बांका : अंग प्रदेश की धरती बांका में इस बार चुनावी घमासान चरमसीमा पर है। बांका की धरती से एक से बढक़र एक दिग्गज नेता जॉर्ज फर्नांडीस, मधुलिमिये, चन्द्रशेखर, दिग्विजय ङ्क्षसह जैसों ने चुनाव लड़ा। आज बांका से देवघर एवं भागलपुर तक रेल का परिचालन हो रहा है इसका श्रेय दिग्विजय ङ्क्षसह को जाता है। जानकारी रहे कि दिग्विजय ङ्क्षसह ने देश के उपराष्ट्रपति भैरो सिंह शेखावत को अपने संसदीय क्षेत्र बांका में बुलाकर खेल स्टेडियम का शिलान्यास करवाया। लेकिन किस कारणवश स्टेडियम नहीं बन सका। वहीं श्रीमती पुतुल देवी एक बार बांका की सांसद रह चुकी है और 2014 में नरेन्द्र मोदी हवा में हार गयी और राजद प्रत्याशी जयप्रकाश यादव जीत गये। इस बार भी टिकट लेने के लिए श्रीमती पुतुल देवी बहुत भागदौड़ की, लेकिन असफल रही।

क्योंकि बांका सीट जदयू कोटे में चला गया। अपनी मान-मर्यादा को ध्यान में रखते हुए श्रीमती पुतुल देवी निर्दलीय चुनाव लड़ी। भारतीय जनता पार्टी के लाख समझाने के बावजूद भी उन्होंने अपना नामांकन वापस नहीं लिया और न ही सीट छोडक़र बैठी। इससे तिलमिलाये भाजपा ने उन्हें छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया। इस बार बांका के चुनावी मैदान में राजद का लालटेन, जदयू का तीर एवं श्रीमती पुतुल देवी का गैस सिलेण्डर कितना वोटरों को रिझाती है। वहीं कटोरिया के पूर्व विधायक राजकिशोर उर्फ पप्पू यादव का चुनाव मैदान में आने का मकसद बाहरी नेताओं को इस क्षेत्र भगाना है।

इस बार बांका संसदीय क्षेत्र का चुनाव बड़ा ही रोचक होने वाला है। हो भी क्यों नहीं? यहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी तथा भागलपुर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी प्रचार-प्रसार कोई कसर नहीं छोड़ी। महागठबंधन के तेजस्वी यादव, जीतन राम मांझी, सन ऑफ मल्लाह ने भी अपने प्रत्याशी के समर्थन में जोर-शोर से चुनावी प्रचार-प्रसार किया।

वहीं श्रीमती पुतुल देवी की एक बेटी अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ी श्रेयशी सिंह और दूसरी बेटी भी उनके लिए प्रचार कर रही है। दादा का कुछ पुराना साथी भी बांका पहुंचे हुए हैं। वहीं बांका क्षेत्र के मतदाताओं में 2014 वाली उल्लास नहीं दिख रहा है और कुछ भी कहने से कतरा रहे हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव नरेन्द्र मोदी के नाम की ऐसी हवा बही कि गांव, खेत-खलिहान समेत चाय-पान की दुकानों पर राजनीतिक चर्चा जोरों पर रहती थी और इस बार के चुनाव में मतदाताओं के बीच ऐसी कोई बात नहीं दिख रही है। वहीं राजद प्रत्याशी जयप्रकाश यादव, जदयू प्रत्याशी गिरधारी यादव एवं निर्दलीय प्रत्याशी श्रीमती पुतुल कुमारी की अग्निपरीक्ष 18 अप्रैल को मतदान होने वाला है जनता कितने को क्या फैसला देगी।