BREAKING NEWS

बिहार चुनाव : सोनिया बोलीं- दिल्ली और बिहार में बंदी सरकार, ना कथनी सही-ना करनी◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾पाकिस्तान : पेशावर के मदरसे में ब्लास्ट से 7 की मौत, 70 से अधिक घायल◾विश्व में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी,संक्रमितों की संख्या 4 करोड़ 33 लाख के पार◾TOP 5 NEWS 27 OCTOBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 80 लाख के करीब, एक्टिव केस सवा 6 लाख◾हाथरस मामला : सुप्रीम कोर्ट आज तय करेगा कि सीबीआई जांच की निगरानी SC करेगा या फिर हाईकोर्ट◾ 2+2 वार्ता : भारत और अमेरिका आज महत्वपूर्ण रक्षा समझौते पर करेंगे हस्ताक्षर◾महबूबा मुफ्ती को हवाई टिकट खरीदने चाहिए और अपने परिवार के साथ पाकिस्तान चले जाना चाहिए : नितिन पटेल ◾'भारत-अमेरिका के बीच सैन्य वार्ता सफल, BECA पर करेंगे साइन◾तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती के बयान से नाखुश पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा, NC ने भी किया किनारा◾स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत प्रधानमंत्री कल UP के लाभार्थियों से करेंगे बात ◾साक्षी महाराज ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- अनुपात के हिसाब से हो कब्रिस्तान और श्मशान◾राजनाथ सिंह ने अमेरिकी रक्षा मंत्री के साथ की वार्ता, रक्षा तथा सामरिक संबंधों पर हुई चर्चा ◾बिहार चुनाव : प्रचार के आखिरी दिन तेजस्वी पहुंचे हसनपुर, तेजप्रताप के लिए मांगे वोट ◾जेपी नड्डा ने चिराग पर साधा निशाना - कुछ लोग NDA में सेंध लगाना चाहते हैं, कर रहे है षड्यंत्र ◾भारत में कोविड-19 संबंधी मृत्युदर 1.50 प्रतिशत, 108 दिन बाद 500 से कम मौत हुई◾CM नीतीश ने महुआ में RJD पर बोला हमला - कुछ लोगों की भ्रमित करने और ठगने की आदत होती है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब', पराली जलाए जाने से दिल्लीवासियों पर कहर बरपाएगा प्रदूषण◾SC ने कोर्ट की निगरानी में CBI जांच की मांग वाली दिशा सालियान केस की याचिका को किया खारिज◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

BJP पर कांग्रेस का बड़ा आरोप, कहा-केंद्रीय नेतृत्व के इशारे पर गिराई गई थी कमलनाथ सरकार

मध्यप्रदेश कांग्रेस ने बुधवार को कमलनाथ सरकार को बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व के इशारे पर गिराए जाने का आरोप लगाया है। वहीं सत्तारूढ़ बीजेपी ने इस आरोप को खारिज करते हुए इसे "कांग्रेस की कुंठा का परिणाम" बताया है। दरअसल, कांग्रेस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के दो दिन पुराने कथित भाषण की ऑडियो-वीडियो क्लिप जारी की।

क्लिप जारी करते हुए कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रमुख जीतू पटवारी ने कहा, "मौजूदा मुख्यमंत्री चौहान इस भाषण में स्वीकार कर रहे हैं कि नरेंद्र मोदी सरकार और बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने तय किया था कि उन्हें मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार गिरानी है।" हालांकि कांग्रेस की जारी ऑडियो-वीडियो क्लिप की प्रामाणिकता की अभी स्वतंत्र तौर पर पुष्टि नहीं हो सकी है। 

उन्होंने कहा, "शिवराज सिंह की इस स्वीकरोक्ति के बाद कांग्रेस का यह आरोप साबित हो गया है कि कमलनाथ सरकार गिराने के लिए केंद्र ने जान-बूझकर लॉकडाउन की घोषणा देरी से की जिससे पूरे देश में कोरोना वायरस की महामारी फैल गई। लिहाजा इस महामारी के प्रकोप के लिए केंद्र सरकार दोषी है।"

जीतू पटवारी ने बताया कि शिवराज के ऑडियो-वीडियो क्लिप को लेकर कांग्रेस कानून के जानकारों से सलाह-मशविरा कर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने पर भी विचार कर रही है। उन्होंने कहा, "एक चुनी हुई सरकार को साजिश के तहत गिराना न केवल संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन है, बल्कि यह मतदाताओं के साथ किया गया पाप भी है।" 

प्रदेश कांग्रेस समिति के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि आठ जून को शिवराज इंदौर के दौरे पर आए थे। इस दौरान उन्होंने जिले की सांवेर विधानसभा सीट के आगामी उपचुनाव को लेकर शहर की रेसीडेंसी कोठी में बीजेपी नेताओं को संबोधित किया था। सलूजा के मुताबिक मुख्यमंत्री का विवादास्पद ऑडियो-वीडियो क्लिप उनके इसी भाषण का हिस्सा है।

कांग्रेस की जारी क्लिप में शिवराज चौहान और सिंधिया की सरपरस्ती में तुलसीराम सिलावट समेत कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के पालाबदल से कमलनाथ सरकार के पतन की ओर इशारा करते हुए कहते सुनायी पड़ रहे हैं, "हम (प्रदेश की) गाड़ी रुकने नहीं देंगे। लेकिन एक सवाल है कि केंद्रीय नेतृत्व ने तय किया कि यह सरकार गिरनी चाहिए।"

कांग्रेस के मुताबिक बीजेपी नेताओं को संबोधित कर रहे शिवराज चौहान क्लिप में आगे कहते सुनाई पड़ते हैं, "आप बताओ कि सिंधिया और सिलावट के बिना सरकार गिर सकती थी क्या?...और कोई तरीका ही नहीं था।"

BJP ने कांग्रेस के आरोपों को किया खारिज

प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने इस मामले में कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए कहा, "यह सच्चाई शुरुआत से ही उजागर है कि कमलनाथ सरकार से नाराजगी के कारण कांग्रेस के ही विधायकों के रूठने और टूटने से इस सरकार का पतन हुआ।" 

रजनीश अग्रवाल ने कहा, "जब कमलनाथ सरकार गिर गयी, तो बीजेपी  ने अपने केंद्रीय नेतृत्व के मार्गदर्शन में सूबे की जनता के हित में नई सरकार बनाई। शिवराज चौहान हमेशा से इसी आशय की बात करते रहे हैं। लेकिन सत्ता खोने से बुरी तरह कुंठित कांग्रेस मुख्यमंत्री के बयानों को लेकर आये दिन बेवजह के विवाद खड़े करती रहती है।" 

गौरतलब है कि सिलावट समेत कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के त्यागपत्र देकर बीजेपी में शामिल होने के कारण तत्कालीन कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी। इस कारण कमलनाथ को 20 मार्च को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। इसके बाद शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में बीजेपी 23 मार्च को सूबे की सत्ता में लौट आई थी।