हल्द्वानी : कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और असम प्रभारी हरीश रावत मंगलवार को चुनाव प्रचार के बाद हल्द्वानी पहुंचे, यहां स्वराज आश्रम में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। हरीश रावत ने पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक भी की। इस दौरान हरीश रावत ने कहा कि दूसरे और तीसरे चरण में कांग्रेस को काफी फायदा मिला है। इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पराजय एक महिला के हाथों होनी निश्चित है।

प्रियंका गांधी के पीएम मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ने की चर्चाओं पर हरीश रावत ने कहा कि पीएम मोदी को प्रार्थना करनी चाहिए कि वे उनके खिलाफ चुनाव न लड़ें, नहीं तो उनकी हार निश्चित है। क्योंकि ज्योतिषियों के अनुसार उनकी कुंडली में कालसर्प योग है और एक महिला के हाथों उनकी पराजय निश्चित है।

रावत ने दावा किया है कि देश में कांग्रेस अपने दम पर 200 और यूपीए गठबंधन के तहत 300 से अधिक सीटें लाकर केंद्र में सरकार बनाएगी । प्रथम और दूसरे चरण के मतदान के बाद लोग काफी उत्साहित हैं। तीसरे चरण में जनता परिवर्तन के लिए वोट कर रही है। तीनों चरणों के मतदान में मोदी के लिए कोई शुभ लक्षण नहीं है।

निश्चित है कि इस बार पीएम मोदी जाएंगे और राहुल गांधी आएंगे। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के बीच जुबानी जंग पर उन्होंने कहा कि मेरा इरादा त्रिवेंद्र सिंह रावत को दुख पहुंचाने का नहीं था। लेकिन उन्होंने मेरी चुनावी हार को गिनाया, जिसके बाद उनको मजबूर होकर ट्विटर पर लिखना पड़ा। हरीश ने त्रिवेन्द्र सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि वो इस चुनाव में कहीं नजर नहीं आ रहे हैं और न ही जनता में उनकी कोई चर्चा हो रही है। हरीश रावत ने आगे कहा कि वो अपनी सरकार के बारे में चर्चा तक नहीं कर रहे हैं।