BREAKING NEWS

ICJ में भारत की बड़ी जीत : 15-1 से कुलभूषण यादव के पक्ष में गया फैसला , फांसी पर रोक ◾बंगाल ने पोषण अभियान अपनाने से इंकार कर दिया : स्मृति ईरानी◾UP : सोनभद्र में जमीनी विवाद को लेकर हुई हिंसक झड़प में 9 की मौत, CM योगी ने जांच के दिए निर्देश ◾उत्तराखंड से बीजेपी विधायक प्रणव सिंह चैम्पियन 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित ◾व्हिप को निष्प्रभावी करने वाले SC के फैसले ने खराब न्यायिक मिसाल पेश की : कांग्रेस◾इंच-इंच जमीन से अवैध प्रवासियों को करेंगे बाहर : अमित शाह◾चीन-भारत सीमा पर दोनों देशों के सुरक्षा बलों द्वारा बरता जा रहा है संयम : राजनाथ◾पीछे हटने का सवाल नहीं, विधानसभा की कार्यवाही में नहीं लेंगे हिस्सा : कर्नाटक के बागी विधायक◾मुंबई आतंकवादी हमलों का मास्टरमाइंड हाफिज सईद लाहौर से गिरफ्तार◾सुप्रीम कोर्ट का फैसला असंतुष्ट विधायकों के लिए नैतिक जीत : येदियुरप्पा◾कर्नाटक संकट : विधानसभा अध्यक्ष बोले- संवैधानिक सिद्धांतों का करुंगा पालन◾कर्नाटक संकट : SC ने कहा-बागी विधायकों के इस्तीफों पर स्पीकर ही करेंगे फैसला◾जम्मू एवं कश्मीर : सोपोर में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़◾पूर्व सपा सांसद अतीक अहमद के घर और दफ्तर पर CBI की छापेमारी◾समाजवादी पार्टी को सता रही है मुस्लिम वोट बैंक संजोने की चिंता◾मुंबई में इमारत गिरने से अभी तक 14 लोगों की मौत, सर्च ऑपरेशन जारी ◾असम, बिहार में बाढ़ से 55 लोगों की मौत, उत्तर प्रदेश में वर्षा जनित हादसों में 14 की मौत ◾अनुसुइया उइके छत्तीसगढ़ की, हरिचंदन आंध्र के राज्यपाल नियुक्त◾देश के कई हिस्सों में दिखेगा चंद्र ग्रहण, करीब एक बजकर 31 मिनट शुरू और चार बजकर 20 मिनट पर होगा खत्म◾बनगांव में भाजपा, TMC के बीच संघर्ष, निषेधाज्ञा लागू ◾

अन्य राज्य

ऐसा नहीं लगता कि बच्चों के कंधों पर बस्ते का अतिरिक्त बोझ है : मुंबई HC

मुंबई हाई कोर्ट ने बच्चों के स्कूली बस्ते के वजन को कम करने के निर्देश देने की मांग करने वाले वाली याचिका सोमवार को खारिज करते हुए कहा कि उसे नहीं लगता कि बच्चे अपने कंधों पर ‘‘अनावश्यक भारी बस्ते’’ ले जाते हैं क्योंकि वक्त के साथ किताबें पतली हो गयी हैं। 

कोर्ट ने कहा कि स्कूली बस्तों का भार की मात्रा निश्चित करने के लिए नए दिशा निर्देश देने की जरूरत नहीं है। कोर्ट ने कहा, ‘‘हमारे जमाने में, हमारी किताबें प्राय: वजनी होती थीं। आजकल किताबें पतली हो गई हैं।’’ 


मुख्य न्यायाधीश प्रदीप नंदराजोग और न्यायमूर्ति एनएम जामदार ने कहा, ‘‘हमारी किताबों में दिखाया जाता था कि केवल औरतें ही घर का काम करती हैं, आज की किताबें दिखाती हैं कि पुरूष फर्श पर झाड़ू लगा रहे हैं।’’ पीठ ने कहा, ‘‘हमारी किताबें बहुत वजनी होती थीं लेकिन हमें पीठ की कोई समस्या नहीं हुई।’’