BREAKING NEWS

सोनिया से आज मिलेंगे नीतीश-लालू, लोकसभा चुनाव में विपक्ष को साथ लाने पर होगी चर्चा◾केरल : पूर्व मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आर्यदान मोहम्मद का निधन ◾क्या पायलट बनेंगे राजस्थान के नए सीएम? अशोक गहलोत गुट के मंत्रियों-विधायकों ने बदला पाला◾आज का राशिफल (25 सितंबर 2022)◾Ankita Bhandari murder case : उत्तराखंड CM धामी ने अंकिता भंडारी के पिता से फोन पर की बात◾राकांपा प्रमुख शरद पवार ने उपराष्ट्रपति धनखड़ से भेंट की◾बाल यौन उत्पीड़न सामग्री का प्रसार करने के खिलाफ सीबीआई की बड़ी कार्रवाई, देश में 56 जगहों पर छापे◾युक्रेन संघर्ष ने खाद्य पदार्थ और ऊर्जा संबंधी मुद्रास्फीति को बढ़ाया - जयशंकर◾त्रिपुरा में अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही भाजपा◾CM केजरीवाल ने कहा- डेंगू नियंत्रण पर उठाएंगे कई कदम, स्कूली छात्र होंगे शामिल◾ महाराष्ट्र : शिंदे की पीएफआई कार्यकर्ताओं को दो टूक, कहा - बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे 'पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे' ◾अमित शाह के वार पर RJD प्रमुख का पलटवार, बोले- भाजपा का होगा सफाया ◾ राजस्थान : कांग्रेस समर्थित निर्दलीय विधायक के बेटों को रिश्वत लेते हुए एसीबी ने किया गिरफ्तार ◾पीएफआई हिंसा पर विजयन का बड़ा बयान, कहा - पूर्व नियोजित थी हिंसा, दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा ◾दक्षिण में 2024 की तैयारी का जायजा लेने के लिए केरल के दो दिवसीय दौरे पर जाएंगे जेपी नड्डा ◾ 'आप' का राज्यपाल पर बड़ा आरोप, कहा - बीजेपी के इशारे पर कर रहे हैं काम◾Himachal Pradesh: कांग्रेस को झटका! आश्रय शर्मा बीजेपी में होंगे शामिल◾यूपी में मर्यादा तार -तार कक्षा तीन की छात्रो को प्रिंसिपल ने दिखाया अश्लील वीडीयो, मामला दर्ज◾हिजाब विवाद में फंसा ईरान, तेजी के साथ पूरे देश में फैल रही हैं प्रदर्शन की आग ◾Punjab News: होशियारपुर में गैस संयंत्र में धमाका, एक की मौत◾

गोवा सीएम का केजरीवाल पर पलटवार, बोले- स्कूल चलाने के लिए हमें सलाह की नहीं जरूरत

आम आदमी पार्टी (आप) पर कटाक्ष करते हुए गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने गुरुवार को कहा कि वह सरकारी प्राथमिक स्कूलों को चलाने के बारे में सलाह ना दें। इसके बजाय वो अपने स्कूलो की स्थिति की जांच करवाएं। सावंत, आप की गोवा इकाई के उस प्रस्ताव पर प्रतिक्रिया दे रहे थे, जिसमें आप ने सरकारी प्राथमिक स्कूलों को गोद लेने की पेशकश की थी कि गोवा सरकार छात्रों की कम संख्या के कारण कई स्कूलों के विलय की कोशिश कर रही है। आप ने कहा कि वे गोवा में नामांकन बढ़ाने और परिणामों में सुधार के लिए दिल्ली मॉडल का इस्तेमाल करेंगे।

वही, सावंत ने कहा, सरकार गोवा में स्कूल चलाने में सक्षम है। पिछले 60 वर्षों से सरकार प्राथमिक विद्यालय चला रही है। 2012 से 2022 तक भाजपा सरकार ने स्कूलों के बुनियादी ढांचे में सुधार किया है। हमें किसी की सलाह की जरूरत नहीं है। किसी भी राजनीतिक दल को स्कूल चलाने की जिम्मेदारी लेने की आवश्यकता नहीं है। सरकार सक्षम है। हम छात्रों की शिक्षा के बारे में चिंतित हैं। हमें भवन निर्माण की कोई चिंता नहीं है। हमें छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने की चिंता है। इसलिए, विलय का निर्णय सामने आया। 

केजरीवाल विधानसभा चुनावों को लेकर कर रहे तैयारी 

हालांकि, सावंत ने आगे कहा कि नई शिक्षा नीति, शिक्षा की गुणवत्ता, शिक्षा का स्तर, इन सभी पर विचार करते हुए हमने एक सर्वे शुरू किया है, हम स्कूलों को बंद नहीं कर रहे हैं। हम इसका विलय करना चाहते हैं और शिक्षकों को अच्छा बुनियादी ढांचा देना चाहते हैं। हम किसी से मार्गदर्शन नहीं चाहते हैं। 

 सावंत ने कहा, राजनीतिक दलों को यह नहीं दिखाना चाहिए कि वे कुछ महान करना चाहते हैं, उन्हें अपने राज्य में जाना चाहिए और अपने स्कूलों की स्थिति देखनी चाहिए। केवल ज्ञापन देकर यह दिखाने की कोशिश करना कि वे कुछ अच्छा कर रहे हैं.. हम स्कूल चलाने में सक्षम हैं। उन्होंने कहा कि विलय का प्रस्ताव 'योजना के चरण' में है। सावंत ने कहा, हम शिक्षकों और अभिभावकों सहित सभी हितधारकों को विश्वास में लेंगे। बस उनके मन में घबराहट पैदा न करें। शिक्षा मंत्री के रूप में मुझे चिंता है।