BREAKING NEWS

बोडो शांति समझौते पर हस्ताक्षर से पहले सभी पक्षकारों को विश्वास में लिया जाए : कांग्रेस ◾चीन में कोरोनावायरस संक्रमण से अभी तक कोई भारतीय प्रभावित नहीं : विदेश मंत्रालय ◾सभी शरणार्थियों को CAA के तहत दी जाएगी नागरिकता : पश्चिम बंगाल भाजपा प्रमुख ◾खेलो इंडिया की तर्ज पर हर वर्ष खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स आयोजित होगा : प्रधानमंत्री मोदी ◾हिंसा किसी समस्या का समाधान नहीं, शांति हर सवाल का जवाब : PM मोदी ◾उल्फा (आई) ने गणतंत्र दिवस पर असम में हुए विस्फोटों की जिम्मेदारी ली ◾गणतंत्र दिवस पर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री मोदी को संविधान की प्रति भेजी ◾ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो की मौजूदगी में भारत ने मनाया 71वां गणतंत्र दिवस ◾71वां गणतंत्र दिवस के मोके पर राष्ट्रपति कोविंद ने राजपथ पर फहराया तिरंगा◾गणतंत्र दिवस पर सैन्य शक्ति, सांस्कृतिक विरासत और सामाजिक-आर्थिक प्रगति का होगा भव्य प्रदर्शन◾अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर हरदीप सिंह पुरी ने दी बधाई ◾पूर्व मंत्रियों अरूण जेटली, सुषमा स्वराज और जार्ज फर्नांडीज को पद्म विभूषण से किया गया सम्मानित, देखें पूरी लिस्ट !◾कोरोना विषाणु का खतरा : करीब 100 लोग निगरानी में रखे गए, PMO ने की तैयारियों की समीक्षा◾गणतंत्र दिवस : चार मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश एवं निकास कुछ घंटों के लिए रहेगा बंद ◾ISRO की उपलब्धियों पर सभी देशवासियों को गर्व है : राष्ट्रपति ◾भाजपा ने पहले भी मुश्किल लगने वाले चुनाव जीते हैं : शाह◾यमुना को इतना साफ कर देंगे कि लोग नदी में डुबकी लगा सकेंगे : केजरीवाल◾उमर की नयी तस्वीर सामने आई, ममता ने स्थिति को दुर्भाग्यपूर्ण बताया◾ओम बिरला ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी◾PM मोदी ने पद्म पुरस्कार पाने वालों को दी बधाई◾

कांग्रेस, NCP और शिवसेना गठबंधन पर बोले गडकरी- वे महाराष्ट्र को एक स्थिर सरकार नहीं दे पाएंगे

बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के ‘गठबंधन’ को ‘‘अवसरवादी’’ करार देते हुए शुक्रवार को कहा कि यदि वे वहां सरकार बना भी लेते हैं तो वह छह-आठ महीने से अधिक नहीं चल पाएगी। 

झारखंड में विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए आए गडकरी ने कहा, ‘‘अलग-अलग विचारधारा रखने वाली इन पार्टियों द्वारा किया गया गठबंधन सिर्फ बीजेपी को सत्ता से बाहर रखने के लिए किया गया है, जो कि दुर्भाग्यपूर्ण है।’’ झारखंड में 30 नवम्बर से पांच चरणों में विधानसभा चुनाव होने का कार्यक्रम है। 

मुंबई में शिवसेना ने मारी बाजी, किशोरी पेडनेकर बीएमसी की नई मेयर चुनीं गईं

गडकरी कहा, ‘‘अवसरवादिता उनके गठबंधन का आधार है। ये तीनों पार्टियां केवल बीजेपी को सत्ता से बाहर रखने के मकसद से साथ एकजुट हुई हैं। मुझे संदेह है कि यह सरकार बन भी पाएगी... और अगर बन भी गई तो छह-आठ महीने से अधिक नहीं चल पाएगी।’’ गौरतलब है कि शिवसेना, कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) महाराष्ट्र में सरकार गठन के स्वरूप पर बातचीत कर रही हैं। 

दरअसल, महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री पद साझा करने पर (बीजेपी और शिवसेना के बीच) सहमति नहीं बनने के बाद शिवसेना ने अलग रास्ता ढूंढना शुरू कर दिया दिया। यह पूछे जाने पर कि क्या शिवसेना-बीजेपी का गठबंधन टूटने की स्थिति में बीजेपी सरकार बनाने की कोशिश करेगी, इस पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ऐसी परिस्थिति पैछा होने पर पार्टी अपनी भविष्य की रणनीति के बारे में फैसला करेगी। 

बिल्कुल अलग-अलग विचारधाराओं वाली पार्टियों के सरकार गठन के लिए एकजुट होने पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा, ‘‘ क्रिकेट और राजनीति में कुछ भी हो सकता है।’’ उन्होंने कहा कि शिवसेना और बीजेपी का गठबंधन ‘‘हिन्दुत्व’’ पर आधारित था। गडकरी ने कहा कि जब उन्होंने छानबीन की तब शिवसेना का मुख्यमंत्री पद साझा करने का दावा झूठा निकला। उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी अध्यक्ष और अन्य के अनुसार मुख्यमंत्री पद पर पार्टी को अपना रुख बाद में तय करना था, लेकिन चीजें दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से बदल गईं।’’ 

प्रकाश जावड़ेकर बोले- बीजिंग से कम समय में दिल्ली में प्रदूषण से निपट लेंगे

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री उस दल से होना चाहिए जिसके पास अधिक जनादेश है। गडकरी ने कहा कि मुख्यमंत्री कौन होगा, यह महाराष्ट्र पार्टी (बीजेपी) अध्यक्ष, राज्य के मुख्यमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर निर्भर करता है। गडकरी ने कहा, ‘‘ हमने अपनी पूरी कोशिश की।’’ 

यह पूछे जाने पर कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राकांपा प्रमुख शरद पवार के बीच हुई बैठक में क्या चर्चा हुई, उन्होंने कि वह इसके विवरण से अवगत नहीं हैं। सूत्रों ने बताया था कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की गुरुवार को हुई बैठक में पार्टी को महाराष्ट्र में शिवसेना और राकांपा के साथ मिलकर सरकार बनाने की सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान कर दी गई।