BREAKING NEWS

जेटली का स्वास्थ्य बिगड़ने संबंधी खबरें झूठी, निराधार : सरकार ◾आतंकवादी भारत के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाएं, इसलिए किया गया था बालाकोट हमला : जनरल रावत ◾अमेठी में सुरेन्द्र सिंह की हत्या पर स्मृति ईरानी बोली - दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवायी जाएगी◾LIVE : सूरत हादसे पर PM मोदी ने जताया दुख, बोले- सूरत में हुए हादसे कई परिवारों के दीप बुझ गए◾राफेल सौदे में FIR या CBI जांच का कोई सवाल ही नहीं है : केंद्र ◾नरेन्द्र मोदी 30 मई को लेंगे प्रधानमंत्री पद एवं गोपनीयता की शपथ ◾इमरान खान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात, मिलकर काम करने की इच्छा जताई ◾मोदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी : बाबा रामदेव◾TOP 20 News 26 MAY : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾अमेठी पहुंची स्मृति ईरानी, करीबी पूर्व ग्राम प्रधान सुरेंद्र सिंह की अर्थी को दिया कंधा◾राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में पार्टी के सफाए से राहुल गांधी ज्यादा नाराज !◾अमेठी : सुरेंद्र सिंह के भाई ने बताया- राजनीतिक रंजिश में हुई हत्या◾शारदा घोटाला : सीबीआई ने जारी किया राजीव कुमार के खिलाफ लुकआउट नोटिस ◾ISIS की नौकाओं को लेकर खुफिया सूचना के बाद केरल के तटवर्ती इलाकों में हाई अलर्ट ◾मंत्री बनना चाहती हैं हेमा मालिनी◾मोदी की जीत पर विश्व नेताओं की बधाई का जारी है सिलसिला◾ये नए भारत का, नया उत्तर प्रदेश बनाने का जनादेश : योगी आदित्यनाथ◾नरेंद्र मोदी ने उपराष्ट्रपति नायडू से की मुलाकात, बताया शिष्टाचार भेंट◾बिहार : राजद को अब बदलनी होगी जातिवाद की रणनीति !◾प्रचंड जीत के बाद मां हीराबेन से मिलने जाएंगे मोदी, पटेल की मूर्ति पर करेंगे माल्यार्पण◾

अन्य राज्य

संविदा कर्मियों को हाईकोर्ट से झटका

नैनीताल : हाईकोर्ट ने प्रदेश के हजारों संविदा कर्मियों को बड़ा झटका दिया है। नैनीताल हाईकोर्ट की खंडपीठ ने राज्य सरकार की 2013 की नियमितीकरण की नियमावली पर अग्रिम रोक लगा दी है। साथ ही सरकार को आदेश दिया है कि इस नियमितीकरण नियमावली के तहत निगमों, परिषदों व अन्य सरकारी विभागों में कर्मचारियों को नियमित न करें।

दरअसल, नरेंद्र सिंह बिष्ठ व अन्य ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर राज्य सरकार की 2013 की नियमतिकरण नियमावली को चुनौती दी थी।याचिकाकर्ताओं का कहना है कि नियमतिकरण नियमावली सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ है। याचिकाकर्ताओं ने बताया कि इंजनीयरिंग में डिप्लोमा होल्डर हैं।

इसलिए सरकार के अधीन जेई पद पर नियुक्ति पाने की पूर्ण योग्यता रखते हैं लेकिन सरकार उनका चयन न करके बिना योग्यता और चयन प्रकिया को अनदेखा कर अयोग्य लोगों को नियुक्त कर रही है, जो सरासर गलत है।

इस मामले की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायधीश रमेश रंगनाथन व न्यायधीश न्यायमूर्ति आरसी खुल्बे की खण्डपीठ ने अस्थायी कार्मिकों के नियमितीकरण की नियमावली 2013 पर रोक लगा दी है। खण्डपीठ ने अगली सुनवाई दस दिन तय की है।