BREAKING NEWS

डॉक्टरों की देशभर में प्रदर्शन, महाराष्ट्र में 40,000 डॉक्टर हड़ताल पर ◾डॉक्टरों की सुरक्षा की मांग वाली याचिका पर सुनवाई कल : सुप्रीम कोर्ट ◾17वीं लोकसभा का पहला सत्र प्रारंभ, PM मोदी सहित नवनिर्वाचित सांसदों ने ली शपथ ◾संसदीय लोकतंत्र में सक्रिय विपक्ष महत्वपूर्ण, संख्या को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं : PM मोदी ◾वर्ल्ड कप में भारत की पाकिस्तान पर सबसे बड़ी जीत, लगा बधाईयों का तांता, अमित शाह ने बताया एक और स्ट्राइक ◾IMA की हड़ताल में शामिल होंगे दिल्ली के अस्पताल, AIIMS ने किया किनारा ◾ममता आज सचिवालय में जूनियर डॉक्टरों से करेंगी बैठक◾विश्व कप 2019 Ind vs Pak : भारत ने पाकिस्तान को डकवर्थ लुइस नियम के तहत 89 रन से रौंदा◾IMA के आह्वान पर सोमवार को दिल्ली के कई अस्पतालों में नहीं होगा काम ◾सभी वर्गों को भरोसे में लेकर करेंगे सबका विकास : PM मोदी◾PM मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ कूटनीतिक और रणनीतिक रिवायत को बदला : जितेन्द्र सिंह◾प्रणव मुखर्जी से मिले नीतीश कुमार◾बिहार में AES की रोकथाम और इलाज के लिए हरसंभाव सहायता देगा केंद्र : हर्षवर्द्धन◾कश्मीरी अलगाववादी नेताओं को विदेशों से मिला धन, निजी फायदे के लिए उसका किया इस्तेमाल : NIA◾Top 20 News - 16 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾एक राष्ट्र, एक चुनाव पर बात करने के लिए PM मोदी ने सभी दलों के प्रमुखों को किया आमंत्रित◾प्रदर्शनकारी डॉक्टरों ने कहा, CM जगह तय करें लेकिन बैठक खुले में होनी चाहिए ◾बिहार : मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों का आंकड़ा पहुंचा 93 ◾नए चेहरों के साथ संसद में आए नई सोच, तभी बनेगा नया भारत : PM मोदी◾धर्मयात्रा नहीं राजनीति करने आए है उद्धव ठाकरे : इकबाल अंसारी◾

अन्य राज्य

केदारनाथ त्रासदी पीड़तों के पुनर्वास मामले में सरकार को पक्ष रखने के निर्देश

उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने 2013 में केदारनाथ त्रासदी से प्रभावित लोगों के पुनर्वास में हुई वित्तीय अनियमितता और जांच समिति की ओर से इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं किये जाने के मामले में सरकार से अपना पक्ष रखने के आदेश दिए हैं। मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन और न्यायमूर्ति नारायण सिंह धनिक की युगलपीठ ने मुनस्यारी निवासी एवं पूर्व महानिदेशक(स्वास्थ्य) जनार्दन सिंह पांगती की जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद ये निर्देश जारी किये हैं।

याचिकाकर्ता के अधिवक्ता बीएन मौलेखी ने न्यायालय को बताया कि केदारनाथ त्रासदी से प्रभावित लोगों के पुनर्वास में अनियमितता बरती गयी है। अनियमितताओं को लेकर शिकायतें मिलने के बाद रूद्रप्रयाग जिला प्रशासन ने 2017 में एक जांच समिति का गठन किया लेकिन जांच समिति की ओर से पिछले दो वर्षों में कुछ नहीं किया गया है।

याचिकाकर्ता की ओर से जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जांच कर आवश्यक कार्यवाही करने की मांग की गयी है। पिछले साल जून में उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार को केदारनाथ त्रासदी के फलस्वरूप मंदिर के आसपास क्षतिग्रस्त बुनियादी ढांचे के पुनर्निर्माण में संबंधित अधिकारियों द्वारा की गयी अनियमितताओं के मामले में जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किए जाने के निर्देश दिये थे। न्यायालय ने 2016 में याचिकाकर्ता सुशील वशिष्ठ की जनहित याचिका की सुनवाई के बाद ये निर्देश दिये।

याचिकाकर्ता ने केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्य में कथित रूप से सार्वजनिक धन के दुरूपयोग का आरोप लगाया गया था। याचिकाकर्ता की ओर से उत्तराखंड नवीनीकरण उर्जा विकास एजेंसी (उरेडा) पर सवाल खड़ किये गये थे। उरेडा केदारनाथ में मंदिर के आसपास क्षतिग्रस्त बुनियादी ढांचे का निर्माण कराने वाली प्रमुख एजेंसी है।