BREAKING NEWS

चीन के साथ 1962 के युद्ध ने विश्व मंच पर भारत की स्थिति को काफी नुकसान पहुंचाया : जयशंकर ◾झारखंड में रघुबर दास नहीं, मोदी-शाह करेंगे चुनाव प्रचार का नेतृत्व ◾भारत ने अयोध्या, कश्मीर पर पाकिस्तानी दुष्प्रचार का दिया करारा जवाब◾शी चिनफिंग और मोदी के बीच वार्ता ◾महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना में विलगाव ने कांग्रेस-राकांपा को किया है एकजुट ◾गृहमंत्री अमित शाह शुक्रवार को जायेंगे सीआरपीएफ के मुख्यालय ◾झारखंड : भाजपा ने 15 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की ◾JNU में विवेकानंद की प्रतिमा के चबूतरे पर आपत्तिजनक संदेश◾राफेल की कीमत, ऑफसेट के भागीदारों के मुद्दों पर सरकार के निर्णय को न्यायालय ने सही करार दिया : सीतारमण ◾झारखंड चुनाव के पहले चरण के लिए कांग्रेस के 40 स्टार प्रचारकों की सूची जारी ◾आतंकवाद के कारण विश्व अर्थव्यवस्था को 1,000 अरब डॉलर का नुकसान : PM मोदी◾महाराष्ट्र गतिरोध : कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना में बातचीत, सोनिया से मिल सकते हैं पवार ◾मोदी..शी की ब्राजील में बैठक के बाद भारत, चीन अगले दौर की सीमा वार्ता करने पर हुए सहमत ◾कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान ने भारत से किसी भी समझौते से किया इनकार ◾राफेल के फैसले से JPC की जांच का रास्ता खुला : राहुल गांधी ◾राफेल पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद देवेंद्र फड़णवीस बोले- राहुल गांधी को अब माफी मांगनी चाहिए ◾नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा- शुद्ध हवा सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री को ठोस कदम उठाने चाहिए◾TOP 20 NEWS 14 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾RSS-भाजपा को सबरीमाला पर न्यायालय का फैसला मान लेना चाहिए : दिग्विजय सिंह ◾महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने को लेकर CM ममता ने राज्यपाल कोश्यारी पर साधा निशाना ◾

अन्य राज्य

किसानों का सरकार के खिलाफ हल्ला बोल

हरिद्वार : अलकनंदा घाट पर राष्ट्रीय चिंतन शिविर के दूसरे दिन किसानों ने विभिन्न समस्याओं के निराकरण को लेकर सरकार पर हल्ला बोला। भाकियू अंबावता के राष्ट्रीय अध्यक्ष ऋषिपाल अंबावता ने कहा कि किसानों की दशा दिशा सुधारने में सरकार उचित कदम नहीं उठा रही है। किसान लगातार कर्ज तले दब रहा है। उन्होंने कहा कि बिचैलियों के कारण चीनी मिलों में बकाया भुगतान किसानों को नहीं मिल पा रहा है। 

जिसके चलते किसानों की आर्थिक स्थिति लगातार कमजोर हो रही है। उन्होंने गंगा तट से आह्वान करते हुए कहा कि संगठन की शक्ति तभी संभव है। जब किसान संगठित होकर अपनी मांगों को सरकार के समक्ष गंभीरतापूर्वक रखें। किसानों की दिन प्रतिदिन बिगड़ती आर्थिक स्थिति के कारण किसान परिवारों का भरण पोषण नहीं कर पाता है। उन्होंने मांग की कि आपदा व ओलावृष्टि जैसी घटनाओं में किसानों की फसलें बर्बाद हो जाती हैं। 

किसान मुआवजे की मांग को लेकर इधर उधर भटकता रहता है। लेकिन सरकारी मशीनरी किसानों की समस्या को हल नहीं कर पाती है। ऐसे अधिकारियों को चिन्हित कर उनका भी विरोध किया जाना जरूरी है। ऋषिपाल अंबावता ने कहा कि तीन दिवसीय राष्ट्रीय चिंतन शिविर में भारत के विभिन्न राज्यों से आए किसान अपनी समस्याओं को चिंतन शिविर के माध्यम से सरकार के समक्ष रखें। 

उन्होंने राज्य सरकार पर भी दोहरी नीति का आरोप लगाते हुए कहा कि किसानों के लिए घोषणाएं तो कर दी जाती हैं। लेकिन घोषणाओं का सही तरीके से अनुपालन नहीं हो पाता है।  चौधरी ऋषिपाल अंबावता ने बताया कि राष्ट्रीय किसान आयोग गठित किए जाने की मांग को लेकर 1 जुलाई से लखनऊ में बड़ा आंदोलन शुरू किया जाएगा। आंदोलन में देश भर से हजारों किसान भाग लेंगे। उन्होंने कहा कि किसान आयोग के गठन के लिए केंद्र सरकार को 20 दिन का समय दिया गया है। यदि 20 दिन में किसान आयोग के गठन की कार्यवाही शुरू नहीं की जाती है तो आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा।

- संजय चौहान