BREAKING NEWS

BJP ने कांग्रेस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों को उकसाने का आरोप लगाया ◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : योगेन्द्र यादव, टिकैत, पाटकर सहित 37 किसान नेताओं के खिलाफ नामजद प्राथमिकी ◾राजनाथ ने अमेरिका के नये रक्षा मंत्री ऑस्टिन से क्षेत्रीय, वैश्विक मुद्दों पर बात की ◾बंगाल विधानसभा का दो दिवसीय सत्र शुरू, कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव लाएगी तृणमूल ◾हिंसा में शामिल थे किसान नेता, शर्तों को नहीं मानकर किया विश्वासघात : पुलिस कमिश्नर◾केंद्र सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस,1 फरवरी से खुलेंगे सिनेमा हॉल और स्वीमिंग पूल◾आप नेता राघव चड्डा ने हिंसा के मुद्दे पर बीजेपी को घेरा, लगाए कई गंभीर आरोप◾दिल्ली में हिंसा के लिए गृह मंत्री जिम्मेदार, कांग्रेस ने कहा- केवल 30 से 40 ट्रैक्टर लेकर उपद्रवी लाल किले में कैसे घुस पाए?◾हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पटाखों के डीलरों ने तेलंगाना HC द्वारा पटाखों पर प्रतिबंध के आदेश के खिलाफ किया SC का रुख

तेलंगाना फायर वर्कर्स डीलर्स एसोसिएशन (TFWDA) ने सुप्रीम कोर्ट में तेलंगाना हाई कोर्ट द्वारा दिए गए 12 नवंबर के आदेश पर रोक लगाने की मांग की है। अधिवक्ता सोमाद्रि गौड के द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि TFWDA के सदस्य हाई कोर्ट के आदेश से गंभीर रूप से प्रभावित हुए हैं जो कि आजीविका के उनके अधिकार का उल्लंघन है। दलील में कहा गया है कि हाई कोर्ट ने पटाखे बनाने वालों और उन्हें बेचने के काम में लगे लोगों के बारे में सोचे बिना ही इस आदेश को पारित कर दिया है। 

एसोसिएशन की तरफ से तर्क दिया गया है कि दीपावली की पूर्व संध्या पर पारित किया गया हाई कोर्ट का आदेश भारी वित्तीय कठिनाइयों का कारण बना है, पटाखे एक "मौसमी व्यवसाय है जिसके लिए भारी निवेश किया गया है। "इस आदेश को संविधान के अनुच्छेद 19 और 21 के तहत मौलिक अधिकारों का हनन करार देते हुए याचिकाकर्ता ने कहा है कि हाई कोर्ट उन “आर्थिक प्रतिकूलताओं पर विचार करने में विफल रहा जो लगभग लाखों लोगों और उनके परिवारों पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से प्रभाव डालेगी।”

भारत में यह फैसला सुनाया गया था कि केवल हरे और बेहतर पटाखों को पेट्रोलियम और विस्फोटक सुरक्षा संगठन (पीईएसओ) के निर्धारित मानकों के पालन में निर्मित और बेचे जाने की अनुमति होगी। याचिका में कहा गया है, "ये हरे पटाखे उत्सर्जन को 25-30% तक कम कर देते हैं।" जबकि तेलंगाना और कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिवाली के मौसम के दौरान पटाखों पर प्रतिबंध लगा दिया है, क्योंकि प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी और कोविड -19 स्थिति पर इसका प्रभाव पड़ सकता है, मद्रास उच्च न्यायालय ने हाल ही में तमिलनाडु और केंद्र सरकारों को वैकल्पिक रोजगार योजनाओं को शुरू करने का आदेश दिया जिनकी आजीविका ऐसे प्रतिबंधों से प्रभावित हुई है।

बता दें कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के तहत दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में सभी प्रकार के पटाखों पर 9 -10 नवंबर 2020 की मध्यरात्रि से 30 नवंबर - 1 दिसंबर 2020 की मध्यरात्रि तक कुल प्रतिबंध का आदेश दिया। एनजीटी ने आगे कहा कि इस तरह का प्रतिबंध पूरे देश के सभी शहरों / कस्बों पर भी लागू होगा जहां "नवंबर के दौरान परिवेशी वायु गुणवत्ता का औसत (पिछले वर्ष के उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार) 'खराब' और इससे ऊपर की श्रेणी में आता है।"