BREAKING NEWS

महा गतिरोध : सोनिया-पवार की मुलाकात अब सोमवार को होगी ◾शीतकालीन सत्र के बेहतर परिणामों वाला होने की उम्मीद : मोदी◾मुसलमानों को बाबरी मस्जिद के बदले कोई जमीन नहीं लेनी चाहिये - मुस्लिम पक्षकार◾GST रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सरल बनाने को लेकर वित्त मंत्री ने की बैठकें ◾भारत ने अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾विपक्ष में बैठेंगे शिवसेना के सांसद ◾आसियान रक्षा मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने बैंकाक पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ◾किसानों की आवाज को कुचलना चाहती है भाजपा सरकार : अखिलेश◾उत्तरी कश्मीर में पांच संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार ◾‘शिवसेना राजग की बैठक में भाग नहीं लेगी’ ◾TOP 20 NEWS 16 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रामलीला मैदान में मोदी सरकार की ‘जनविरोधी नीतियों’ के खिलाफ विपक्ष करेगी बड़ी रैली ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : भाजपा ने तीन उम्मीदवारों की चौथी सूची की जारी◾सबरीमला मंदिर के कपाट खुले, पुलिस ने 10 महिलाओं को वापस भेजा◾राफेल पर CM अरविंद केजरीवाल का प्रकाश जावड़ेकर को जवाब, ट्वीट कर कही ये बात ◾दिल्ली: राफेल डील में SC से क्लीन चिट के बाद AAP कार्यालय के पास भाजपा का प्रदर्शन◾नवाब मलिक ने फड़णवीस पर साधा निशाना, कहा- हार चुके सेनापति को अपनी हार स्वीकार करनी चाहिए◾गोवा में मिग 29 K लडाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त, दोनों पायलट सुरक्षित◾योगी ने स्वाती सिंह को किया तलब, सीओ को धमकाने का ऑडियो हुआ था वायरल◾संजय राउत का BJP पर शायराना वार, लिखा- 'यारों नए मौसम ने अहसान किया...'◾

अन्य राज्य

वाणिज्यिक और कारोबारी कानून अब अधिक महत्वपूर्ण बने : कोविंद

कटक : राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने आज कहा कि अर्थव्यवस्था के विकास और कानूनी पेशे के विस्तार के कारण वाणिज्यिक और कारोबारी कानून अब अधिक महत्वपूर्ण, जटिल और बौद्धिक उत्प्रेरक हो गये हैं। श्री कोविंद ने नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी ओडिशा के तीसरे स्थापना दिवस व्याख्यान में कहा कि व्यापार और वाणिज्य, अंतरराष्ट्रीय समझौते और यहां तक कूटनीतिक मसले भी वकीलों और विधि विशेषज्ञों के पास वार्ता और कुशल मसौदा प्रारुप के लिए लाये जाते हैं।

उन्होंने कहा कि मध्यस्थता और विधिक सेवाओं के भूमंडलीकरण ने आज के वकीलों को शेष विश्व से जोड़ दिया है। कानूनी पेशे के आधुनिकीकरण से विधि स्नातकों और युवा वकीलों के लिए इस क्षेत्र में अवसर बढ़ रहे हैं। श्री कोविंद ने कहा कि अदालतों में मुकदमे लड़ना कानूनी पेशे का मुख्य कार्य है लेकिन अब एक विधि स्नातक अपने लिए कई तरह राहें खोज सकता है। इस तरह के अवसर पहले उपलब्ध नहीं थे। राष्ट्रपति ने कहा कि वकील, अदालत का विधि अधिकारी होता है, लेकिन उसकी जिम्मेदारी मुवक्किल के प्रति होती है। उसका कर्तव्य है कि वह अदालत में न्याय के लिए सहायता करे।

उन्होंने कहा कि उन्हें यह जानकार प्रसन्नता हुई है कि नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी ओडिशा अपने छात्रों को नये क्षेत्रों से जोड़ रही है और उन्हें नयी जिम्मेदारियां दे रही है। यूनिवर्सिटी इंटरनेशनल ई-कामर्स लॉ और कारपोरेट गवर्नेंस के भी प्रस्ताव दे रही है। उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायालय दीपक मिश्रा ने स्थापना दिवस की महत्ता पर जोर देते हुए कहा कि आज का दिन स्मरण दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा,' हमें आत्ममंथन करना है कि हम भविष्य के लिए क्या कर सकते हैं।

ओडिशा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश विनीत सरन ने कहा कि नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी ओडिशा का नाम न केवल राष्ट्रीय स्तर पर है बल्कि इसकी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी ख्याति है। इस मौके पर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, केन्द्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द, प्रधान भी मौजूद थे। राष्ट्रपति आज सुबह भुवनेश्वर पहुंचे और नेताजी सुभाष चन्द, बोस राष्ट्रीय संग्रहालय भी गये। उन्होंने आनंद भवन संग्रहालय और अध्ययन केन्द, ओडिशा की जनता को समर्पित किया।

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी के साथ।