BREAKING NEWS

दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, संदीप बड़वासनिया गैंग के तीन सदस्य उत्तम नगर से अरेस्ट ◾महाराष्ट्र : BJP ने OBC का 'अपमान' करने के लिए राहुल गांधी का किया विरोध प्रदर्शन◾Tornado in Punjab: पंजाब के फाजिल्का में बवंडर से 12 लोग घायल, 30 घर क्षतिग्रस्त◾ राहुल गांधी पर भड़के केंद्रीय मंत्री रविशंकर,कहा राहुल पर मानहानि के 60 मामले चल रहे हैं◾तोशखाना मामले में इमरान खान को मिली राहत, लाहौर हाइकोर्ट ने दी जमानत◾तोशखाना मामले में इमरान खान को मिली राहत, लाहौर हाइकोर्ट ने दी जमानत◾शशि थरूर बोले- राहुल का अयोग्य ठहराया जाना भाजपा के लिए आत्मघाती गोल◾राहुल के समर्थन में उतरे प्रशांत किशोर, बोले- केंद्र को दिखाना चाहिए था बड़ा दिल◾किरेन रीजीजू बोले, सरकार और न्यायपालिका के बीच मतभेद का मतलब टकराव नहीं◾अरविंद केजरीवाल का बड़ा बयान, कहा- 'फ्री बिजली बंद करने की साजिश रच रहे LG' ◾कांग्रेस ने CPI(M) पर केरल में 'दोहरा एजेंडा' रखने का आरोप लगाया◾राधा स्वामी सत्संग ब्यास पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, बाबा गुरिंदर सिंह ढिल्लों से की मुलाकात ◾राहुल गांधी ने लोकसभा सदस्यता रद्द किए जाने पर कहा- मुझे फर्क नहीं पड़ता, मैं अपना काम करता रहूंगा◾विपक्षी दल गरीब और ग्रामीण बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर बनते नहीं देखना चाहते : PM मोदी◾मनी लॉन्ड्रिंग केस : सिसोदिया की जमानत याचिका पर सुनवाई 5 अप्रैल तक टली◾अलर्ट! भारत में कोविड के 1590 नए मामले हुए दर्ज, छह की मौत ◾लालू यादव की बेटी मीसा भारती धन शोधन मामले में ED के समक्ष पेश हुईं◾Amit Shah ने कहा- 'मोदी सरकार ने पूर्वोत्तर में अफ्सपा के तहत ‘अशांत क्षेत्रों’ को कम करने का लिया निर्णय'◾‘लोकतंत्र के लिए लड़ रहा हूं, डरूंगा नहीं’, संसद सदस्यता रद्द होने पर बोले राहुल गांधी ◾CM योगी ने कहा- 'अब यूपी की पहचान माफियाओं से नहीं, महोत्सव से है'◾

झारखंड HC ने राज्य सरकार से पूछा- क्या सिर्फ कागजों पर हो रही है पुलिसकर्मियों की Training?

झारखंड हाईकोर्ट ने राज्य की पुलिस की कानूनी समझ पर सवाल खड़ा किया है। कोर्ट ने सोमवार को हैबियस कॉर्पस (बंदी प्रत्यक्षीकरण) की एक याचिका पर सुनवाई करते हुए राज्य सरकार से पूछा कि आईपीसी, सीआरपीसी और कानूनी पहलुओं की बुनियादी जानकारी के लिए पुलिसकर्मियों को समुचित ट्रेनिंग दी जा रही है या नहीं? या फिर यह काम सिर्फ कागजों पर ही हो रहा है?

अगली सुनवाई कोर्ट ने 10 जनवरी को मुकर्रर

जस्टिस रंगन मुखोपाध्याय की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने सरकार को एक एफिडेविट के जरिए इस बारे में पूरी जानकारी अदालत में पेश करने को कहा है। इस मामले की अगली सुनवाई कोर्ट ने 10 जनवरी को मुकर्रर की है।

यह मामला झारखंड के बोकारो से लॉ के एक स्टूडेंट को मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर ले जाने जाने से संबंधित है। वर्ष 2021 में 24 नवंबर को मध्य प्रदेश पुलिस ने बोकारो से लॉ छात्र को गिरफ्तार किया था, लेकिन परिजनों को इसकी पूरी जानकारी नहीं दी गयी। इस मामले में छात्र के परिजनों द्वारा दायर बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका में कहा गया है कि छात्र की गिरफ्तारी के वक्त पुलिस के पास सिर्फ सर्च वारंट था, जबकि अरेस्ट वारंट अनिवार्य है। 

 छात्र की गिरफ्तारी के वक्त इन नियमों का उल्लंघन 

मामले की सुनवाई के दौरान अधिवक्ता हेमंत सिकरवार ने कहा कि जस्टिस डीके वासु के आदेश का भी पुलिस ने इस दौरान उल्लंघन किया है। गिरफ्तारी के वक्त पुलिस को यूनिफॉर्म के साथ आधिकारिक वाहन में होना चाहिए, लेकिन छात्र की गिरफ्तारी के वक्त इन नियमों का उल्लंघन किया गया।

इस मामले में पूर्व की सुनवाई में हाईकोर्ट ने मौखिक टिप्पणी करते हुए कहा था कि झारखंड पुलिस भी कानून पूरी तरह से नहीं जानती है। कानून के प्रति पुलिस वालों को ट्रेन करना चाहिए। ऐसे में जरूरी है कि सरकार पुलिस को कैप्सूल कोर्स कराए। हाई कोर्ट ने यह भी कहा कि दूसरे राज्य की पुलिस झारखंड से व्यक्ति को पकड़ कर ले गई लेकिन, कस्टडी में लेकर ट्रांजिट परमिट तक नहीं ली गयी। दूसरे राज्य ले जाने के संबंध में कोर्ट का ऑर्डर भी नहीं है। अगर पुलिस को सूचना थी तो जाने कैसे दिया गया। मध्यप्रदेश की पुलिस की गलती जितनी है, उतनी ही गलती मामले में झारखंड पुलिस की भी है। जानबूझ कर पुलिस ने अभियुक्त को जाने दिया।