BREAKING NEWS

नागरिकता विधेयक के खिलाफ जारी प्रदर्शनों के बीच मुख्यमंत्री के घर पर किया गया पथराव ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को निकट भविष्य में अदालत में चुनौती दी जाएगी : सिंघवी ◾नागरिकता विधेयक को संसद की मंजूरी मिलने पर भाजपा ने खुशी जताई ◾सुप्रीम कोर्ट में खारिज हो जाएगा CAB : चिदंबरम ◾नागरिकता विधेयक पारित होना संवैधानिक इतिहास का काला दिन : सोनिया गांधी◾मोदी सरकार की बड़ी जीत, नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में हुआ पास◾ राज्यसभा में अमित शाह बोले- CAB मुसलमानों को नुकसान पहुंचाने वाला नहीं◾कांग्रेस का दावा- ‘भारत बचाओ रैली’ मोदी सरकार के अस्त की शुरुआत ◾राज्यसभा में शिवसेना का भाजपा पर कटाक्ष, कहा- आप जिस स्कूल में पढ़ रहे हो, हम वहां के हेडमास्टर हैं◾CM उद्धव ठाकरे बोले- महाराष्ट्र को GST मुआवजा सहित कुल 15,558 करोड़ रुपये का बकाया जल्द जारी करे केन्द्र◾TOP 20 NEWS 11 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कपिल सिब्बल ने राज्यसभा में कहा- विभाजन के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताने पर माफी मांगें अमित शाह◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ असम में भड़की हिंसा, पुलिस ने चलाई रबड़ की गोलियां◾चिदंबरम ने CAB को बताया 'हिन्दुत्व का एजेंडा', कानूनी परीक्षण में नहीं टिकने का जताया भरोसा◾इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत ◾हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव ◾पाकिस्तान : हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद वित्तपोषण के आरोप तय◾मनमोहन सिंह की सलाह पर लाया गया है नागरिकता संशोधन विधेयक : भाजपा◾कांग्रेस ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और संविधान विरूद्ध◾राज्यसभा में नागरिकता बिल पेश, अमित शाह बोले- भारतीय मुस्लिम भारतीय थे, हैं और रहेंगे◾

अन्य राज्य

झारखंड विधानसभा चुनाव: कांग्रेस ने रांची में भाजपा से मुकाबला करने के लिए झामुमो को किया आगे

 con jmm

झारखंड विधानसभा चुनाव में राजधानी रांची सीट सबसे 'हॉट सीट' मानी जा रही है। लगातार छह चुनावों से रांची सीट जीतती आ रही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने जहां एकबार फिर सी.पी. सिंह को चुनाव मैदान में उतारने की घोषणा की है, वहीं लगातार हारती रही कांग्रेस ने इस बार रांची से चुनाव न लड़ने का फैसला करते हुए गठबंधन के तहत यह सीट झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के हिस्से दे दी है। 

झामुमो ने यहां से एक बार फिर महुआ माजी को अपना प्रत्याशी बनाया है। दीगर बात है कि कांग्रेस को यह सीट छोड़ने को लेकर कार्यकर्ताओं के विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है। तीसरे चरण के मतदान के लिए रांची जिले की पांच विधानसभा सीटों के लिए शनिवार को अधिसूचना जारी कर दी गई। 

रांची, सिल्ली, कांके, खिजरी और हटिया विधानसभा सीट पर चुनाव की अधिसूचना जारी होने के साथ ही नामांकन भी शुरू हो गया है। उम्मीदवार 25 नवंबर तक अपना नामांकन दाखिल कर सकेंगे। 26 नवंबर को नामांकन पत्रों की जांच होगी। नाम वापसी की तारीख 28 नवंबर है। इन सीटों पर मतदान 12 दिसंबर को होगा।

 

झामुमो ने पिछले चुनाव में भी महुआ माजी को प्रत्याशी बनाया था। उन्हें सी.पी. सिंह ने करीब 59 हजार मतों से पराजित कर दिया था। उस चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी सुरेंद्र सिंह को सिर्फ 7,935 मत मिले थे, यानी वह अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए थे। कहा जा रहा है कि भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस ने यह सीट झामुमो की झोली में डाल दी है। आंकड़ों पर गौर करें तो कांग्रेस इस सीट पर लगातार पिछड़ती रही है। 

वर्ष 2009 में रांची सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी को प्रदीप तुलस्यान को 39,050 मत मिले थे। वर्ष 2005 में हुए चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी गोपाल प्रसाद साहु को 48,119 मत मिले थे। यही वजह है कि इस बार कांग्रेस यहां से खुद चुनाव नहीं लड़ रही है। इधर, वर्ष 1990 में हुए चुनाव के बाद से यह सीट भाजपा के पास है। वर्ष 1990 में भाजपा के गुलशन लाल आजमानी ने इस सीट पर पर जीत दर्ज कर यह सीट भाजपा की झोली में डाल दी थी, तब से इस सीट पर भाजपा का कब्जा बरकरार है। 

वर्ष 1995 में हुए चुनाव में इस सीट से भाजपा ने यशवंत सिन्हा को प्रत्याशी बनाया, परंतु एक साल के बाद ही वह राज्यसभा चले गए और 1996 में यहां उपचुनाव हुआ। भाजपा ने इस चुनाव में सी.पी. सिंह को पहली बार चुनावी मैदान में उतारा और वे पहली बार विधायक बने। तब से अब तक इस सीट से सिंह जीत दर्ज करते आ रहे हैं। 

झारखंड : भाजपा ने जारी की चौथी सूची, तीन और उम्मीदवार घोषित

राजनीति के जानकार कहते हैं कि इस चुनाव में इस सीट पर मुकाबला दिलचस्प होगा। राजनीति के जानकार और रांची के वरिष्ठ पत्रकार संपूर्णानंद भारती मानते हैं कि यह राज्य की सबसे प्रमुख सीटों में से एक है, इस कारण सभी दल इस सीट पर कब्जा जमाना चाहेंगे। 

भारती का मानना है, "कांग्रेस इस चुनाव में मैदान में नहीं है। भाजपा जहां इस सीट को खोना नहीं चाहेगा, वहीं झामुमो अपने सहयोगी कांग्रेस के मैदान में नहीं होने का लाभ उठाते हुए 29 सालों से भाजपा के कब्जे वाली इस सीट को किसी भी प्रकार छीनने की कोशिश करेगी। इस कारण मुकाबला दिलचस्प होगा।" पिछले चुनाव में इस सीट से 17 प्रत्याशियों ने किस्मत आजमाई थी, जिसमें 15 की जमानत जब्त हो गई थी।