BREAKING NEWS

यूपी की राह पर शिवराज सरकार - ‘लव जिहाद’ के दोषी को होगी 10 साल की सजा, लाएंगे विधेयक◾यूपी में योगी सरकार ने एस्मा लागू किया, अगले 6 माह तक नहीं होगी हड़ताल ◾लखनऊ विश्वविद्यालय : सामर्थ्य के इस्तेमाल का बेहतर उदाहरण है रायबरेली का रेल कोच फैक्ट्री- PM मोदी◾असंतुष्ट नेताओं से ममता बनर्जी की अपील : पार्टी को गलत मत समझिए, हम गलतियों को सुधारेंगे◾कोरोना के खिलाफ केंद्र ने कसी कमर, 31 दिसंबर तक के लिए जारी की नई गाइडलाइंस, जानें क्या हैं नियम◾लक्ष्मी विलास बैंक के DBS बैंक में विलय को मिली मंजूरी , सरकार ने निकासी की सीमा भी हटाई ◾ललन पासवान बोले-मुझे लगा लालू जी ने बधाई देने के लिए फोन किया, लेकिन वे सरकार गिराने की बात करने लगे◾पंजाब में एक दिसंबर से नाइट कर्फ्यू, कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने पर 1000 का जुर्माना◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾निर्वाचित प्रतिनिधियों की अनुशासनहीनता से उन्हें चुनने वाले लोगों की भावनाएं आहत होती हैं : कोविंद◾भारत में बैन हुए 43 मोबाइल ऐप पर ड्रैगन को लगी मिर्ची, व्यापार संबंधों की दी दुहाई ◾भाजपा MP के विवादित बोल - रोहिंग्याओं, पाकिस्तानियों को भगाने के लिए भाजपा करेगी 'सर्जिकल स्ट्राइक'◾विपक्ष के जबरदस्त हंगामे के बीच NDA के विजय सिन्हा बने बिहार विधानसभा के स्पीकर◾सुशील मोदी का दावा-लालू ने BJP MLA को दिया मंत्री पद का लालच, ट्विटर पर जारी किया ऑडियो◾UN में 'झूठ का डोजियर' पेश करने के लिए भारत ने पाक को लगाई फटकार, कहा- यह उसकी पुरानी आदत ◾लव जिहाद के खिलाफ UP सरकार के फैसले का अनिल विज ने किया स्वागत, बोले-योगी जिंदाबाद◾विश्व के 191 देशों में कोरोना का कहर तेज, अब तक 14 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान ◾सोनिया और राजीव के विश्वासपात्र रहे अहमद पटेल थे कांग्रेस के असली संकटमोचक◾Weather update : जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी से उत्तर भारत में बढ़ी ठंड ◾देश में कोरोना एक्टिव केस में बढ़ोतरी, संक्रमितों का आंकड़ा 92 लाख के पार ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कर्नाटक : कुमारस्वामी ने कहा- देश की प्राचीन संस्कृति का अध्ययन करने संबंधी समिति का पुनर्गठन किया जाए

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने केंद्र से देश की पिछले 12 हजार साल की संस्कृति का अध्ययन करने के लिए गठित की गई 16 सदस्यीय समिति का पुनर्गठन करने की बुधवार को मांग की। उन्होंने कहा कि यह आपत्तिजनक है कि इसमें द्रविड़ संस्कृति को जानने वाले दक्षिण भारतीय शामिल नहीं हैं।

जद (एस) के नेता ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा कि समिति में कोई महिला सदस्य शामिल नहीं है। यह उल्लेख करते हुए कि समिति में उत्तर भारतीयों की भरमार है, उन्होंने प्रस्तावित अध्ययन के उद्देश्य पर संदेह भी व्यक्त किया और आरोप लगाया, ‘‘इसमें ऐसे लोगों की भरमार है जो संस्कृति, इतिहास और धरोहर के मुद्दे पर पूर्वाग्रह से प्रेरित हो सकते हैं।’’

कुमारस्वामी ने ट्वीट किया, ‘‘केंद्र ने भारत की पिछले 12 हजार साल की संस्कृति का अध्ययन करने के लिए 16 सदस्यीय समिति का गठन किया है। यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि समिति में कोई कन्न्ड़ भाषी व्यक्ति या दक्षिण भारतीय शामिल नहीं हैं जो द्रविड़ संस्कृति को जानते हैं। समिति में यहां तक कि कोई महिला सदस्य भी नहीं है।’’