BREAKING NEWS

अखिलेश सरकार में होता था दलितों पर अत्याचार, योगी बोले- जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो होगा जानामाना गुंडा ◾नागालैंड मामले पर लोकसभा में अमित ने कहा- गलत पहचान के कारण हुई फायरिंग, SIT टीम का किया गया गठन ◾आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾आज भारत पहुंचेंगे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, पीएम मोदी के साथ होगी शिखर वार्ता, ये होंगे मुद्दे ◾

नागरिकता संशोधन विधेयक पर संघीय व्यवस्था की परम्परा का पालन नहीं किया: कमलनाथ

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि नागरिकता संशोधन विधेयक पर केंद्र सरकार ने संघीय व्यवस्थाओं की परम्परा का पालन न करते हुए बहुमत के बल पर संशोधन विधेयक पास करवाया गया है। उससे देश की एकता और अखण्डता को खतरा पैदा हो गया है। 

 कमलनाथ शीतकालीन सत्र शुरू होने के पूर्व कल रात अपने निवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बहुमत से लोकसभा चलाई जा सकती है, लेकिन देश नहीं। महत्वपूर्ण और संवेदनशील मुद्दों पर सर्वसहमति और आपसी चर्चा जरूरी होती है। नागरिकता संशोधन विधेयक पर केंद्र सरकार को देश के सभी मुख्यमंत्रियों से बैठक कर चर्चा करनी चाहिये। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी देश की संस्कृति और विविधता को अक्षुण रखने और लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए यह जरूरी है कि निर्णय लेने की प्रक्रिया में सभी का सहयोग लिया जाए। उन्होंने कहा कि मौजूदा केंद्र  सरकार ऐसा नहीं कर रही है, इससे देश का भविष्य खतरे में पड़ गया है। 

 कमलनाथ ने एक वर्ष के कार्यकाल पूरा होने का उल्लेख करते हुए कहा कि इस दौरान उनके सामने बड़ी चुनौतियां थी। खाली खजाना था, भाजपा सरकार ने अपने कार्यकाल के अंतिम दिनों में 800 करोड़ की ऐसी योजनाएं लागू की थी जिनका बजट में कोई प्रावधान नहीं था। उनका भुगतान भी हमें करना पड़। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस दौरान केंद्र से जीएसटी का जो प्रदेश का हिस्सा मिलना था, वह भी नहीं मिल रहा है। 

उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार के समय केन्द्रीय योजनाओं में 90 प्रतिशत हिस्सा केंद्र  का और 10 प्रतिशत राज्य का हिस्सा होता था। वर्तमान में केंद्र में बैठी भाजपा सरकार ने इसे घटाकर 60 और 40 प्रतिशत कर दिया है। इन विपरीत परिस्थितियों में हमनें वचन पत्र के आधार पर प्राथमिकताएं तय की और ऋण माफी जैसे बड़ फैसले लिए और काम किया। 

मुख्यमंत्री ने विधायकों से कहा कि वे शीतकालीन सत्र के दौरान विपक्ष के गुमराह करने और झूठे आरोपों का पूरी ताकत से जवाब दें। उन्होंने सभी मंत्रियों से कहा कि वे पिछले एक साल के कामकाज की जानकारी विधायकों को दें ताकि वे वस्तु स्थिति सदन में रख सकें। प्रारंभ में मुख्यमंत्री ने झाबुआ के नव निर्वाचित विधायक कांतिलाल भूरिया का स्वागत किया। सामान्य प्रशासन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह ने सभी मंत्रियों और विधायकों का स्वागत किया।

नागरिकता बिल को लेकर राष्ट्रपति से मिलेगा विपक्षी दलों के प्रतिनिधिमंडल, शिवसेना नहीं होगी शामिल