BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

बंगाल में शैक्षणिक व्यवस्था का DNA विषाक्त : राज्यपाल धनखड़

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को मंगलवार को छात्रों के विरोध के कारण आयोजित प्रतिष्ठित दीक्षांत समारोह में भाग लिए बगैर लौटना पड़ा जिसके बाद उन्होंने ममता बनर्जी सरकार पर करारा प्रहार करते हुए कहा कि राज्य में शैक्षणिक व्यवस्था का डीएनए पूरी तरह विषाक्त हो चुका है। 

छात्रों को शांत करने के करीब डेढ़ घंटे के विफल प्रयास के बाद राज्यपाल ने विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन पर दुख व्यक्त करते हुए इसे ‘सुनियोजित’ करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘शैक्षणिक व्यवस्था का डीएनए पूरी तरह बर्बाद हो चुका है। मैंने कभी इस तरह से कानून का उल्लंघन होते नहीं देखा। राज्य सरकार की वजह से यह स्थिति बनी है। 

लोकतंत्र की कोई झलक नहीं दिख रही है।’’ राज्यपाल ने ट्वीट कर कहा,‘‘दीक्षांत समारोह को लेकर कुलपति को नियम के तहत काम करने एवं मेरे निर्देशों के पालन करने के निर्देश के बावजूद इस समारोह को शुरू करने को लेकर मैं हैरान हूं। धनखड़ ने छात्रों के विरोध प्रदर्शन पर विवि के कुलपति एवं अन्य पदाधिकारियों की भूमिका की भी तीखी आलोचना की। 

उन्होंने कहा,‘‘कुलपति और विवि के अन्य पदाधिकारी बाधा खड़ी करने वालों से किसी प्रकार की बातचीत करने के प्रयास करने के बजाय मीडिया को बाइट देने में व्यस्त थे।’’ गौरतलब है कि प्रदर्शनकारी छात्रों ने राज्यपाल को दीक्षांत समारोह में शामिल होने के लिए विश्वविद्याल में प्रवेश करने से रोक दिया। इसके बाद दीक्षांत समारोह के शुरु होने में भी देरी हुई। 

जादवपुर विवि में मंगलवार की घटना सोमवार की घटना की पुनरावृत्ति जैसी थी। धनखड़ को सोमवार को जादवपुर विश्वविद्यालय में छात्रों के गुस्से और ‘वापस जाओ’ के नारों का सामना करना पड़ा।