BREAKING NEWS

जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾कृषि कानूनों की वापसी का बिल लोकसभा में हुआ पारित, टिकैत बोले- यह तो होना ही था... आंदोलन रहेगा जारी ◾बिना चर्चा कृषि कानून बिल वापसी को विपक्ष ने बताया लोकतंत्र के लिए काला दिन, मिला ये जवाब ◾प्रदूषण के मद्दे पर SC ने अपनाया सख्त रुख, कहा- राज्य दिशानिर्देश नहीं मानेंगे, तो हम करेंगे टास्क फोर्स का गठन ◾कांग्रेस का केंद्र पर निशाना -बिल वापसी नहीं हुई चर्चा क्योंकि सरकार को हिसाब और जवाब देना पड़ता◾पीएम मोदी ने निभाया किसानों को दिया वादा, लोकसभा में हंगामे के बीच पास हुआ कृषि कानून वापसी बिल ◾प्रधानमंत्री मोदी की अपील का नहीं हुआ विपक्ष पर असर, हंगामेदार हुई दोनों सदनों की शुरुआत ◾

मुंबई में भारी बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त, चेंबूर और विक्रोली में दीवार गिरने से 10 लोगों की मौत

महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में बीती रात से लगातार बारिश जारी है। बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। भारी बारिश के बाद मुंबई के कई इलाकों में पानी भर चुका है।  मुंबई में शनिवार रात बारिश के कारण हुए भूस्खलन और नवी मुंबई के चेंबूर इलाके में मकान की दीवार गिरने से 7 लोगों की मौत हो गयी। जबकि विक्रोली में भी 3 लोगों की मौत हुई है।  यह जानकारी अधिकारियों ने रविवार को दी।माना जा रहा है कि  चेंबूर इलाके में मकान की दीवार गिरने से अंदर अभी और भी लोग फंसे हो सकते हैं, जिन्हें बचाने का काम जारी है।

एक दमकल अधिकारी ने बताया कि मुंबई में माहुल इलाके के वाशी नाका में एक मकान की दीवार ढह जाने से सात लोगों की मौत हो गई और दो अन्य लोग घायल हो गए। उन्होंने बताया कि देर रात करीब एक बजे एक पेड़ के गिर जाने से उससे सटी दीवार ढह गई। उन्होंने बताया कि घायलों को पास के राजावाड़ी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। नगर निकाय के एक अधिकारी ने बताया कि भारी बारिश के कारण मुंबई के विखरोली उपनगर में देर रात करीब ढाई बजे भूस्खलन के बाद पांच झोपड़ियों के ढह जाने से उसमें रहने वाले तीन लोगों की मौत हो गई और दो लोग घायल हो गए। घायलों को निकटवर्ती अस्पताल में भेजा गया है।एक अधिकारी ने बताया कि नवी मुंबई के वाशी में देर रात करीब एक बजे एक घर की दीवार ढह जाने से सात लोगों की मौत हो गई। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि मुंबई के उपनगर विक्रोली में देर रात करीब ढाई बजे भूस्खलन के बाद झोपड़ियों के ढह जाने से उसमें रहने वाले तीन लोगों की मौत हो गई। भारी बारिश के कारण शहर में जलभराव की गंभीर समस्या पैदा हो गई है और लोकल ट्रेन सेवा तथा यातायात भी प्रभावित है।

रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि रात भर हुई भारी बारिश के कारण पटरियों में जलभराव के कारण वित्तीय राजधानी में मध्य रेलवे और पश्चिम रेलवे की उपनगरीय ट्रेन सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है। इस बारिश ने 26 जुलाई, 2005 को 24 घंटे हुई बारिश के दौरान के 944 मिमी वर्षा होने की याद दिला दी। बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के अधिकारी ने बताया कि भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने भारी बारिश की पृष्ठभूमि में मुंबई के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।

'ग्रीन' अलर्ट का अर्थ है कि 'कोई चेतावनी नहीं' यानी अधिकारियों को कोई कार्रवाई करने की आवश्यकता नहीं है और यह हल्की से मध्यम बारिश का पूर्वानुमान होता है। 'रेड' अलर्ट ‘‘चेतावनी’’ का संकेत है जो अधिकारियों को ‘‘कार्रवाई करने’’ के लिए कहता है। 'ऑरेंज' अलर्ट बताता है कि अधिकारियों को ‘‘तैयार रहना’’ चाहिए।

आईएमडी ने सुबह जारी अपने बुलेटिन में बताया कि जलवायु परिस्थितियों में अचानक बदलाव के कारण मुंबई में छह घंटे में 100 मिमी से अधिक बारिश हुई। मौसम विभाग ने शहर के लिए बारिश के पूर्वानुमान को ‘ऑरेंज से रेड अलर्ट’ में भी बदल दिया है। आईएमडी ने बताया कि रविवार सुबह साढ़े छह बजे तक मुंबई और आसपास के इलाकों में पिछले 12 घंटों में 120 मिमी से अधिक बारिश हुई। आईएमडी ने अनुमान जताया कि मुंबई में कुछ स्थानों पर ‘‘भारी से बहुत भारी’’ वर्षा होगी और अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा होगी। आईएमडी के अनुसार, अत्यधिक भारी वर्षा का अर्थ है कि 24 घंटों में 204.5 मिमी से अधिक की वर्षा और भारी वर्षा 115.6 मिमी से 204.4 मिमी वर्षा के बीच होती है। शानिवार देर रात तीन बजे जारी बुलेटिन के अनुसार, आईएमडी ने सांताक्रूज में 213 मिमी, बांद्रा में 197.5 मिमी और शहर के कोलाबा में 174 मिमी बारिश दर्ज की।

भारी बारिश के बाद पश्चिम रेलवे ने कई जगहों पर जलजमाव के कारण उपनगरीय ट्रेन सेवाओं को स्थगित करने की घोषणा की। पश्चिम रेलवे के मुंबई संभाग के संभागीय रेल प्रबंधक ने ट्वीट किया, ‘‘कई जगहों पर जलजमाव होने के कारण अप और डाउन दोनों दिशाओं में पश्चिम रेलवे की कोई लोकल ट्रेन सेवा इस वक्त नहीं चलेगी।’’मध्य रेलवे ने बताया कि दादर, परेल, माटुंगा, कुर्ला, सायन, भांडुप और अन्य स्थानों पर पटरियों में जलभराव के कारण मुख्य लाइन पर सीएसएमटी और ठाणे के बीच ट्रेन सेवाएं स्थगित कर दी गईं। मध्य रेलवे के मुख्य प्रवक्ता शिवाजी सुतार ने कहा, ‘‘बांद्रा/गोरेगांव उपनगरीय सेवाओं सहित सीएसएमटी से वाशी तक सेवाएं भी बंद हैं।’’

पटरियों पर पानी भर जाने के कारण मध्य रेलवे और पश्चिम रेलवे दोनों पर लंबी दूरी की कई ट्रेनें प्रभावित हुईं। महामारी से पहले, मध्य रेलवे और पश्चिम रेलवे दोनों की 3,000 से अधिक उपनगरीय ट्रेन सेवाओं का प्रतिदिन 75 लाख से अधिक यात्री लाभ उठाते थे। महामारी के दौरान उपनगरीय ट्रेन सेवाएं आपातकालीन सेवाओं के कर्मचारियों और सरकारी कर्मचारियों तक ही सीमित हैं।

कोविड-19 को लेकर लोगों की सभी प्रकार की चिंताओं के निवारण पर चर्चा करें सांसद : नायडू