BREAKING NEWS

महा गतिरोध : सोनिया-पवार की मुलाकात अब सोमवार को होगी ◾शीतकालीन सत्र के बेहतर परिणामों वाला होने की उम्मीद : मोदी◾मुसलमानों को बाबरी मस्जिद के बदले कोई जमीन नहीं लेनी चाहिये - मुस्लिम पक्षकार◾GST रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सरल बनाने को लेकर वित्त मंत्री ने की बैठकें ◾भारत ने अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾विपक्ष में बैठेंगे शिवसेना के सांसद ◾आसियान रक्षा मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने बैंकाक पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ◾किसानों की आवाज को कुचलना चाहती है भाजपा सरकार : अखिलेश◾उत्तरी कश्मीर में पांच संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार ◾‘शिवसेना राजग की बैठक में भाग नहीं लेगी’ ◾TOP 20 NEWS 16 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रामलीला मैदान में मोदी सरकार की ‘जनविरोधी नीतियों’ के खिलाफ विपक्ष करेगी बड़ी रैली ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : भाजपा ने तीन उम्मीदवारों की चौथी सूची की जारी◾सबरीमला मंदिर के कपाट खुले, पुलिस ने 10 महिलाओं को वापस भेजा◾राफेल पर CM अरविंद केजरीवाल का प्रकाश जावड़ेकर को जवाब, ट्वीट कर कही ये बात ◾दिल्ली: राफेल डील में SC से क्लीन चिट के बाद AAP कार्यालय के पास भाजपा का प्रदर्शन◾नवाब मलिक ने फड़णवीस पर साधा निशाना, कहा- हार चुके सेनापति को अपनी हार स्वीकार करनी चाहिए◾गोवा में मिग 29 K लडाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त, दोनों पायलट सुरक्षित◾योगी ने स्वाती सिंह को किया तलब, सीओ को धमकाने का ऑडियो हुआ था वायरल◾संजय राउत का BJP पर शायराना वार, लिखा- 'यारों नए मौसम ने अहसान किया...'◾

अन्य राज्य

गोवा सरकार नई ऋण समितियों के पंजीकरण पर प्रतिबंध लगाने पर कर रही है विचार : CM सावंत

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने मंगलवार को यहां कहा कि राज्य सरकार धोखाधड़ी रोकने के लिए नकद ऋण देने का कारोबार करने वाली नई समितियों के पंजीकरण पर पांच वर्ष के लिए रोक लगाने पर विचार कर रही है। राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम द्वारा आयोजित एक कार्यशाला में सावंत ने कहा कि राज्य में ‘‘बहुत अधिक’’ नकद ऋण सहकारी समितियां हो गई है। 

उन्होंने कहा, ‘‘इन समितियों को कानूनी रूप से बंद करने की (संभावना) और (नई समितियों के पंजीकरण पर रोक लगाने पर) विचार कर रहे है ताकि पूर्व में हुए धोखाधड़ी के मामलों की पुनरावृत्ति को रोका जा सके।’’ उन्होंने कहा कि लोग परिचितों से पैसा इकट्ठा करते हैं, एक ‘क्रेडिट सोसाइटी’ बनाते हैं, उसके अध्यक्ष बनते हैं और फिर बेहिसाब ऋण देते हैं। 

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘बाद में समिति वित्तीय संकट में चली जाती है और दो साल में बंद हो जाती है और इस तरह निवेशकों का पैसा डूब जाता है।’’ उन्होंने कहा कि वह गोवा में सहकारी समितियों की स्थापना करने से बाहरी लोगों, विशेषकर ऐसे लोग जो अल्प अवधि में निवेशकों का पैसा दोगुना करने का वादा करते है, पर प्रतिबंध लगाने की संभावना पर भी विचार कर रहे है।