BREAKING NEWS

बिहार में जाति आधारित जनगणना बेहतर तरीके से होगी, जल्द बुलाई जाएगी सर्वदीय बैठक: नीतीश कुमार ◾कांग्रेस ने पंजाब चुनाव को लेकर शुरू की तैयारियां, सुनील जाखड़ और अंबिका सोनी को मिली बड़ी जिम्मेदारी ◾दुनिया बदलीं लेकिल हमारी दोस्ती नही....रूसी राष्ट्रपति पुतिन से मुलाकात में बोले PM मोदी◾UP चुनाव को लेकर प्रियंका ने बताया कैसा होगा कांग्रेस का घोषणापत्र, कहा- सभी लोगों का विशेष ध्यान रखा जाएगा◾'Omicron' के बढ़ते खतरे के बीच MP में 95 विदेशी नागरिक हुए लापता, प्रशासन के हाथ-पांव फूले ◾महबूबा ने दिल्ली के जंतर मंतर पर दिया धरना, बोलीं- यहां गोडसे का कश्मीर बन रहा◾अखिलेश सरकार में होता था दलितों पर अत्याचार, योगी बोले- जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो होगा जानामाना गुंडा ◾नागालैंड मामले पर लोकसभा में अमित ने कहा- गलत पहचान के कारण हुई फायरिंग, SIT टीम का किया गया गठन ◾आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾

जवाहर सरकार ने राज्यसभा के लिए नामांकन किया दाखिल

प्रसार भारती के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) जवाहर सरकार ने बुधवार को तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा उम्मीदवार के रूप में नामांकन दाखिल किया।

सरकार ने पश्चिम बंगाल के संसदीय मंत्री और तृणमूल के महासचिव पार्थ चटर्जी की उपस्थिति में विधानसभा सचिवालय के कार्यालय में अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। इस साल पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल नेता दिनेश त्रिवेदी के इस्तीफे से यह सीट खाली हुई थी। त्रिवेदी भाजपा में शामिल हो गए थे। राज्यसभा सीट के लिए उपचुनाव नौ अगस्त को होने हैं और इसके लिए 22 जुलाई को अधिसूचना जारी की गई थी।

तृणमूल ने कहा कि उसने सरकार को ‘‘सार्वजनिक सेवा में उनके अमूल्य योगदान के कारण चुना है, जिससे हमें अपने देश की बेहतर सेवा करने में मदद मिलेगी।’’ सरकार ने नामांकन दाखिल करने के बाद उनमें भरोसा जताने के लिए तृणमूल का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने विधानसभा कक्ष में संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं हर संभव तरीके से उनके (तृणमूल के) भरोसे को पूरा करने की कोशिश करूंगा। विधानसभा चुनावों में ममता बनर्जी की जुझारू भावना से मैं बहुत प्रभावित हुआ हूं।’’

सरकार ने लगभग 42 साल सार्वजनिक सेवा में बिताए हैं और वह प्रसार भारती के पूर्व सीईओ भी थे। उन्होंने फरवरी 2017 में अपनी निर्धारित सेवानिवृत्ति से चार महीने पहले अक्टूबर, 2016 में इस्तीफा दे दिया था।

चटर्जी ने कहा, ‘‘दुर्भावना से भरे चुनाव प्रचार अभियान और व्यक्तिगत हमलों के बीच ममता बनर्जी की जीत (राज्य विधानसभा चुनाव में) ने साबित कर दिया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने जितना हमला किया उतना ही उसका माकूल जवाब दिया गया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘त्रिपुरा में (चुनाव रणनीतिकार) प्रशांत किशोर की टीम के दौरे पर भाजपा सरकार की प्रतिक्रिया से पता चलता है कि वे (भाजपा) डरे हुए हैं।’’

सरकार ने इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार को ‘‘असहिष्णु, तानाशाह’’ बताया था। तृणमूल द्वारा अपने नाम की घोषणा के बाद उन्होंने कहा, ‘‘मैं जीवन भर नौकरशाह रहा हूं। मैं कोई राजनीतिक व्यक्ति नहीं हूं लेकिन मैं जनता के विकास के लिए काम जरूर करूंगा और संसद में जनता से जुड़े मुद्दों को उठाऊंगा।’’

विपक्षी दल भाजपा द्वारा प्रत्याशी उतारे जाने की स्थिति में राज्यसभा उपचुनाव होगा अन्यथा, तृणमूल उम्मीदवार को निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया जाएगा। 2021 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और वाम दलों को एक भी सीट नहीं मिली थी। सिर्फ इंडियन सेक्युलर फ्रंट ही एक सीट जीत पाई थी।