BREAKING NEWS

त्रिपुरा के लोगों ने स्पष्ट संदेश दिया है कि वे सुशासन की राजनीति को तरजीह देते हैं : PM मोदी◾कांग्रेस ने हमेशा लोगों के मुद्दों की लड़ाई लड़ी, BJP ब्रिटिश शासकों की तरह जनता को बांट रही है: भूपेश बघेल ◾आजादी के 75 वर्ष बाद भी खत्म नहीं हुआ जातिवाद, ऑनर किलिंग पर बोला SC- यह सही समय है ◾त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾शीतकालीन सत्र से पूर्व विपक्ष में आई दरार, कल होने वाली कांग्रेस नेता खड़गे की बैठक से TMC ने बनाई दूरियां ◾उद्धव ठाकरे की सरकार के दो साल के कार्यकाल में विपक्ष पूरी तरह से दिशाहीन रहा : संजय राउत◾कांग्रेस Vs कांग्रेस : अधीर रंजन चौधरी के वार पर मनीष तिवारी का पलटवार◾कल से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र, पेश होंगे ये 30 विधेयक◾BJP प्रवक्ता ने फूलन देवी को कहा 'डकैत', अखिलेश ने बताया 'निषाद समाज' का अपमान ◾तमिलनाडु बारिश : चेन्नई के कई इलाकों में जलभराव, IMD ने तटीय जिलों के लिए जारी किया रेड अलर्ट ◾

ISRO जासूसी कांड : पूर्व DGP सिबी मैथ्यूज की अग्रिम जमानत याचिका पर टली सुनवाई

इसरो जासूसी कांड में केरल की स्थानीय कोर्ट ने पूर्व डीजीपी सिबी मैथ्यूज की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई टाल दी है। कोर्ट मामले में अगली सुनवाई 12 जुलाई को करेगी। सीबीआई ने इस मामले में मैथ्यूज और 17 अन्य पुलिस अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। 

इसरो जासूसी कांड, 1994 में इसरो के पूर्व वैज्ञानिक नंबी नारायणन को गिरफ्तार किया गया था। इसी सिलसिले में इन अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक साजिश रचने, अपहरण, साक्ष्यों में छेड़छाड़ के आरोपों में भारतीय दंड संहिता की धाराओं में मामला दर्ज किया है। 

डिस्ट्रिक्ट कोर्ट को जब सूचित किया गया कि मामले में दो अन्य आरोपियों की जमानत याचिकाएं केरल हाई कोर्ट में लंबित हैं और आज इस मामले पर सुनवाई हो सकती है तो प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश पी. कृष्णकुमार ने मामले पर सुनवाई अगले हफ्ते तक टाल दी। 

कोर्ट ने कहा, ‘‘यदि इसी तरह के मामले हाई कोर्ट में लंबित हैं तो वहां जो भी होता है उसका इंतजार कर लेते हैं।’’ मैथ्यूज की अग्रिम जमानत याचिका के अलावा नारायणन की मामले में पक्षकार बनाने की याचिका भी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के समक्ष सूचीबद्ध है। सुनवाई आरंभ होने पर मैथ्यूज के वकील ने नारायण के आवेदन का विरोध किया। 

वहीं नारायणन के वकील ने मैथ्यूज को किसी भी तरह की राहत देने का विरोध किया। अग्रिम जमानत याचिका में मैथ्यूज ने दावा किया कि आसूचना ब्यूरो (इंटेलिजेंस ब्यूरो या आईबी) ने जासूसी मामले में नारायणन को गिरफ्तार करने का केरल के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों पर दबाव बनाया था। 

उन्होंने कहा कि मालदीव की नागरिक मरियम रशीदा के खिलाफ विदेशी विषयक अधिनियम और सरकारी गोपनीयता कानून के तहत मामला भी आईबी और रॉ (रिसर्च एवं एनालिसिस विंग) से प्राप्त सूचना के आधार पर दर्ज किया गया जिनमें कहा गया था उनका ‘‘इसरो के कुछ वैज्ञानिकों के साथ अनपेक्षित संबंध हैं और उनकी गतिविधियां भारत की सुरक्षा एवं हितों के लिए हानिकारक हैं।’’ 

उन्होंने दावा किया कि राशिदा को आईबी के तत्कालीन वरिष्ठ अधिकारी मैथ्यूज के निर्देशों पर गिरफ्तार किया गया जो जासूसी कांड की जांच करने वाले विशेष जांच दल के प्रमुख थे। सुप्रीम कोर्ट ने 15 अप्रैल को आदेश दिया था कि नारायणन से जुड़े जासूसी मामले में आरोपी पुलिस अधिकारियों की भूमिका के बारे में उच्च स्तरीय समिति की रिपोर्ट सीबीआई को सौंपी जाए। कोर्ट ने एजेंसी को इस मामले की आगे की जांच करने का निर्देश दिया था। इस मामले में 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने नारायणन को बरी कर दिया था।