BREAKING NEWS

कर्नाटक विधानसभा में नहीं हो सका विश्वास मत पर फैसला, सदन के अंदर BJP का धरना ◾सपा सांसद आजम भूमाफिया हुए घोषित, किसानों की जमीन पर कब्जा करने का है आरोप◾विपक्षी दलों को निशाना बना रही है भाजपा : BSP◾कर्नाटक : राज्यपाल ने सरकार को दिया शुक्रवार 1.30 बजे तक बहुमत साबित करने का समय◾कई बंगाली फिल्म व टेलीविजन कलाकार BJP में हुए शामिल ◾कर्नाटक का एक और विधायक पहुंचा मुंबई , खड़गे ने बताया BJP को जिम्मेदार ◾ इशरत जहां का आरोप-हनुमान चालीसा पाठ में भाग लेने को लेकर धमकी दी गई ◾कुलभूषण जाधव पर ICJ के फैसले को तत्काल लागू करें : भारत ने Pak से कहा ◾IT ने नोएडा में मायावती के भाई और भाभी का 400 करोड़ का 'बेनामी' भूखंड किया जब्त◾सोनभद्र प्रकरण : मृतकों की संख्या 10 हुई, UP पुलिस ने 25 लोगों को किया गिरफ्तार ◾विधानसभा में ही डटे बीजेपी MLA◾कर्नाटक विधानसभा में विश्वास मत पर चर्चा के दौरान हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक स्थगित - विस अध्यक्ष◾Top 20 News 18 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾कुलभूषण जाधव मामले में ICJ का फैसला भारत के रुख की पुष्टि : विदेश मंत्रालय ◾BJP में शामिल हुए पूर्व कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर, जीतू वघानी ने दिलाई सदस्यता◾कर्नाटक संकट : सिद्धारमैया ने कहा-SC के पिछले आदेश के स्पष्टीकरण तक फ्लोर टेस्ट करना उचित नहीं◾कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान- अनधिकृत कॉलोनियों के मकानों की होगी रजिस्ट्री◾मुंबई पुलिस ने दाऊद इब्राहिम ने भतीजे रिजवान कासकर को किया गिरफ्तार◾मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ IT विभाग की कार्रवाई, 400 करोड़ का प्लॉट जब्त◾

अन्य राज्य

केरल में हिंदु समुदाय ने मनाया पारंपरिक नववर्ष विशु

पूरे केरल में सोमवार को हिंदु समुदाय ने सौभाग्य लेकर आने वाले पारंपरिक नववर्ष विशु को उत्साहपूर्वक मनाया। मुख्य त्यौहार की पिछली रात को गृहणियां 'विशुकनी दर्शन' तैयार करती हैं, जो कि अपने देवता को प्रसन्न करने की एक पारंपरिक व्यवस्था है। इसे सुबह सबसे पहले देखने का रिवाज होता है। एक विशेष घड़ा, जिसे 'उराली' कहा जाता है, उसमें ताजी चीजें जैसे खीरा, नारियल, आम, केले का पत्ता, अनन्नास, कद्दू, चावल आदि भरकर मूर्ति के सामने रखा जाता है।

इस उत्सव में 'विशुकनी' सबसे पहले बुजुर्ग देखते हैं और फिर घर के बाकी सदस्यों को जगाते हैं। 'विशुकनी दर्शन' के पहले तक सबकी आंखे बंद रहती हैं। इस दिन एक और मुख्य आयोजन होता है। इसे 'विशुकाइनितम' (उपहार) कहते हैं, इसमें उपहार के तौर पर सिक्के देने का रिवाज है। इन आयोजनों के बाद परिवार के सदस्य मंदिर जाते हैं और फिर साथ में दोपहर का भोजन ग्रहण करते हैं। शुद्ध शाकाहारी भोजन में 26 तरह के पकवान को केले के पत्ते पर परोसा जाता है।