BREAKING NEWS

चिराग को LJP अध्यक्ष से हटाने के प्रयास तेज, पशुपति कुमार पारस अपने सभी सांसद समर्थको के साथ जाएंगे पटना ◾राम जन्मभूमि घोटाले पर बोले चंपत राय- सारे आरोप भ्रामक, पारदर्शिता के साथ खरीदी गई जमीन ◾देश में पिछले 24 घंटे में 60471 नए कोरोना केस की पुष्टि, 2726 मरीजों ने तोड़ा दम ◾दुनियाभर में कोरोना मामलों का आंकड़ा 17.6 करोड़ से अधिक, अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना ◾TOP - 5 NEWS 15TH JUNE : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾UP में 2022 में होनें वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर एक्शन में BJP सरकार, सभी मंत्री उतरेंगे मैदान में◾कोरोना वायरस के नए प्रकार ‘डेल्टा प्लस’ का पता चला, वैज्ञानिकों ने कहा-चिंता की कोई बात नहीं◾गलवान झड़प के 1 साल बाद LAC के पास डटे हुए है चीनी सैनिक, भारत ने मुकाबला करने के लिए की खास तैयारी ◾पशुपति कुमार पारस को लोकसभा में LJP के नेता के रूप में मान्यता दी गई◾राजस्थान : BSP से कांग्रेस में आए विधायकों ने बढ़ाई गहलोत की टेंशन, कहा- मंत्रिमंडल का विस्तार हो तो अच्छा है◾भूमि क्षरण ने दुनिया के दो-तिहाई हिस्से को प्रभावित किया : PM मोदी◾बढ़ती महंगाई पर चिदंबरम का केंद्र पर तंज, कहा- हर रोज ईंधन की कीमतें बढ़ाने वाले PM मोदी का शुक्रिया◾ममता बनर्जी का केंद्र पर कटाक्ष, कहा- सरकार की बेरुखी के चलते देश के किसान कष्ट में हैं ◾खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से आउट ऑफ कंट्रोल हुई खुदरा महंगाई दर, मई में बढ़कर 6.3 फीसदी पर पहुंची◾आगरा : 130 फीट गहरे बोरवेल से सुरक्षित निकाला गया 3 साल का शिवा, 8 घंटे तक चला सेना और NDRF का रेस्क्यू ऑपरेशन◾राजस्थान: गोवंश की तस्करी के शक में भीड़ ने शख्स की पीट-पीटकर की हत्या, दूसरे की हालत भी नाजुक◾राम मंदिर भूमि घोटाले की राहुल गांधी ने की कड़ी निंदा, कहा - श्रीराम के नाम पर धोखा अधर्म है ◾अनलॉक की राह पर बंगाल, जानिए किन चीजों में छूट के साथ ममता सरकार ने 1 जुलाई तक बढ़ाई पाबंदियां◾राम जन्मभूमि घोटाले के आरोपों पर बोले दिनेश शर्मा- बदनाम करने के लिए कोई मौका नही छोड़ता विपक्ष◾अडाणी ग्रुप ने अपने तीन विदेशी फंडों के खातों को जब्त किए जाने की खबर को बताया भ्रामक और गलत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

गुजरात HC की रुपाणी सरकार को फटकार - अगर पर्याप्त कोविड-19 बेड है, तो मरीजों को भर्ती क्यों नहीं करते

गुजरात उच्च न्यायालय ने कोविड-19 मरीजों के लिए पर्याप्त बेड होने के राज्य सरकार के दावे पर सवाल खड़ा किया और जानना चाहा कि यदि बेड खाली हैं तो संक्रमित व्यक्ति क्यों भर्ती नहीं किये जा रहे हैं। राज्य सरकार ने मंगलवार को उच्च न्यायालय में कहा कि कोविड-19 अस्पतालों एवं अन्य उपचार केंद्रों में 79,944 बेडों में 55,783 ही भरे हैं, बाकी खाली हैं। 

सरकारी वकील मनीषा शाह ने मुख्य न्यायाधीश विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति भार्गव करिया की खंडपीठ के समक्ष एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान तथ्य रखा। खंडपीठ ने दो सप्ताह पहले कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति का स्वत: संज्ञान लेते हुए इस याचिका पर सुनवाई शुरू की थी। 

पीठ ने सरकार से कहा, ‘‘ शिकायतें आ रही हैं, शायद आपके पास भी शिकायतें आ रही हों, मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है क्योंकि अस्पतालों में जगह नहीं हैं। बेड उपलब्ध नहीं हैं। आपने जो आंकड़ा दिया है, उससे तो यही जान पड़ता है कि निर्धारित अस्पतालों में खाली बेड हैं।’’ 

पीठ ने सरकार से सवाल किया, ‘‘(यदि यह सच है) तब लोग ईधर-उधर क्यों चक्कर काट रहे हैं, अस्पतालों में बेड एवं उपचार के लिए पहुंच एवं पैरवी क्यों ढूढ रहे हैं।’’ अदालत ने लोगों के इस दावे पर भी चिंता प्रकट की थी कि अब 108 एंबुलेंस उन मरीजों को लेने आने में काफी वक्त ले रहे हैं जो गंभीर हालत में हैं। 

अदालत ने यह भी जानना चाहा कि यदि गंभीर मरीज 108 एंबुलेंस के बजाय यदि निजी वाहन से आते हैं तो उन्हें सरकारी अस्पतालों में क्यों भर्ती नहीं किया जाता है। सरकार का बचाव करते हुए शाह ने कहा कि वैसे तो मरीजों के घर से कुछ ही दूरी पर कुछ अन्य उपचार केंद्रों में बेड तो हैं लेकिन लोग किन्हीं खास अस्पतालों में ही भर्ती होना चाहते हैं जिससे उन अस्पतालों में सारे बेड भर गये हैं। 

सरकारी वकील ने अदालत को यह आश्वासन भी दिया कि सरकार ने मेडिकल ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित की है और फिलहाल इस जीवन रक्षक गैस की कोई कमी नहीं है। मामले की अगली सुनवाई 27 अप्रैल को होगी।