BREAKING NEWS

पंचतत्व में विलीन हुए श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा 'मिन्ना जी' ◾BJP के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा जी का निगम बोध घाट में हुआ अंतिम संस्कार◾पंचतत्व में विलीन हुए पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा◾अश्विनी कुमार चोपड़ा - जिंदगी का सफर, अब स्मृतियां ही शेष...◾करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾

झारखंड चुनाव : बिना 'कप्तान' के मैदान में डटे JDU के 'खिलाड़ी' मायूस!

झारखंड के चुनावी समर में बिहार की सत्ताधारी पार्टी जनता दल (यूनाइटेड) की टीम भी उतरी है, मगर अब तक कप्तान (अध्यक्ष) नीतीश कुमार मैदान में नहीं उतरे हैं। इस चुनावी मैदान में उतरे सभी दल जहां अपने स्टार प्रचारकों और चुनिंदा हस्तियों को मैदान में उतार कर अपने-अपने प्रत्याशियों को विजयी बनाने के लिए जोर-आजमाइश में लगे हैं, वहीं जद (यू) अपने कप्तान की अनुपस्थिति में रणनीति ही नहीं बना पाई है। 

बिहार के 81 विधानसभा सीटों में पांच चरणों में होने वाले मतदान में पहले चरण का मतदान 13 विधनसभा क्षेत्रों में संपन्न हो चुका है, जबकि दूसरे चरण में सात दिसंबर को 20 विधानसभा सीटों पर मतदान होना है, लेकिन नीतीश कुमार अब तक झारखंड नहीं पहुंचे हैं। जद (यू) ने यहां 48 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं। 

वैसे, नीतीश पिछले दिनों झारखंड में चुनावी प्रचार में जाने से इनकार कर दिया था। इनकार करने के बावजूद यहां के नेताओं को आशा थी, कि जिस तरह जद (यू) के दिग्गज नेता उत्साह के साथ चुनाव के पूर्व झारखंड में खोई जमीन तलाशने की कोशिश में लगे थे, उससे संभावना बनी थी कि नीतीश कुमार प्रचार करने जरूर पहुंचेंगे। 

ऐसे में जद (यू) अध्यक्ष नीतीश कुमार के अब तक नहीं पहुंचने से पार्टी नेता-कार्यकर्ता और प्रत्याशी मायूस है। बुझे मन से प्रचार में लगे हैं। जद (यू) के सूत्रों का कहना है कि प्रत्याशियों में उत्साह भरने के लिए केवल झारखंड प्रभारी और बिहार के कल्याण मंत्री रामसेवक सिंह और सह प्रभारी अरुण कुमार मोर्चा संभाले हुए हैं। 

सूत्र कहते हैं कि नीतीश कुमार के करीबी और सांसद ललन सिंह कभी-कभार पहुंच रहे हैं, लेकिन वे कार्यकर्ताओं में जोश नहीं भर पा रहे हैं। जद (यू) के एक नेता ने नाम नहीं प्रकाशित करने की शर्त पर आक्रोशित होकर बताते हैं, "जब कप्तान को ही मैदान में नहीं आना था, तो मैदान में ही नहीं उतरना चाहिए था। केवल प्रत्याशियों को उतारने से कुछ नहीं होता। दूसरे दल के दिग्गज नेता और स्टार प्रचारक पहुंच रहे हैं, जिससे जद (यू) के कार्यकर्ता हतोत्साहित हो रहे हैं।"

इधर, कुछ लोग तो अब यह भी आरोप लगा रहे हैं कि झारखंड में भाजपा को लाभ पहुंचाने के लिए जद (यू) चुनाव में उतरी है। जद (यू) के झारखंड प्रभारी हालांकि इससे इनकार करते हैं। प्रदेश प्रभारी सिंह कहते हैं, "कहीं कोई बात नहीं है। भाजपा से केवल बिहार में गठबंधन है। झारखंड में आंतरिक समझौते की बात गलत है। नीतीश कह चुके थे कि वे प्रचार में नहीं आएंगे।" 

झारखंड विधानसभा चुनाव : भाजपा के गढ़ में पत्थलगड़ी आंदोलन दिखा सकता है रंग

उल्लेखनीय है कि झारखंड में संभावित चुनाव को लेकर करीब तीन से चार महीने पूर्व से जद (यू) ने यहां चुनाव की तैयारी शुरू कर दी थी। नीतीश कुमार से लेकर पार्टी के उपाध्यक्ष और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर भी झारखंड पहुंचकर कार्यकर्ताओं को संबोधित किया था, लेकिन जैसे-जैसे समय गुजरता गया, जद (यू) के रणनीतिकार भी सुस्त पड़ गए और कार्यकर्ता भी उनकी बाट जोह रहे हैं। 

एक रणनीति के तहत आदिवासी चेहरे सालखन मुर्मू को प्रदेश की बागडोर सौंप दी गई। मुर्मू भी मझगांव और शिकारीपाड़ा से प्रत्याशी हैं। ऐसे में वे भी अपने क्षेत्र में ही सिमट कर रह गए हैं। बहरहाल, जद (यू) के प्रत्याशी बुझे मन से चुनावी मैदान में हैं और उन्हें अपने अध्यक्ष का अब भी इंतजार है। अब देखना है कि नीतीश की गैरमौजूदगी में यहां के मतदाता 'नीतीश मॉडल' को कितना स्वीकार कर पाते हैं।