंपरा काफी पुराने समय से चली आ रही है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं नमन करता हूं प्रख्यात शिक्षाविद, भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन को, जिन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में बहुत योगदान दिया है। उनका कहना था कि ’“यदि सही तरीके से शिक्षा दी जाए तो समाज की बुराईयों को मिटाया जा सकता है”’।

 शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान को देखते हुए उनके जन्म दिन को हम सभी शिक्षक दिवस के रूप में मनाते हैं। मैं झारखंड वासियों से अनुरोध करता कि शिक्षकों का सम्मान करें और स्वयं शिक्षित हों और दूसरे को भी शिक्षित बनाएं। क्योंकि शिक्षा ग्रहण करने की कोई उम्र नहीं होती।