BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

माघी पूर्णिमा स्नान के साथ ही समाप्त हुआ कल्पवास

पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलीला स्वरूप में प्रवाहित सरस्वती की रेती पर कुम्भ में पौष पूर्णिमा स्नान के साथ ही संयम, अहिंसा, श्रद्धा एवं कायाशोधन का‘कल्पवास’माघी पूर्णिमा स्नान के साथ ही खत्म हो गया और कल्पवासियों की घर वापसी शुरू हो गयी। त्रिवेणी में आध्यात्मिक संबल देने वाली रेती पर बसे तंबुओं की अस्थायी नगर में कल्पवासी आत्मा की शुद्धि और आध्यात्मिक उन्नति के लिए एक माह का कल्पवास करता है। श्रद्धालु यहाँ एक महीने तक संगम तट पर निवास करते हुए जप, तप, ध्यान, साधना, यज्ञ एवं दान आदि विविध प्रकार के धार्मिक कृत्य करते हैं।

कल्पवास का वास्तविक अर्थ है काया और कल्प। यह कायाकल्प शरीर और अन्त:करण दोनों का होना चाहिए। इसी द्विविध कायाकल्प के लिए पवित्र संगम तट पर जो एक महीने का वास किया जाता है उसे कल्पवास कहा जाता है। वैदिक शोध एवं सांस्कृतिक प्रतिष्ठान कर्मकाण्ड प्रशिक्षण केन्द, के आचार्य डा आत्माराम गौतम ने बताया कि पौष पूर्णिमा से ही एक महीने के कल्पवास का भी आरंभ हो जाता है और माघी पूर्णिमा के स्नान के साथ ही इसका समापन होता है।

कल्पवासी इसी दिन अपने घरों के लिए रवाना हो जाते हैं। उन्होंने बताया कि कल्पवासी तीर्थपुरोहितों के आचार्यत्व में मंत्रोच्चार के बीच मां गंगा और भगवान वेणी माधव एवं पूर्वजों का स्मरण कर त्याग और तपस्या के 21 नियमों को निष्ठा भक्ति के साथ निभाते हैं। कल्पवासी अपने शिविर के बाहर दरवाजे पर तुलसी का बिरवा लगाते हैं और जौ बोते हैं। प्रात:काल स्नान के बाद यहां जल अर्पित करते हैं और सांध्य बेला में दीपक जलाते हैं।