BREAKING NEWS

डेंगू मरीजों से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे पर PMCH में फेंकी गई स्याही, देखें VIDEO◾NSG के स्थापना दिवस समारोह में बोले अमित शाह-आतंकवाद के खिलाफ जारी है निर्णायक लड़ाई ◾महाराष्ट्र : BJP ने जारी किया संकल्प पत्र, 1 करोड़ नौकरी और राज्य को सूखा मुक्त बनाने का किया वादा◾PMC बैंक घोटाला : प्रदर्शन के बाद घर लौटे खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत, बैंक में जमा थे 90 लाख◾अभिजीत बनर्जी को लेकर सिब्बल का PM मोदी पर कटाक्ष, कहा- काम पर लग जाइए, तस्वीरें कम खिंचवाइए◾भारत में बड़ी वारदात को अंजाम देने की साजिश, बालाकोट में 50 आतंकियों को दी जा रही है ट्रेनिंग◾प्रियंका ने अभिजीत बनर्जी को दी नोबेल की बधाई, बोलीं- आशा है न्याय योजना वास्तविकता बनेगी◾उत्तर प्रदेश में बेरोजगार हुए 25 हजार होमगार्ड, योगी सरकार ने खत्म की ड्यूटी◾FATF में अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान, ‘डार्क ग्रे’ सूची में डाला जा सकता है नाम◾महाराष्ट्र चुनाव: उद्धव ठाकरे की रैली के लिए तोड़ी गई स्कूल की दीवार◾राफेल पर PM मोदी का राहुल को जवाब, कहा- वे चाहते थे नया विमान न आने पाए◾CM नीतीश कुमार ने पटना में भारी बारिश से हुये जलजमाव की उच्चस्तरीय समीक्षा की ◾मोबाइल वैन के जरिए प्याज बेचने की दिल्ली सरकार की योजना बेहद सफल रही : केजरीवाल ◾रविशंकर प्रसाद बोले- अफवाह फैलाने वाले संदेशों के स्रोत तक हो एजेंसियों की पहुंच◾भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार, PM ने ट्वीट कर दी बधाई◾TOP 20 NEWS 14 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ PM नरेंद्र मोदी ने नीदरलैंड के राजा-रानी से वार्ता की ◾हरियाणा विधानसभा चुनाव : PM मोदी बोले- विपक्ष में दम तो कहे कि 370 वापस लाएंगे◾हरियाणा: राहुल का PM पर वार, बोले- अडानी और अंबानी के लाउडस्पीकर हैं मोदी◾अयोध्या विवाद : मुस्लिम पक्षकारों का आरोप-हिन्दु पक्ष से नहीं सिर्फ हमसे ही किए जा रहे है सवाल◾

अन्य राज्य

झारखंड : इस साल देवघर में कांवड़ियों के लिए विशेष इंतजाम

द्वादश ज्योतिर्लिगों में शामिल झारखंड के देवघर स्थित प्रसिद्घ बाबा बैद्यनाथ धाम में इस साल एक महीने तक चलने वाले श्रावणी मेले में आने वाले कांवड़ियों और श्रद्घालुओं की सुविधा के लिए विशेष व्यवस्था की जा रही है। इस वर्ष सुरक्षा-व्यवस्था भी चुस्त की जा रही है। 17 जुलाई से प्रारंभ होकर 15 अगस्त तक चलने वाले इस धार्मिक मेले में कांवड़ियों को किसी प्रकार का कष्ट न हो, इस लिहाज से तैयारी की जा रही है। 

श्रावणी मेले के दौरान पर्यटकों के लिए न केवल वाटरप्रूफ टेंट में रुकने का इंतजाम होगा, बल्कि जलाभिषेक के बाद साथ ले गए मोबाइल, कैश और ज्वेलरी जैसे कीमती सामानों को क्लॉक रूम में रख सकेंगे। देवघर के उपायुक्त (जिलाधिकारी) राहुल कुमार सिन्हा ने सोमवार को कहा, "टेंट के लिविंग स्पेस में एक साथ 2,250 श्रद्घालुओं के ठहरने के लिए 19 हजार वर्गफुट एरिया में लग्जरी कॉमन डोरमेटरी बनाया जा रहा है। बारिश से बचने के लिए यह वाटरप्रूफ तो होगा ही, साथ ही इसमें अनुकूल वातावरण तैयार करने के लिए ठंडी हवा का भी इंतजाम रहेगा।" 

मेले को लेकर सुरक्षा के भी पुख्ता प्रबंध किए जा रहे हैं। झारखंड पुलिस मुख्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले सालों से इस साल मेला क्षेत्र में अधिक पुलिसकर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। उन्होंने बताया, "इस बार 1340 अधिकारी और 9585 पुलिसकर्मी तैनात किए जा रहे हैं, जिसमें एक पुलिस उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) स्तर के अधिकारी, तीन पुलिस अधीक्षक (एसपी) स्तर के अधिकारी, 70 पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) के अलावा त्वरित प्रतिक्रिया बल (आरएएफ) की दो, सीआरपीएफ की दो, सीआरपीएफ की एक महिला बटालियन, एनडीआरएफ की दो कम्पनियां तैनात की जा रही हैं। इसके अलावा एटीएस और विशेष शाखा की टीम भी रहेगी।"

उन्होंने बताया कि राज्य पुलिस ने पड़ोसी राज्य बिहार के साथ समन्वय बनाते हुए एक टीम सुल्तानगंज भी भेजने की योजना बनाई है, जो वहां से चलने वाले कांवड़ियों पर नजर रखेगी। उल्लेखनीय है कि देवघर के बैद्यनाथ धाम में वर्ष भर शिवभक्तों की भीड़ लगी रहती है, परंतु सावन महीने में यह पूरा क्षेत्र केसरिया धारण किए कांवड़ियों से पट जाता है।

भगवान भोलेनाथ के भक्त 105 किलोमीटर दूर बिहार के भागलपुर के सुल्तानगंज में बह रही उत्तर वाहिनी गंगा से जलभर कर कांवड़ लिए पैदल यात्रा करते हुए यहां आते हैं और बाबा का जलाभिषेक करते हैं। पिछले वर्ष सावन महीने में यहां 38 लाख श्रद्घालुओं ने ज्योतिर्लिग पर जलाभिषेक किए थे। इस बार यह संख्या बढ़ने की संभावना है। 

इस लंबी दूरी में कांवड़ियों के लिए कई पड़ाव हैं। इन पड़ाव स्थलों पर कांवड़ियों के विश्राम के लिए विभिन्न सुविधाओं से युक्त सरकार व गैर सरकारी संस्थाओं की ओर से विभिन्न सुविधाओं से युक्त धर्मशालाएं व पंडाल लगाए गए हैं। कई श्रद्घालु वाहनों के जरिए सीधे बाबा नगरिया आकर भगवान भोले का जलाभिषेक करते हैं। 

ओखला शोधन संयंत्र में खुले में कचरा जलाने पर NGT ने मांगी रिपोर्ट