BREAKING NEWS

UN का दावा- लड़कियों को स्कूलों में पढ़ाई की इजाजत पर जल्द घोषणा करेगा तालिबान◾जशपुर हादसा : मृतक गौरव अग्रवाल के परिजनों को 50 लाख का मुआवजा देगी छत्तीसगढ़ सरकार◾ कांग्रेस के 'जी 23' नेताओं से बोलीं सोनिया- फुल टाइम अध्यक्ष की तरह करती हूं काम, मीडिया का सहारा न लें ◾चीन की चेतावनी- भूटान बॉर्डर एमओयू पर अपना रुख न जताए भारत◾NCB पर CM उद्धव का तंज, चुटकी भर गांजा बरामद कर, मशहूर हस्तियों को पकड़ने में रखते हैं रुचि◾सोनिया की अध्यक्षता में CWC की हुई बैठक, कांग्रेस ने कहा- मोदी जी को नहीं दिखती जनता की तड़प◾जनता के साथ बेईमानी कर सत्ता में आई शिवसेना : देवेंद्र फडणवीस ◾CM ठाकरे का तीखा हमला- 'नशे की लत' की तरह हो गयी है BJP की सत्ता की भूख, ‘हिंदुत्व’ को इनसे खतरा◾सिंघु बॉर्डर हत्याकांड : निहंग सरबजीत की आज होगी कोर्ट में पेशी, किसान मोर्चा ने की जांच की मांग◾ भारत में कोरोना संक्रमण के 15 हजार से अधिक मामलों की पुष्टि, 166 मरीजों की हुई मौत ◾Petrol-Diesel : 35 पैसे की बढ़ोतरी के बाद दिल्ली में 105 रुपए प्रतिलीटर हुआ पेट्रोल, डीजल के दाम में भी इजाफा◾छत्तीसगढ़ : रायपुर के रेलवे स्टेशन पर खड़ी ट्रेन में विस्फोट, CRPF के 6 जवान घायल◾जम्मू-कश्मीर : पुलवामा मुठभेड़ में घिरा लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर उमर मुश्ताक◾ विश्व में कोविड संक्रमण के केस 24 करोड़ से अधिक, अब तक 6.58 अरब लोगों का हुआ टीकाकरण ◾कांग्रेस कार्य समिति की आज होगी बैठक, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा ◾देखें Video : छत्तीसगढ़ में तेज रफ्तार कार ने भीड़ को रौंदा, एक की मौत, 17 घायल◾चेन्नई सुपर किंग्स चौथी बार बना IPL चैंपियन◾बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार दशहरा देश भर में उल्लास के साथ मनाया गया◾सिंघु बॉर्डर : किसान आंदोलन के मंच के पास हाथ काटकर युवक की हत्या, पुलिस ने मामला किया दर्ज ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर कटाक्ष, बोले- आर्यन ड्रग्स मामले ने आशीष मिश्रा से हटा दिया ध्यान◾

भारत में चीन जैसा अनुशासन संभव नहीं, यहां हर 6 महीने में झेलनी पड़ेगी कोरोना की नयी लहर: HC

गुजरात उच्च न्यायालय ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार को इस बात को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य क्षेत्र के ढांचे का विकास करना चाहिए कि महामारी की तीसरी या चौथी लहर तक आ सकती है क्योंकि लोग मास्क पहनना, सामाजिक दूरी बनाए रखना और स्वच्छता जैसे नियमों का पालन नहीं करने जा रहे।

अदालत ने पाया कि भारत में चीन जैसा अनुशासन लागू नहीं हो सकता। न्यायमूर्ति बेला त्रिवेदी और न्यायमूर्ति भार्गव डी करिया की खंडपीठ ने गुजरात सरकार से कहा कि महामारी की किसी भी नयी लहर से निपटने के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं के ढांचे में सुधार करना होगा।

गुजरात में कोविड-19 हालात और इससे संबंधित अन्य मुद्दों पर स्वत: संज्ञान वाली जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान अदालत ने यह टिप्पणी की। अदालत ने कहा कि गुजरात के ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं को लंबी अवधि के लिए बेहतर करने की आवश्यकता है, ना कि केवल महामारी की दूसरी लहर से निपटने के लिए।

पीठ ने कहा, '' महामारी की तीसरी और चौथी के बारे में क्या करें? तीसरी लहर के बाद चौथी लहर आएगी क्योंकि राज्य के लोग मास्क पहनने और सामाजिक दूरी के नियमों का पालन नहीं करने जा रहे। इस देश में कोई ऐसा नहीं करने वाला, इसलिए हर छह महीने में एक नयी लहर आएगी।''

सुनवाई के दौरान अदालत ने महाधिवक्ता कमल त्रिवेदी से कहा, '' इस समझ के साथ आपको खुद को तैयार करना होगा।'' जब त्रिवेदी ने महामारी के मद्देनजर भारत की तुलना यूरोपीय देशों से की तो अदालत ने कहा, भारत की तूलना केवल एक देश चीन से की जा सकती है जोकि ''बेमिसाल'' है।

उन्होंने कहा, '' आपको केवल चीन से तुलना करनी होगी। यह बेमिसाल है। वहां जैसा अनुशासन, यहां लागू नहीं किया जा सकता इसलिए स्वास्थ्य ढांचे को बेहतर करिए।'' इस पर, त्रिवेदी ने कहा, '' किसी ने सही कहा है कि हमने लोकतंत्र की कीमत चुकायी है।'' सरकारी वकील ने अदालत को आश्वासन दिया कि सरकार कोविड बचाव संबंधी नियमों का अनुपालन सुनिश्चित करने का हरसंभव प्रयास कर रही है।