BREAKING NEWS

ट्रैक्टर रैली पर किसान और पुलिस की बैठक बेनतीजा, रिंग रोड पर परेड निकालने पर अड़े अन्नदाता ◾किसानों का प्रदर्शन 57वें दिन जारी, आंदोलनकारी बोले- बैकफुट पर जा रही है सरकार, रद्द होना चाहिए कानून ◾कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे चरण में प्रधानमंत्री मोदी और सभी मुख्यमंत्रियों को लगेगा टीका◾दिल्ली में अगले दो दिन में बढ़ सकता है न्यूनतम तापमान, तेज हवा चलने से वायु गुणवत्ता में सुधार का अनुमान ◾देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 15223 नए केस, 19965 मरीज हुए ठीक◾TOP 5 NEWS 21 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾विश्व में आखिर कब थमेगा कोरोना का कहर, मरीजों का आंकड़ा 9.68 करोड़ हुआ ◾राहुल गांधी ने जो बाइडन को दी शुभकामनाएं, बोले- लोकतंत्र का नया अध्याय शुरू हो रहा है◾कांग्रेस ने मोदी पर साधा निशाना, कहा-‘काले कानूनों’ को खत्म क्यों नहीं करते प्रधानमंत्री◾जो बाइडन के शपथ लेने के बाद चीन ने ट्रंप को दिया झटका, प्रशासन के 30 अधिकारियों पर लगायी पाबंदी ◾आज का राशिफल (21 जनवरी 2021)◾PM मोदी ने शपथ लेने पर जो बाइडेन और कमला हैरिस को दी बधाई ◾केंद्र सरकार के प्रस्ताव पर किसान नेताओं का रुख सकारात्मक, बोले- विचार करेंगे ◾लोकतंत्र की जीत हुई है : अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने पहले भाषण में कहा ◾जो बाइडेन बने अमेरिका के 46 वें राष्ट्रपति ◾कमला देवी हैरिस ने अमेरिका की उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ लेकर रचा इतिहास ◾सरकार एक से डेढ़ साल तक भी कानून के क्रियान्वयन को स्थगित करने के लिए तैयार : नरेंद्र सिंह तोमर◾कृषि कानूनों पर रोक को तैयार हुई सरकार, अगली बैठक 22 जनवरी को◾TMC कार्यकर्ताओं ने रैली में की विवादित नारेबाजी, नारे से तृणमूल ने खुद को किया अलग◾चुनावों से पहले ममता को एक और झटका, BJP में शामिल हुए अरिंदम भट्टाचार्य◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मध्यप्रदेश के कई हिस्सों में बाढ़ के हालात,कई गावों में भरा बारिश का पानी

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल सहित राज्य के कई हिस्सों में हो रही बारिश से कई नदी-नाले भी उफान पर हैं। कई गावों में पानी भर रहा है। कई स्थानों पर बाढ़ के हालात बना दिए हैं।  भोपाल के नजदीक तो एक परिवार को पेड़ पर ही रात गुजारना पड़ी है। वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए। 

राज्य के बड़े हिस्से में बीते 24 घंटों से सामान्य से भारी और अति भारी बारिश हो रही है। इसके चलते नर्मदा, बेतवा, जामनी, सिंध, धसान जैसी नदियों का जलस्तर बढ़ा है, साथ ही तमाम जलाशयों (डैम) का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है। इतना ही नहीं, नदी किनारे के गांवों में बाढ़ की स्थिति बन गई है। 

राजधानी के कोलार क्षेत्र के छान गांव में शुक्रवार की रात को अचानक पानी भरने से कई परिवार घिर गए। यहां के हरिनारायण को अपने दो बच्चों और गाय के बछड़े के साथ जान बचाने के लिए पेड़ पर चढ़ना पड़ा। पूरी रात वे पेड़ पर ही रहे, शनिवार को एनडीआरएफ के राहत और बचाव दल की मदद से हरिनारायण और उसके दोनों बेटों को सुरक्षित निकाला जा सका। 

राजधानी की निचली बस्तियों में भी पानी भर गया है। इसी तरह राज्य के अन्य हिस्सों के भी निचले इलाकों में जलभराव और नदी-नालों के उफान पर होने से जनजीवन प्रभावित होने की खबरें आ रही हैं। उज्जैन में तो क्षिप्रा नदी का जलस्तर बढ़ने से रामघाट के कई मंदिर ही पानी में डूब गए हैं। 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार की सुबह राज्य में हुई बारिश और बाढ़ के बनते हालात को लेकर अधिकारियों की बैठक बुलाई। इस मौके पर मुख्यमंत्री चौहान ने जिला मुख्यालय स्थित आपदा नियंत्रण केंद्र को 24 घंटे सक्रिय रखने के निर्देश दिए और सभी जिलाधिकारियों से कहा कि सभी बड़े बांधों एवं जलाशयों पर अमला पूरे समय अलर्ट की स्थिति में रहे। 

उन्होंने कहा कि बाढ़ की स्थिति में आपात राहत के लिए सभी उपयोगी उपकरण, खोज एवं बचाव दल आदि पूरी तरह तैयार और मुस्तैद रहे। इसके साथ ही जहां पानी भराव की स्थिति बनी हुई है, वहां के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट करने की व्यवस्था की जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने भी आम लोगों से अपील की है कि वे बारिश के कारण उन स्थलों पर जाने से बचें, जहां लोग मनोरम नजारा देखने के मकसद से जाते हैं। 

वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि प्रदेश के कई हिस्सों में अनवरत बारिश का दौर जारी है। कई निचले हिस्सों में पानी भर गया है, जलभराव से कई मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं। मुख्यमंत्री डूब क्षेत्र में आने वाले निचले इलाकों में तत्काल राहत व बचाव के कार्य शुरू कराएं, ताकि वहां रहने वालों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाए। उन्होंने आगे कहा कि खतरे वाले स्थलों पर जाने पर रोक लगाई जाए, वहां सुरक्षा के इंतजाम किए जाएं। बचाव व राहत के कार्य पूरी मुस्तैदी से किए जाएं