BREAKING NEWS

Maharashtra: हम बोलते नहीं करके दिखाते! 2.5 साल से अटकी कई योजनाओं को दोबार शुरू किया... बोले CM शिंदे◾फतेहाबाद रैली के बाद विपक्षी एकता के साथ कितनी ताकत ! वामदल - समाजवादी दलों के जैसे कई क्षत्रपों का जमघट◾ कांग्रेस और वामदलों सहित एक मोर्चा बनाना समय की जरूरत : नीतीश ◾2024... मोदी vs विपक्ष! अब वक्त आ गया BJP के साम्राज्य को करें ध्वस्त, सरकार बनाने में दें हमारा सहयोग, पवार का तीखा वार◾ चंडीगढ़ हवाई अड्डे का नाम भगत सिंह के नाम करने पर उनके भतीजे ने पीएम का जताया आभार ◾मुसीबत में सियासत का जादूगर ! सचिन फैक्टर की मांग पूरी न होने पर कांग्रेस के बिखरने का डर ◾'Mann Ki Baat' कार्यक्रम को लेकर बोले जे.पी. नड्डा- मोदी को सुनने के बाद एकत्रित होकर करनी चाहिए बैठक◾ Gujarat elections: गुजरात के चुनावी रण में AIMIM ने खोले पत्ते, तीन प्रत्याशियों में से एक हिंदू महिला को दिया टिकट◾ सुरक्षाबलों ने दो आतंकवादियों को पहुंचाया जहन्नुम, माछिल सेक्टर में हुई थी मुठभेड़ ◾PAK: पीएम शहबाज शरीफ ने कहा- रूस से गेहूं आयात कर सकता है पाकिस्तान, जानें वजह◾शहीद भगत सिंह के नाम से जाना जाएगा चंडीगढ़ हवाई अड्डा, पीएम मोदी ने सुलझाया तीन राज्यों का झगड़ा ◾ankita murder case: गुस्से में देवभूमि, परिजनों ने कहा - अंतिम रिपोर्ट नहीं आने तक करेंगे अंत्येष्टि ◾विदेश मंत्री एस. जयशंकर बोले- ध्रुवीकृत दुनिया में भारत वास्तव में महत्व रखता है◾ankita murder case : बिना किसी पंजीकरण के चल रहा था आलीशान रिजॉर्ट? उत्तराखंड पर्यटन विभाग पर उठे कई सवाल ◾पंडित दीनदयाल जयंती पर बोले धनखड़- कोई वास्तव में कैसे भारत की आत्मा को समझ सकता है◾कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव से पहले शशि थरूर को झटका, गहलोत को मिला केरल के सांसदों का समर्थन ◾ Man Ki Baat : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को किया संबोधित◾बिहार में तेजस्वी यादव के मंदिर में चप्पल पहनकर जाने पर मचा बवाल, बीजेपी ने राजद पर साधा निशाना ◾अलीगढ़ : ड्रग विभाग ने दवाइयों के अवैध कारोबार पर छापा मारा, 4 करोड़ की दवाइयां जब्त◾ गहलोत के समर्थन में उतरे कई मंत्री, कहा - कांग्रेस अध्यक्ष के साथ CM की कुर्सी भी संभालें◾

Hijab controversy: गर्ल्स कॉलेज के शिक्षकों को मिल रही धमकियां, वकील ने हाईकोर्ट को दी जानकारी

कर्नाटक में हिजाब विवाद मामले में बुधवार को शिक्षकों की ओर से पेश वकील ने कर्नाटक हाईकोर्ट को सूचित किया कि हिजाब विवाद की पृष्ठभूमि में उडुपी प्री-यूनिवर्सिटी गर्ल्स कॉलेज के शिक्षकों को धमकी दी जा रही है। वरिष्ठ अधिवक्ता एस. एस. नागानंद ने मुख्य न्यायाधीश रितु राज अवस्थी की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों की पीठ को सूचित किया कि उन्हें शिक्षकों को धमकी दिए जाने की सूचना मिली है और इस संबंध में स्थानीय पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है।

मामले को पीठ के संज्ञान में क्यों नहीं लाया गया

उन्होंने कहा, शिक्षकों को एक संगठन द्वारा धमकी दी जा रही है। पीठ में मुख्य न्यायाधीश अवस्थी के अलावा न्यायमूर्ति कृष्ण एस. दीक्षित और न्यायमूर्ति जे. एम. खाजी भी हैं। वकील द्वारा सूचित किए जाने के बाद न्यायमूर्ति कृष्ण एस. दीक्षित ने आपत्ति जताई और पूछा कि मामले को पीठ के संज्ञान में क्यों नहीं लाया गया। उन्होंने कहा, आपको इसे हमारे सामने प्रकट करना चाहिए था। क्या आप इससे डरते हैं या क्या?  

सीएफआई ने हिजाब के लिए ढोल पीटना और छाती पीटना शुरू कर दिया है 

उन्होंने महाधिवक्ता प्रभुलिंग नवदगी से इस संबंध में पूछा तो नवदगी ने कहा कि उनके पास इस घटनाक्रम की जानकारी नहीं है और वे इस बारे में अपडेट मांगेंगे। नागानंद ने पीठ को राज्य में हिजाब विवाद पैदा करने में कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया (सीएफआई) की भूमिका के बारे में भी बताया। उन्होंने दावा किया, सीएफआई ने हिजाब के लिए ढोल पीटना और छाती पीटना शुरू कर दिया है। वे किसी के प्रतिनिधि नहीं हैं। यह एक कट्टरपंथी संगठन है जो आकर हिजाब विवाद पर हंगामा कर रहा है। 

राहुल के करीबी रहे RPN को नहीं दिख रहा ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ का असर, स्वामी मौर्य पर भी कसा तंज

क्या धमकी दी गई थी?  

इस पर चीफ जस्टिस ने पूछा कि सरकार के पास इस संगठन के बारे में क्या जानकारी है। उन्होंने पूछा, यह हिजाब विवाद अचानक कैसे सामने आया, क्या सरकार के पास खुफिया जानकारी है? नागानंद ने यह भी तर्क दिया कि प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों के खिलाफ धमकी के आरोप 'व्यापक और सामान्यीकृत' हैं।

उन्होंने कहा, यह उल्लेख नहीं किया गया है कि क्या धमकी दी गई थी? उन्हें अनुपस्थित चिह्न्ति करने के लिए धमकी दी गई है। यहां खतरा क्या है? उन्होंने आगे कहा, शिक्षकों का छात्रों पर अर्ध-अभिभावकीय अधिकार होता है। यदि बच्चा कुछ ऐसा कर रहा है जो उसे स्कूल में नहीं करना चाहिए, तो उन्हें चेतावनी दी जाएगी और यदि वे अभी भी कक्षा में अवज्ञा करते हैं, तो उन्हें दंडित किया जाएगा। यह एक अनुशासन की बात है।  

वे समारोहों में शामिल होते हैं, वे मदद करते हैं, सहायता करते हैं 

नागानंद ने कहा, स्कूलों के अधिकार को कम नहीं किया जा सकता है। 2004 के बाद से हिजाब के बारे में निर्णय पर सवाल नहीं उठाया गया है। ढोल पीटने वालों को समाज को खतरा नहीं होने दें। यह एक सामंजस्यपूर्ण समाज है और उडुपी में, जहां से हिजाब विवाद शुरू हुआ है, धार्मिक पुंटिफ मुसलमानों द्वारा समर्थित हैं वे समारोहों में शामिल होते हैं, वे मदद करते हैं, सहायता करते हैं। 

उडुपी प्री-यूनिवर्सिटी गर्ल्स कॉलेज से शुरू हुआ हिजाब विवाद  

उडुपी प्री-यूनिवर्सिटी गर्ल्स कॉलेज से शुरू हुआ हिजाब विवाद अब राज्य में एक संकट बन गया है। छात्राओं ने बिना हिजाब के कक्षाओं में जाने से इनकार कर दिया है और कहा कि वे अंतिम फैसला आने तक इंतजार करेंगे। उच्च न्यायालय ने एक अंतरिम आदेश जारी किया था, जिसमें अंतिम आदेश आने तक कक्षाओं के अंदर हिजाब और भगवा शॉल या स्कार्फ दोनों पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। इसके बाद से ही छात्र-छात्राओं की ओर से आंदोलन जारी है। विशेष पीठ मामले की रोजाना आधार पर सुनवाई कर रही है और अदालत ने वकील से इस सप्ताहांत तक अपनी दलीलें पूरी करने को कहा है।