BREAKING NEWS

नागरिकता विधेयक पारित होना संवैधानिक इतिहास का काला दिन : सोनिया गांधी◾मोदी सरकार की बड़ी जीत, नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में हुआ पास◾ राज्यसभा में अमित शाह बोले- CAB मुसलमानों को नुकसान पहुंचाने वाला नहीं◾कांग्रेस का दावा- ‘भारत बचाओ रैली’ मोदी सरकार के अस्त की शुरुआत ◾राज्यसभा में शिवसेना का भाजपा पर कटाक्ष, कहा- आप जिस स्कूल में पढ़ रहे हो, हम वहां के हेडमास्टर हैं◾CM उद्धव ठाकरे बोले- महाराष्ट्र को GST मुआवजा सहित कुल 15,558 करोड़ रुपये का बकाया जल्द जारी करे केन्द्र◾TOP 20 NEWS 11 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कपिल सिब्बल ने राज्यसभा में कहा- विभाजन के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताने पर माफी मांगें अमित शाह◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ असम में भड़की हिंसा, पुलिस ने चलाई रबड़ की गोलियां◾चिदंबरम ने CAB को बताया 'हिन्दुत्व का एजेंडा', कानूनी परीक्षण में नहीं टिकने का जताया भरोसा◾इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत ◾हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव ◾पाकिस्तान : हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद वित्तपोषण के आरोप तय◾मनमोहन सिंह की सलाह पर लाया गया है नागरिकता संशोधन विधेयक : भाजपा◾कांग्रेस ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और संविधान विरूद्ध◾राज्यसभा में नागरिकता बिल पेश, अमित शाह बोले- भारतीय मुस्लिम भारतीय थे, हैं और रहेंगे◾प्रियंका का वित्त मंत्री पर वार, कहा-आप प्याज नहीं खातीं, लेकिन आपको हल निकालना होगा ◾2002 गुजरात दंगा मामले में नानावती आयोग ने PM नरेंद्र मोदी को दी क्लीन चिट ◾BJP संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया ऐतिहासिक◾नागरिकता संसोधन बिल राज्यसभा में पेश होने से पहले बोले राहुल- यह उत्तर पूर्व पर एक आपराधिक हमला◾

अन्य राज्य

जगदीप धनखड़ ने कहा- स्वास्थ्य से जुड़े मसलों पर राजनीति नहीं होनी चाहिए

 104

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने गुरुवार को कहा कि केंद्र की प्रमुख स्वास्थ्य योजना-आयुष्मान भारत से राज्य के लोगों को वंचित रखा गया है और ‘‘ऐसे मामलों का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए।’’ राज्यपाल ने यह दावा भी किया कि उन्हें इलाज में तत्काल सहायता के लिए राज्य भर से करीब 3000 आवेदन मिले हैं। 

धनखड़ ने एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘मुझे राज्यपाल बने हुए 100 दिन भी नहीं हुए हैं और इस दौरान मुझे पूरे राज्य से चिकित्सा सहायता के लिए करीब 3000 आवेदन मिले हैं। मैंने इन आवेदनों को देखा और पाया कि ये सभी केंद्र की आयुष्मान भारत योजना के लिए पात्र हैं।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘राज्यपाल का दिल बहुत बड़ा है लेकिन पास में दो करोड़ रुपये का छोटा सा फंड है... जबकि एक सांसद को पांच करोड़ रुपये मिलते हैं। ज्यादातर राज्यों में विधायकों के पास (फंड के रूप में) दो से चार करोड़ रुपये होते हैं। यहां (पश्चिम बंगाल में) मुझे बताया गया है कि विधायकों का फंड 60 करोड़ रुपये का है। मुझे आवंटित किए गए दो करोड़ रुपये से मुझे 18 मदों का समाधान करना पड़ता है।’’ 

धनखड़ ने कहा कि आवेदकों की बढ़ती संख्या से राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति का पता चलता है। उन्होंने कहा, ‘‘अगर मुझे तीन महीने में स्वास्थ्य संबंधी सहायता के लिए 3000 आवेदन मिले हैं, तो निश्चित रूप से ये राज्य के हालात को दर्शाता है।’’ 

उन्होंने आगे कहा, ‘‘मुझे ये अजीब लगता है कि एक केंद्रीय योजना, जो इतनी बड़ी सुविधा उपलब्ध कराती है, जिसे दुनिया भर में मान्यता प्राप्त है, उसे लोगों के लाभ के लिए यहां क्यों नहीं अपनाया जा रहा है।’’ आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत 2018 में हुई थी और इसका उद्देश्य पांच लाख रुपये का वार्षिक स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराना है।