BREAKING NEWS

अयोध्या के विवादित ढांचा को ढहाए जाने के मामले में कल्याण सिह को समन जारी◾‘Howdy Modi’ के लिए ह्यूस्टन तैयार, 50 हजार टिकट बिके ◾‘Howdy Modi’ कार्यक्रम के लिए PM मोदी पहुंचे ह्यूस्टन◾प्रधानमंत्री का ह्यूस्टन दौरा : भारत, अमेरिका ऊर्जा सहयोग बढ़ाएंगे ◾क्या किसी प्रधानमंत्री को ऐसे बोलना चाहिए : पाक को लेकर मोदी के बयान पर पवार ने पूछा◾कश्मीर पर भारत की निंदा करने के लिये पाकिस्तान सबसे ‘अयोग्य’ : थरूर◾राजीव कुमार की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज ◾AAP ने अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने में देरी पर ‘धोखा दिवस’ मनाया ◾ शिवसेना, भाजपा को महाराष्ट्र चुनावों में 220 से ज्यादा सीटें जीतने का भरोसा◾आधारहीन है रिहाई के लिए मीरवाइज द्वारा बॉन्ड पर दस्तखत करने की रिपोर्ट : हुर्रियत ◾TOP 20 NEWS 21 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रामदास अठावले ने किया दावा - गठबंधन महाराष्ट्र में 240-250 सीटें जीतेगा ◾कृषि मंत्रालय से मिले आश्वासन के बाद किसानों ने खत्म किया आंदोलन ◾फडणवीस बोले- भाजपा और शिवसेना साथ मिलकर लड़ेंगे चुनाव, मैं दोबारा मुख्यमंत्री बनूंगा◾चुनावों में जनता के मुद्दे उठाएंगे, लोग भाजपा को सत्ता से बाहर करने को तैयार : कांग्रेस◾चुनाव आयोग का ऐलान, महाराष्ट्र-हरियाणा के साथ इन राज्यों की 64 सीटों पर भी होंगे उपचुनाव◾महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग, 24 को आएंगे नतीजे◾ISRO प्रमुख सिवन ने कहा - चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अच्छे से कर रहा है काम◾विमान में तकनीकी खामी के चलते जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में रुके PM मोदी, राजदूत मुक्ता तोमर ने की अगवानी◾जम्मू-कश्मीर के पुंछ और राजौरी जिलों में पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन◾

अन्य राज्य

CM कमलनाथ ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- पहले सिर्फ झूठे वादे किए और अब आलोचना कर रहे है

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्य में पंद्रह वर्षों तक राज करने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर आज हमला बोलते हुए कहा कि उसने सत्ता में रहने के दौरान लोगों से सिर्फ वादे कर उन्हें ठगा और अब विपक्ष में आने पर उसके नेता‘आलोचना की राजनीति’कर रहे हैं। 

कमलनाथ ने गुजरात की सीमा से सटे आदिवासी बहुल झाबुआ जिला मुख्यालय पर जनसभा को संबोधित किया। इस अवसर पर जनसंपर्क मंत्री पी सी शर्मा, पर्यटन मंत्री सुरेंद सिंह बघेल, कृषि मंत्री सचिन यादव और वरिष्ठ आदिवासी नेता कांतिलाल भूरिया भी मौजूद थे। श्री कमलनाथ ने झाबुआ में शीघ, ही होने वाले विधानसभा उपचुनाव की ओर इशारा करते हुए कहा कि यहां की जनता भाजपा के पंद्रह सालों और कांग्रेस के आठ माह के शासन की तुलना कर ले। उन्होंने कहा कि राज्य में कांग्रेस को सत्तारुढ़ हुए मात्र आठ माह ही हुए हैं। इस दौरान कांग्रेस ने अपनी नीति और नीयत का परिचय दिया है। कांग्रेस ने वचनपत्र में दिए गए वचनों को एक एक कर पूरा करने की शुरूआत कर दी है। 

अर्थव्यवस्था पर चिदंबरम का ट्वीट, कहा- क्या सरकार के पास देश को निराशा से बाहर निकालने की है कोई योजना

उन्होंने कहा कि किसानों की कर्जमाफी के अलावा बिजली, पेंशन और अन्य वचनों को ध्यान में रखकर सरकार ने कदम उठाए हैं। वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा ने अपने शासनकाल में सिर्फ हजारों घोषणाएं कीं। कांग्रेस ने जब सत्ता संभाली तो राज्य की तिजोरी खाली मिली। वहीं भाजपा के शासनकाल में प्रदेश किसानों की आत्महत्या, महिलाओं पर अत्याचार और बेरोजगारी आदि में देश में नंबर वन था। 

कांग्रेस ने सत्ता में आते ही चुनौतियों से निपटने के साथ प्रदेश को पटरी पर लाने और अपने वचनों को क्रमवार पूरा करने का कार्य शुरू किया। श्री कमलनाथ ने कहा कि वर्तमान परिदृश्य में राज्य में कृषि के साथ ही सबसे बड़ी चुनौती युवाओं को रोजगार मुहैया कराने की है। लेकिन रोजगार घोषणाओं से नहीं मिलेंगे। युवाओं को रोजगार मुहैया कराने के लिए राज्य में निवेश लाना होगा। यह निवेश विश्वास का वातावरण बनने पर आएगा। 

आतंकियों को पनाह और प्रशिक्षण देने वालों के लाफ कार्रवाई करने के लिए भारत पूर्ण रूप से सक्षम : PM मोदी

आर्थिक गतिविधियां बढ़ने पर रोजगार के अवसर बढ़गे। राज्य सरकार इन्हीं बातों को ध्यान में रखकर कार्य कर रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि लेकिन विपक्ष में बैठी भाजपा को यह सब रास नहीं आ रहा, इसलिए वह राज्य सरकार की आलोचनाओं का कोई अवसर छोड़ना नहीं चाहती है और आलोचना की राजनीति कर रही है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले पंद्रह सालों के दौरान राज्य में निवेश तो आया नहीं, उल्टे पुराने उद्योग बंद हुए हैं। 

कमलनाथ ने कहा कि भाजपा नेताओं के आने वाले दो माह बाद भाषण बंद हो जाएंगे और उनके झंडे भी उतर जाएंगे। क्योंकि दो माह बाद चुनाव (झाबुआ विधानसभा उपचुनाव) हो जाएंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा नेता सरकार के खिलाफ बयानबाजी चुनाव के कारण ही कर रहे हैं। वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस की विचारधारा में प्राथमिकताएं आदिवासी, किसान, कमजोर वर्ग और नौजवान हैं। 

वहीं भाजपा बड़े ठेकेदारों और व्यापारियों के बारे में सोचती है। उन्होंने कहा कि गरीब आदिवासियों को भी यह बात समझना चाहिए। कांग्रेस और भाजपा की सोच में मुख्य अंतर यही है। उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय से कांग्रेस को एक बार फिर समर्थन देने का अनुरोध करते हुए कहा कि उनकी सरकार झाबुआ अंचल के गांव गांव की समस्याएं सुलझाएगी। इस अंचल के आदिवासी संदेश दे सकते हैं कि वे भोलेभाले अवश्य हैं, पर मूर्ख नहीं हैं।