BREAKING NEWS

पंजाब : नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए उन्हें बताया फुंका कारतूस◾कांग्रेस पटोले को निगरानी में रखे और PM के खिलाफ टिप्पणी के लिए शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की जांच कराएं : भाजपा ◾दिल्ली कोर्ट ने शरजील इमाम के खिलाफ देशद्रोह का आरोप तय करने का दिया आदेश ◾छत्तीसगढ़ : मुख्यमंत्री बघेल ने भाजपा पर लगाया आरोप, कहा- सत्ता में आने के लिए लोगों को बांटने का काम करती है ◾दिल्ली में कोरोना के 5,760 नए मामले सामने आये, संक्रमण दर गिरकर 11.79 ◾ रामपुर से आजम खां और कैराना से नाहिद हसन लड़ेंगे चुनाव, जानिए सपा की 159 उम्मीदवारों की लिस्ट में किसे कहां से मिली टिकट◾केंद्र सरकार को सुभाषचंद्र बोस को देश के पहले प्रधानमंत्री के रूप में मान्यता देनी चाहिए : TMC◾कपटी 1 दिन में प्राइवेट नंबर पर 5 हजार से ज्यादा मैसेज नहीं आ सकते.....सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना◾कर्नाटक : मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने पहले बजट की तैयारियों में जुटे ◾गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾

विपक्ष के हंगामे के बाद कर्नाटक के गृह मंत्री ने बलात्कार मामले पर दिया विवादित बयान वापस लिया

कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने बृहस्पतिवार को मैसूरु में सामूहिक बलात्कार की घटना के संदर्भ में दिये गए अपने बयान को विपक्ष के हंगामे व मुख्यमंत्री द्वारा इससे असहमति जताये जाने के बाद वापस ले लिया।

मंत्री ने कहा था कि पीड़िता और उसके पुरुष मित्र को सुनसान जगह नहीं जाना चाहिए था और दावा किया था कि विपक्षी कांग्रेस निशाना बनाकर उनका ''बलात्कार'' करने की कोशिश कर रही है।

ज्ञानेंद्र ने कांग्रेस पर इस तरह की ''अमानवीय'' घटना से राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया।

ज्ञानेंद्र ने कहा, ''(मंगलवार को) शाम 7-7:30 बजे वे (पीड़िता और पुरुष मित्र) वहां गए थे। वह सुनसान जगह है, उन्हें नहीं जाना चाहिए था, लेकिन हम किसी को जाने से नहीं रोक सकते। वह एक सुनसान जगह है और वहां आमतौर पर कोई नहीं जाता क्योंकि वहां कोई नहीं होता।''

उन्होंने यहां पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि ऐसी जगहों पर पुलिस गश्त की कमी के चिंता विषय है। वह मैसूर जाकर अधिकारियों के साथ खामियों को दूर करने पर चर्चा करेंगे।

सामूहिक बलात्कार की घटना के बाद कांग्रेस द्वारा राज्य की कानून व्यवस्था की आलोचना किये जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मंत्री ने कहा, ''वहां (मैसुरु में) बलात्कार हुआ है, लेकिन कांग्रेस मेरा बलात्कार करने की कोशिश कर रही है, वे गृह मंत्री का बलात्कार की कोशिश कर रहे हैं।'' । वे राजनीतिक लाभ हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं। यह एक अमानवीय कृत्य है। जब ऐसी घटनाएं होती हैं, तो इसे मानवीय दृष्टिकोण से देखने और (दोषियों) का पता लगाने के लिए दबाव बनाने के बजाय, राजनीतिक लाभ लेने का प्रयास किया जाता है। लोग इसे देखेंगे। मैं इस पर ज्यादा कुछ नहीं कहूंगा। निर्देश दे दिये गए हैं। पुलिस तय करेगी कि उसे क्या करना है।''

बाद में, अपनी टिप्पणियों को वापस लेते हुए एक बयान में गृह मंत्री ने स्पष्ट किया कि मैसूरु में हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना को लेकर किसी को आहत करने का उनका कोई इरादा नहीं था।

उन्होंने कहा, ''मैंने कांग्रेस पार्टी के नेताओं के बारे में पहले दिए गए बयान को वापस ले लिया है।Ó

इससे पहले, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डी के शिवकुमार ने गृह मंत्री के बयान के लिये उनपर हमला बोलते हुए कहा कि पुलिस को ''गृह मंत्री के साथ बलात्कार'' में शामिल उनकी पार्टी के लोगों को गिरफ्तार करना चाहिये। फिर चाहे वह कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया हों या कोई अन्य नेता।

शिवकुमार ने कहा, ''उन्होंने (गृह मंत्री) ने दावा किया है कि कांग्रेस उनका बलात्कार कर रही है। वह बलात्कार शब्द का बहुत हल्के ढंग से इस्तेमाल कर रहे हैं ... ऐसा लगता है कि उन्हें यह शब्द पसंद है। मैं इस बयान पर भाजपा नेताओं की प्रतिक्रिया चाहता हूं। जब गृह मंत्री कह रहे हैं कि कांग्रेस उनका बलात्कार कर रही है तो राज्य का प्रशासन क्या कर रहा है?''

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ''गृह मंत्री आप पर राज्य की रक्षा करने की जिम्मेदारी है, क्या आपको इस तरह की घटिया टिप्पणी करने में शर्म नहीं आती? इस बयान से वह (गृह मंत्री) इस बात से सहमत हो गए हैं कि भाजपा शासन में शाम साढ़े सात बजे भी बाहर निकलना खतरनाक है।''

शिवकुमार ने कहा कि यह पुलिस विभाग के लिए शर्म की बात है और पार्टी को कर्नाटक की छवि की चिंता है।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने भी ज्ञानेन्द्र की टिप्पणी से असहमति जतायी।

मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं अपने गृह मंत्री द्वारा सामूहिक बलात्कार की घटना के संबंध में की गई टिप्पणियों से सहमत नहीं हूं। मैंने उन्हें स्पष्टीकरण देने को कहा है।”

गौरतलब है कि कॉलेज में पढ़ने वाली एक लड़की के साथ पांच लोगों ने मैसूर के चामुंडी हिल के पास मंगलवार देर रात कथित तौर पर बलात्कार किया। यह घटना बुधवार को सामने आई। पीड़ित लड़की और उसके पुरुष मित्र का एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है।