BREAKING NEWS

राहुल गांधी ने PM से पूछा-चीनी घुसपैठ को लेकर झूठ बोलने की वजह बतायें मोदी ◾देश में कोरोना संक्रमण के 56,282 नए मामलों की पुष्टि, मरीजों का आंकड़ा 19 लाख 64 हजार के पार ◾भारी बारिश के कारण जलमग्न हुई मुंबई, महाराष्ट्र में NDRF की 16 टीमों को किया गया तैनात◾अहमदाबाद के कोविड अस्पताल में आग लगी, 8 कोरोना मरीजों की मौत, CM रूपानी ने जांच के दिए आदेश◾भाजपा नेता मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उप राज्यपाल, जीसी मुर्मू ने दिया इस्तीफ़ा ◾World Corona : विश्व में महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 87 लाख से अधिक◾आंध्र प्रदेश में कोरोना के 10 हजार से अधिक नए मामले की पुष्टि, 77 की मौत◾लाखों दीपों से जगमगा उठी रामनगरी, पुष्पों से सजा शहर◾जम्मू कश्मीर पर बड़बोली टिप्पणी करने को लेकर भारत ने चीन को दी सख्त नसीहत◾महाराष्ट्र : मुंबई में तेज हवा के साथ भारी बारिश, कई इलाकों में रेड अलर्ट◾महाराष्ट्र में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटे में 334 लोगों की मौत, 10309 नए मामले◾प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रिया चक्रवर्ती को भेजा सम्मन, सात अगस्त को पूछताछ के लिए बुलाया ◾एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में जांच करेगी सीबीआई, केंद्र ने जारी की अधिसूचना ◾चीन का बड़बोलापन : जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाना अवैध और अमान्य, एकतरफा बदलाव अस्वीकार्य◾भूमि पूजन के बाद भावविभोर हुए योगी, बोले : 'रामराज्य' और 'नए भारत निर्माण' के युग का प्रारंभ◾अयोध्या : भूमि पूजन के दौरान चरम पर पहुंचा रामभक्तों का उत्साह, भावुक हुए श्रद्धालु◾भूमिपूजन पर बोले ओवैसी-यह लोकतंत्र की हार और हिंदुत्व की सफलता का दिन◾अयोध्या में सुनहरा अध्याय रच रहा है भारत, राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा राम मंदिर : PM मोदी ◾भूमि पूजन के बाद बोले मोहन भागवत-आज देश में सदियों की आस पूरी होने का आनंद◾राम मंदिर भूमि पूजन के बाद राहुल का तंज- घृणा और क्रूरता से प्रकट नहीं हो सकते राम◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अदालत ने एक्टिविस्ट के खिलाफ प्राथमिकी रद्द करने से किया इनकार

मद्रास उच्च न्यायालय ने तमिल समर्थक कार्यकर्ता तिरूमुरूगन गांधी की याचिकाओं को खारिज कर दिया। उन्होंने कथितनफरत फैलाने वाले भाषणों के लिए अपने खिलाफ दर्ज आठ प्राथमिकी रद्द करने की मांग की थी । अदालत ने कहा कि वाक् और अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर संविधान ऐसे बयानों की इजाजत नहीं देता है । 

न्यायमूर्ति आनंद वेंकटेश ने कहा कि याचिकाकर्ता द्वारा दिए गए भाषणों से निश्चित तौर पर विभिन्न समूहों और समुदायों के बीच दुश्मनी, घृणा की भावना को बढ़ावा मिलेगा। न्यायाधीश ने कहा कि पुलिस के लिए जरूरी है कि वह मामले की तह तक जाए और पता लगाए कि ‘‘इसका दायरा कहां तक है’’ और क्या याचिकाकर्ता सिर्फ मुखौटा भर है। ‘मई 17 आर्गेनाइजेशन’ के संस्थापक तिरूमुरूगन गांधी केंद्र और तमिलनाडु सरकार के खिलाफ अपनी टिप्पणी के लिए कई मामले का सामना कर रहे हैं। 

युवा कांग्रेस ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- विधायकों को पद छोड़ने के लिए बना रही है ‘दबाव’