BREAKING NEWS

IPL नीलामी से पहले कोहली, रोहित, धोनी रिटेन ; दिल्ली की कमान संभालेंगे ऋषभ पंत, पढ़ें रिटेंशन की पूरी लिस्ट ◾गृह मंत्री अमित शाह दो दिन के राजस्थान दौरे पर जाएंगे, BSF जवानों की करेंगे हौसला अफजाई◾पंजाबः AAP नेता चड्ढा ने सभी राजनीतिक दलों पर लगाया आरोप, कहा- विधानसभा चुनाव में केजरीवाल बनाम सभी पार्टी होगा◾'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे पर गृह मंत्रालय का एक्शन - कोविड प्रोटोकॉल गाइडलाइन्स 31 दिसंबर तक बढा़ई ◾निलंबन वापसी पर केंद्र करेगी विपक्ष से बात, विधायी कामकाज कल तक टालने का रखा गया प्रस्ताव, जानें वजह ◾राहुल के ट्वीट पर पीयूष गोयल ने निशाना साधते हुए पूछा तीखा सवाल, खड़गे द्वारा लगाए गए आरोपों की कड़ी निंदा की ◾कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए बहाल करनी होगी धारा 370 : फारूक अब्दुल्ला◾स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने बताया - भारत में अब तक ओमिक्रॉन वेरिएंट का कोई मामला नहीं मिला◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के लिए नेताओं के विवादित बयान ◾UP: विधानसभा Election को सियासी धार देने के लिए BJP करेगी छह चुनावी यात्राएं, ये वरिष्ठ नेता होंगे सम्मिलित ◾UP चुनाव को लेकर मायावती खेल रही जातिवाद का दांव, BJP पर लगाए मुसलमानों के उत्पीड़न जैसे कई आरोप ◾

CM ममता के गैर-बंगाली अधिकारियों से अच्छे संबंधों का किया जिक्र, राज्यपाल धनखड़ ने जताई चिंता

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और राज्य की ममता सरकार के बीच मतभेद बना रहता है। शुक्रवार को राज्यपाल धनखड़ ने विधानसभा के दो दिवसीय सत्र के पहले दिन उनका अभिभाषण नहीं कराये जाने को लेकर सवाल उठाए। धनखड़ ने मुख्यमंत्री द्वारा गैर बंगाली अधिकारियों के साथ उनके (मुख्यमंत्री के) संबंधों का जिक्र करने पर भी चिंता जताई। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘‘संविधान का पालन करना अनिवार्य एवं अपरिहार्य है।’’ 

उन्होंने आगे ट्वीट किया, ‘‘अनुच्छेद 176 कहता है कि हर वर्ष के पहले सत्र में राज्यपाल विधानसभा को संबोधित करेंगे, यह दिखाता है कि केवल पश्चिम बंगाल विधानसभा ही है जहां यह नहीं हुआ।’’ विधानसभा अध्यक्ष बिमान बनर्जी ने गुरुवार को कहा था कि यदि सदन पिछले सत्र की निरंतरता में हुआ है, चाहे यह नववर्ष में ही हुआ है, तो सदन में राज्यपाल के अभिभाषण का कोई प्रावधान नहीं है तथा इसमें किसी भी नियम का उल्लंघन नहीं हुआ है। 

उन्होंने कहा कि विधानसभा का वर्तमान सत्र सितंबर 2020 के उसी सत्र की निरंतरता में हुआ है जब विधानसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हुई थी। धनखड़ ने मुख्यमंत्री द्वारा गैर बंगाली अधिकारियों के साथ उनके (मुख्यमंत्री के) संबंधों का जिक्र करने पर भी शुक्रवार को चिंता जताई। 

दरअसल, बनर्जी ने गुरुवार को तृणमूल कांग्रेस के मुख्यालय में हिंदी भाषी लोगों से बातचीत करते हुए कहा था कि डीजीपी वीरेंद्र, पूर्व मुख्य सचिव राजीव सिन्हा और कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार जैसे उनके कई अधिकारी अन्य राज्यों से हैं लेकिन इन अधिकारियों के साथ उनके संबंध बहुत ही अच्छे हैं। इस बाबत राज्यपाल ने कहा कि इससे नौकरशाहों की राजनीतिक तटस्था से समझौता किया गया है। 

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘अधिकारियों के नाम पर क्यों! इसमें प्रशासन तथा पुलिस को क्यों घसीटा! निश्चित ही राज्य सरकार में अधिकारियों की पदस्थापना क्षेत्रवाद या अन्य विषयों पर विचार करके नहीं की जा सकती। अब उच्च मानक तय करने का समय आ गया है जो पिछले चुनाव में निम्नतर रहे हैं।’’ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को बीजेपी पर बंगालियों और गैर-बंगालियों को बांटने का आरोप लगाते हुए राज्य की हिंदी भाषी आबादी से विधानसभा चुनाव में टीएमसी को समर्थन देने की अपील की थी।