BREAKING NEWS

योगी का केजरीवाल पर तंज- राम को गाली देने वालों को अब आ रही अयोध्या की याद, पहले संभालिए दिल्ली ◾शिक्षित युवा पाकिस्तान के साथ अपनी पहचान क्यों चुनते हैं? केंद्र पता लगाए: महबूबा मुफ्ती◾अखिलेश यादव ने सरकार पर लगाया आरोप, कहा-भाजपा का 'झूठ का फूल' अब बना 'लूट का फूल' ◾मलिक ने लगाई आरोपों की झड़ी, कहा- सेलिब्रिटीज के फोन टैप करवाते हैं वानखेड़े, चलाते हैं 'वसूली गिरोह'◾नवाब मलिक के दावों को क्रांति वानखेड़े ने बताया गलत, बोलीं-मेरे पति एक ईमानदार अफसर◾पंजाब की सियासत में अमरिंदर खेलेंगे दाव? पूर्व मुख्यमंत्री कल कर सकते हैं नई राजनीतिक पार्टी की घोषणा ◾लखीमपुर हत्याकांड : SC का आदेश- गवाहों को दें सुरक्षा, जांच में तेजी लाए सरकार◾कांग्रेस-RJD की लड़ाई को सुशील मोदी ने बताया 'नूराकुश्ती', बोले-चुनाव के बाद हो जाएंगे एक◾दिल्ली : NCB प्रमुख से मुलाकात करने पहुंचे वानखेड़े, मलिक के आरोपों पर बोले DDG- करेंगे आवश्यक कार्रवाई ◾अनिल विज का मुफ्ती पर तीखा हमला- PAK की जीत पर पटाखे फोड़ने वालों का DNA नहीं हो सकता भारतीय ◾BJP खुद को मानती है केंद्रीय जांच एजेंसियों का आका, याद रखें कि लोकतंत्र में हमेशा होता है बदलाव : शिवसेना◾सोनिया की अगुवाई में AICC मीटिंग, कहा- सरकार की ज्यादतियों के खिलाफ और तेज करनी चाहिए लड़ाई ◾जम्मू-कश्मीर में आतंक गतिविधियों का सिलसिला जारी, बांदीपोरा विस्फोट में 5 नागरिक घायल◾समीर वानखेड़े ने फर्जी दस्तावेज से हासिल की सरकारी नौकरी, होनी चाहिए जांच : नवाब मलिक◾देश में कोरोना के मामलों में गिरावट, पिछले 24 घंटे में 356 मरीजों की हुई मौत ◾पाकिस्तानी पत्रकार संग दोस्ती को लेकर छिड़ा विवाद तो कैप्टन ने शेयर की सुषमा, सोनिया और मुलायम की तस्वीर◾दुनियाभर में कोरोना के मामले 24.4 करोड़ से अधिक, अब तक 6.83 अरब से ज्यादा लोगों का हुआ वैक्सीनेशन ◾दिल्ली: ओल्ड सीमापुरी में एक बहुमंजिला इमारत में लगी आग, दम घुटने से एक ही परिवार के 4 सदस्यों की हुई मौत ◾जम्मू-कश्मीर दौरे के आखिरी दिन शाह ने दी पुलवामा के शहीदों को श्रद्धांजलि ◾क्रूज ड्रग्स केस : निजी जासूस गोसावी ने की लखनऊ में आत्मसमर्पण करने की कोशिश, पुलिस ने किया इंकार ◾

पूर्व लोकसभा सांसद ए के रॉय का निधन

 पूर्व लोकसभा सांसद और मार्क्सवादी समन्वय समिति (एमसीसी) के संस्थापक ए के रॉय का रविवार को यहां एक अस्पताल में निधन हो गया। पार्टी सूत्रों ने बताया कि 90 वर्षीय रॉय के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। वह अविवाहित थे। 

उन्होंने बताया कि वरिष्ठ वाम नेता एवं सीटू झारखंड प्रदेश समिति के मुख्य संरक्षक को उम्र संबंधी दिक्कतों के कारण आठ जुलाई को यहां केंद्रीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने बताया कि उनके शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था जिसके कारण उनका निधन हुआ। 

पूर्व लोकसभा सांसद के निधन पर शोक जताते हुए झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि ‘‘रॉय के निधन से झारखंड में बड़ा शून्य पैदा हो गया है।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि राजकीय सम्मान के साथ राय का अंतिम संस्कार किया जाएगा। 

धनबाद से तीन बार सांसद रहे रॉय ने झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) प्रमुख शिबू सोरेन तथा पूर्व सांसद विनोद बिहारी महतो के साथ 1971 में अलग राज्य के लिये आंदोलन शुरू किया था। झारखंड 15 नवंबर 2000 को बिहार से अलग होकर नया राज्य बना। 

रॉय 1977, 1980 और 1989 में अविभाजित बिहार के धनबाद लोकसभा सीट से जीते। इसके अलावा उन्होंने बिहार विधानसभा में 1967, 1969 और 1972 में सिंदरी सीट का प्रतिनिधित्व किया। सोरेन ने कहा कि रॉय का निधन उनके लिये व्यक्तिगत क्षति है। 

जेएमएम प्रमुख ने कहा, ‘‘हमने एक ‘आंदोलनकारी’ खो दिया। उन्होंने हमेशा मजदूरों के अधिकारों के लिये लड़ाई लड़ी। उनका निधन मेरे लिये व्यक्ति क्षति है।’’ 

भारतीय ट्रेड यूनियन केंद्र (सीटू) ने अपने शोक संदेश में कहा कि रॉय ने अपना पूरा जीवन मजदूर वर्ग के कल्याण के लिये समर्पित कर दिया। 

इसके अनुसार, ‘‘उन्होंने मजदूरों के समर्थन में धनबाद में माफिया के खिलाफ लड़ाई लड़ी। उन्होंने सामाजिक बदलाव के लिये लड़ाई लड़ी। उनका निधन देश में मजदूर आंदोलन के लिये एक बड़ी क्षति है।’’ 

रॉय का जन्म सपुरा गांव में हुआ जो अब बांग्लादेश में है। उनके पिता शिवेंद्र चंद्रा रॉय वकील थे। उन्होंने 1959 में कलकत्ता विश्वविद्यालय से रसायन शास्त्र में एमएससी की और दो साल तक एक निजी कंपनी में काम किया। बाद में वह 1961 में पीडीआईएल सिंदरी में शामिल हो गए। 

1966 में आंदोलनकारी छात्रों पर पुलिस की गोलीबारी के विरोध में आयोजित ‘बिहार बंद’ में हिस्सा लेने पर उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। तत्कालीन सरकार का विरोध करने के कारण प्रोजेक्ट्स एंड डेवलेपमेंट इंडिया लिमिटेड (पीडीआईएल) प्रबंधन ने उन्हें नौकरी से निकाल दिया। 

इसके बाद रॉय श्रमिक संघ में शामिल हुए और उन्होंने सिंदरी फर्टिलाइजर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एफसीआई) और निजी कोयला खान मालिकों के खिलाफ आंदोलन शुरू किया। साल 1967 में उन्होंने माकपा की टिकट पर बिहार की सिंदरी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और जीत गए। 

हालांकि बाद में उन्होंने माकपा से इस्तीफा दे दिया और अपनी मार्क्सवादी समन्वय समिति बनाई। रॉय को उनके साथी और समर्थक ‘राजनीतिक संत’ बुलाते थे क्योंकि उनका बैंक खाता ‘शून्य बैलेंस’ ही दिखाता रहा। रॉय पिछले एक दशक से धनबाद से 17 किलोमीटर दूर पथाल्दिह इलाके में एक पार्टी कार्यकर्ता के घर में रह रहे थे। इससे पहले वह यहां पुराना बाजार में टेम्पल रोड पर अपने पार्टी कार्यालय में रहे। 

पूर्व एमसीसी विधायक आनंद महतो ने कहा, ‘‘वह देश के पहले सांसद थे जिन्होंने सांसदों के लिए 1989 में भत्ते एवं पेंशन बढ़ाने वाले प्रस्ताव का विरोध किया था हालांकि उनका प्रस्ताव गिर गया।