BREAKING NEWS

भाजपा बंगाल में सांप्रदायिक जहर फैलाकर जीती : ममता◾मतदाताओं और कार्यकर्ता का धन्यवाद करने वायनाड जायेंगे राहुल◾केरल के तटों पर हाई अलर्ट, ISIS के 15 आतंकवादी भारत में घुसने की फिराक में - खुफिया रिपोर्ट◾ममता के इस्तीफे की पेशकश को बीजेपी ने बताया 'नाटक' ◾सोनिया गांधी ने जीत के लिए अपने संसदीय क्षेत्र की जनता एवँ सपा-बसपा के कार्यकर्ताओं का आभार किया व्यक्त◾राज्य के विशेष दर्जा को बरकरार रखने के लिए एनसी लड़ेगी लड़ाई : फारूक अब्दुल्ला◾2019 के जनादेश ने लोकतंत्र को परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टीकरण के नासूरों से निकाला : शाह◾जनता का आभार जताने सोमवार को वाराणसी जाएंगे मोदी◾नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति से मिलकर सरकार बनाने का दावा किया पेश ◾संसदीय दल का नेता चुने जाने के बाद PM मोदी बोले- नये भारत के निर्माण के लिए हम अब नयी यात्रा शुरू करेंगे◾सूरत अग्निकांड : कोचिंग सेंटर का संचालक गिरफ्तार, बिल्डर फरार ◾जेट एयरवेज के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल, पत्नी को विदेश जाने से रोका◾TOP 20 News : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾ममता बनर्जी की मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे की पेशकश, पार्टी ने खारिज की ◾नरेंद्र मोदी भाजपा और राजग संसदीय दल के नेता चुने गए◾मुस्लिम परिवार ने नवजात का नाम रखा नरेन्द्र दामोदर दास मोदी ◾चुनाव आयोग ने लोकसभा के नवनिर्वाचित सदस्यों की सूची राष्ट्रपति को सौंपी◾राहुल ने की इस्तीफे की पेशकश, कार्य समिति ने इसे ठुकराया : सुरजेवाला ◾कांग्रेस कार्य समिति की बैठक खत्म, राहुल ने की इस्तीफे की पेशकश◾सूरत अग्निकांड में मृतकों की संख्या बढ़कर 23 हुई, कोचिंग सेंटर का संचालक गिरफ्तार◾

अन्य राज्य

मराठा कोटा देने के लिए फड़णवीस को शाह के रूख की अवज्ञा करनी होगी : पवार

राकांपा प्रमुख शरद पवार ने शुक्रवार को कहा कि महाराष्ट्र में मराठों को आरक्षण देते हुए राज्य के मुख्यमंत्री को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की अवज्ञा करने के लिए 'साहस' दिखाना होगा। दरअसल, शाह ने तेलंगाना में 25 नवंबर को चुनाव रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि सुप्रीम कोर्ट ने आरक्षण की सीमा 50 फीसदी तक सीमित कर रखी है।

पवार ने मुसलमानों के लिए भी कोटा तय किए जाने की हिमायत की और बीजेपी के इस रूख पर सवाल उठाया कि आरक्षण धार्मिक आधार पर नहीं दिया जा सकता। राकांपा प्रमुख ने शाह के बयान पर टिप्पणी करने को कहे जाने पर कहा, ‘‘उन्होंने (शाह ने) स्पष्ट रूप से कहा है कि आरक्षण की सीमा 50 फीसदी से अधिक नहीं हो सकती और इसकी मांग करना उचित नहीं है।

अब, मुख्यमंत्री (देवेंद्र फड़णवीस) की परीक्षा होनी है।’’ उन्होंने कहा कि अब हम यह देखना चाहते हैं कि क्या मुख्यमंत्री अपने पार्टी प्रमुख के रूख को खारिज करते हुए अलग विचार पेश करने का साहस कर पाते हैं ? गौरतलब है कि महाराष्ट्र विधानसभा ने 29 नवंबर को सर्वसम्मति से एक विधेयक पारित कर मराठों को नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में 16 फीसदी कोटा मुहैया किया है। इससे राज्य में आरक्षण की कुल सीमा मौजूदा 52 फीसदी से बढ़ कर 68 फीसदी हो गई है।

राफेल सौदे पर एनसीपी की सफाई, शरद पवार ने PM मोदी को नहीं दी कोई क्लीन चिट

मराठा कोटा विधान के खिलाफ हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका के बारे में पूछे जाने पर पवार ने कहा कि लोगों को अदालत का रूख करने का अधिकार है। पवार ने कहा, ‘‘इस विषय में हमारा सिर्फ यह रूख है कि सरकार को अन्य समुदायों (जिन्हें पहले से ही आरक्षण प्राप्त है) के हितों को नुकसान पहुंचाए बगैर नए समुदाय (मराठों) के लिए 16 फीसदी कोटा लागू करना चाहिए।’’

राकांपा प्रमुख ने मुसलमानों को आरक्षण दिए जाने के विषय पर कहा, ‘‘यह अवश्य दिया जाना चाहिए। यह शैक्षणिक, सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़ा तबका है...पिछली (कांग्रेस - राकांपा) सरकार ने एक फैसला (मुस्लिम कोटा का) लिया था। अदालत ने भी इसे मंजूरी दी थी। वहीं, सरकार आज कह रही है कि वह धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं देगी ...अन्य धर्मों के लोगों के बारे में भाजपा नेतृत्व का अलग विचार है।’’