BREAKING NEWS

गोवा चुनाव : कांग्रेस के उम्मीदवारों की नयी सूची में भाजपा, आप के पूर्व नेताओं के नाम शामिल ◾PM मोदी के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा’ में भाग लेने की समय सीमा 27 जनवरी तक बढ़ाई गई ◾दिल्ली में घटे कोरोना टेस्ट के दाम, अब 500 की जगह इतने रुपये में करवा सकते हैं RT-PCR TEST ◾ इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾

झारखंड की पूर्ण क्षमता का नहीं हो सका उपयोग

रांची : पंद्रहवें वित्त आयोग ने आज यहां कहा कि झारखंड राज्य जिस उद्देश्य से बना था वह पूरा नहीं हो सका और राज्य की पूर्ण क्षमता का उपयोग नहीं किया जा सका। लेकिन वित्त आयोग मानता है कि यहां की मूलभूत समस्याओं के हल के लिए राज्य को सहानुभूतिपूर्ण सहयोग की आवश्यकता है। पंद्रहवें वित्त आयोग के अध्यक्ष एन के सिंह ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि झारखंड के पिछले 18 वर्षों के विकास का अध्ययन करने से यह स्पष्ट हो जाता है कि जिस उद्देश्य से 18 वर्ष पूर्व इस राज्य का गठन किया गया था वह पूरा नहीं हो सका। यह उद्देश्य इसका तेजी से विकास करना था ताकि वह सभी तरह की चुनौतियों को स्वीकार करते हुए आगे बढ़ सके लेकिन ऐसा हो न सका।’

उन्होंने कहा कि राज्य में गरीबी रेखा के नीचे बसर कर रहे लोगों की संख्या अब भी बहुत अधिक है और यह 27 से 28 प्रतिशत तक है जो अनेक जिलो में और अधिक हैं लेकिन इस हालात को बदलने की आवश्कता है। सिंह ने कहा कि वर्ष 2010-11 तक मोटे तौर पर यहां वित्तीय घाटा और अन्य आर्थिक मामलों में अनुशासन कायम रहा लेकिन पिछले तीन वर्षों में वित्तीय घाटा और कर्ज के मामले में राज्य की स्थिति ठीक नहीं रही है ।’ उन्होंने कहा कि फिर भी यह सराहनीय है कि मानव संसाधन विकास के अनेक कारकों में पिछले दो वर्षों में बड़े सुधार हुए हैं। शिशु मृत्यु दर, शिक्षा, गर्भवती महिला के स्वास्थ्य आदि में बड़े बदलाव दर्ज किये गये हैं।

झारखंड में सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) के अनुपात में रिण के बढ़ने एवं वित्तीय घाटे के बढ़ने के बारे में पूछे गये एक सवाल के जवाब में वित्त आयोग के अध्यक्ष सिंह ने कहा कि इसका तात्कालिक कारण तो राज्य द्वारा केन्द्र की उदय योजना को अपनाना रहा है जिसके तहत राज्य विद्युत बोर्ड को कर्जे के बोझ से बाहर निकालने के लिए राज्य सरकार द्वारा उसे 5,553 करोड़ रुपये दिये गये और सरकार ने इसके लिए इस राशि का ऋण केंद्र की एजेंसियों से लिया। झारखंड सरकार ने वर्ष 2015-16 में यह कर्ज लिया था जिसके चलते उसका सकल घरेलू उत्पाद के मुकाबले ऋण का प्रतिशत उक्त वर्ष में 24 प्रतिशत रहा।

उदय योजना के लिए लिये गये इस ऋण का ही यह परिणाम रहा कि वर्ष 2016-17 में राज्य के सकल घरेलू उत्पाद की तुलना में राज्य का ऋण 26 प्रतिशत तक पहुंच गया जो 14वें वित्त आयोग द्वारा तय 25.16 प्रतिशत की सीमा को लांघ गया।  सिंह ने कहा कि झारखंड की कुछ समस्याएं पारंपरिक हैं जबकि यहां की कुछ अन्य समस्याएं अलग तरह की है। राज्य में आदिवासियां की संख्या 27 प्रतिशत से अधिक है जो बहुत गरीब और अल्प विकसित हैं। राज्य की इस अलग समस्या को ध्यान में रखते हुए वित्त आयोग सहानुभूति पूर्वक अलग वित्तीय संसाधनों का प्रावधान करने पर विचार करेगा।