BREAKING NEWS

MI vs RR ( IPL 2020 ) : राजस्थान रॉयल्स ने मुंबई इंडियंस को 8 विकेट से हराया ◾अगर जीेसटी फेल है, तो पुरानी कर प्रणाली लागू करें : ठाकरे◾PM मोदी ने त्योहारों की खरीदारी में स्थानीय उत्पादों को प्राथमिकता देने का किया आहृवान◾सरहदों की सुरक्षा कर रहे सैनिकों के सम्मान में एक दीया जरूर जलाएं : PM मोदी ◾देशभर में सादगी से मनाया गया दशहरा, 'कोविड' का पुतला दहन किया गया ◾चीन के साथ तनाव खत्म करना चाहता है भारत लेकिन एक इंच भी जमीन नहीं लेने देंगे : राजनाथ ◾आज का राशिफल ( 25 अक्टूबर 2020 )◾बिहार : शिवहर से चुनावी उम्मीदवार श्रीनारायण सिंह की गोली मारकर हत्या◾KXIP vs SRH ( IPL 2020 ) : किंग्स इलेवन पंजाब ने सनराइजर्स हैदराबाद को 12 रनों से हराया ◾बिहार चुनाव : केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बोली- कमल का बटन दबाने से घर आएंगी लक्ष्मी◾महबूबा ने किया तिरंगे का अपमान तो बोले रविशंकर प्रसाद- अनुच्छेद 370 बहाल नहीं होगा◾KKR vs DC : वरुण की फिरकी में फंसी दिल्ली, 59 रनों से जीतकर टॉप-4 में बरकरार कोलकाता ◾महबूबा मुफ्ती के घर गुपकार बैठक, फारूक बोले- हम भाजपा विरोधी हैं, देशविरोधी नहीं◾भाजपा पर कांग्रेस का पलटवार - राहुल, प्रियंका के हाथरस दौरे पर सवाल उठाकर पीड़िता का किया अपमान◾बिहार में बोले जेपी नड्डा- महागठबंधन विकास विरोधी, राजद के स्वभाव में ही अराजकता◾फारूक अब्दुल्ला ने 700 साल पुराने दुर्गा नाग मंदिर में शांति के लिए की प्रार्थना, दिया ये बयान◾नीतीश का तेजस्वी पर तंज - जंगलराज कायम करने वालों का नौकरी और विकास की बात करना मजाक ◾ जीडीपी में गिरावट को लेकर राहुल का PM मोदी पर हमला, कहा- वो देश को सच्चाई से भागना सिखा रहे है ◾बिहार में भ्रष्टाचार की सरकार, इस बार युवा को दें मौका : तेजस्वी यादव ◾महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस कोरोना पॉजिटिव , ट्वीट कर के दी जानकारी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मध्यप्रदेश के कई हिस्सों में बाढ़ के हालात,कई गावों में भरा बारिश का पानी

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल सहित राज्य के कई हिस्सों में हो रही बारिश से कई नदी-नाले भी उफान पर हैं। कई गावों में पानी भर रहा है। कई स्थानों पर बाढ़ के हालात बना दिए हैं।  भोपाल के नजदीक तो एक परिवार को पेड़ पर ही रात गुजारना पड़ी है। वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए। 

राज्य के बड़े हिस्से में बीते 24 घंटों से सामान्य से भारी और अति भारी बारिश हो रही है। इसके चलते नर्मदा, बेतवा, जामनी, सिंध, धसान जैसी नदियों का जलस्तर बढ़ा है, साथ ही तमाम जलाशयों (डैम) का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है। इतना ही नहीं, नदी किनारे के गांवों में बाढ़ की स्थिति बन गई है। 

राजधानी के कोलार क्षेत्र के छान गांव में शुक्रवार की रात को अचानक पानी भरने से कई परिवार घिर गए। यहां के हरिनारायण को अपने दो बच्चों और गाय के बछड़े के साथ जान बचाने के लिए पेड़ पर चढ़ना पड़ा। पूरी रात वे पेड़ पर ही रहे, शनिवार को एनडीआरएफ के राहत और बचाव दल की मदद से हरिनारायण और उसके दोनों बेटों को सुरक्षित निकाला जा सका। 

राजधानी की निचली बस्तियों में भी पानी भर गया है। इसी तरह राज्य के अन्य हिस्सों के भी निचले इलाकों में जलभराव और नदी-नालों के उफान पर होने से जनजीवन प्रभावित होने की खबरें आ रही हैं। उज्जैन में तो क्षिप्रा नदी का जलस्तर बढ़ने से रामघाट के कई मंदिर ही पानी में डूब गए हैं। 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार की सुबह राज्य में हुई बारिश और बाढ़ के बनते हालात को लेकर अधिकारियों की बैठक बुलाई। इस मौके पर मुख्यमंत्री चौहान ने जिला मुख्यालय स्थित आपदा नियंत्रण केंद्र को 24 घंटे सक्रिय रखने के निर्देश दिए और सभी जिलाधिकारियों से कहा कि सभी बड़े बांधों एवं जलाशयों पर अमला पूरे समय अलर्ट की स्थिति में रहे। 

उन्होंने कहा कि बाढ़ की स्थिति में आपात राहत के लिए सभी उपयोगी उपकरण, खोज एवं बचाव दल आदि पूरी तरह तैयार और मुस्तैद रहे। इसके साथ ही जहां पानी भराव की स्थिति बनी हुई है, वहां के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट करने की व्यवस्था की जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने भी आम लोगों से अपील की है कि वे बारिश के कारण उन स्थलों पर जाने से बचें, जहां लोग मनोरम नजारा देखने के मकसद से जाते हैं। 

वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि प्रदेश के कई हिस्सों में अनवरत बारिश का दौर जारी है। कई निचले हिस्सों में पानी भर गया है, जलभराव से कई मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं। मुख्यमंत्री डूब क्षेत्र में आने वाले निचले इलाकों में तत्काल राहत व बचाव के कार्य शुरू कराएं, ताकि वहां रहने वालों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाए। उन्होंने आगे कहा कि खतरे वाले स्थलों पर जाने पर रोक लगाई जाए, वहां सुरक्षा के इंतजाम किए जाएं। बचाव व राहत के कार्य पूरी मुस्तैदी से किए जाएं