BREAKING NEWS

पटना में 23 जून को होगी विपक्षी दलों की बैठक, राहुल-केजरीवाल सहित ये नेता होंगे शामिल ◾अनुप्रिया पटेल को केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश पर Y + श्रेणी की सुरक्षा ◾बेंगलुरु में फारूक अब्दुल्ला ने पूर्व PM देवेगौड़ा से की मुलाकात, कश्मीर फाइल्स-केरल स्टोरी फिल्म पर कही ये बात ◾कुड़मी जाति को ST का दर्जा देने के सवाल पर झारखंड से बंगाल तक बवाल, बन रहे जातीय टकराव के हालात◾पहलवानों के खिलाफ दर्ज सभी प्राथमिकी वापस लेंगे : अनुराग ठाकुर◾ कर्नाटक : बैंक धोखाधड़ी मामले में प्रवर्तन निदेशालय कड़ी करवाई ◾मोदी सरकार का किसानों को बड़ा तोहफा, इन फसलों के MSP में की भारी बढ़ोतरी, देखें लिस्ट ◾तज़ाकिस्तान दौरे पर रुसी मंत्री ने अफगानिस्तान के हालात पर चिंता व्यक्त की ◾खुशखबरी! केंद्रीय कैबिनेट ने हुडा सिटी सेंटर से गुरुग्राम के साइबर सिटी तक मेट्रो कनेक्टिविटी को दी मंजूरी◾असम में मालगाड़ी उतरी पटरी से ,किसी के हताहत की कोई खबर नहीं ◾Rajasthan Politics: गजेंद्र सिंह शेखावत बोले- जांच एजेंसी का दुरुपयोग कर रही है गहलोत सरकार ◾पाकिस्तान में हैवानियत की सारी हदे पार पांच साल के मासूम के हाथ डाले खौलते तेल मे, बाल मज़दूरी पाकिस्तानी समाज का आदर्श ◾UP: गैंगस्टर संजीव जीवा की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या, शूटर गिरफ्तार◾ देश में तेजी से बढ़ रहा जबरन धर्मांतरण के मामले, केन्द्र सरकार लाएगी कानून ?◾ सरकार के 9 वर्ष पूरे होने पर बोले गजेंद्र सिंह शेखवात, 2004 से 2014 का दशक रहा कालरात्रि, PM मोदी के कारण भारत कर रहा है दुनिया का नेतृत्व◾पहलवानों की खेल मंत्री से मांग: महिला को WFI प्रमुख बनाएं, हमारे खिलाफ FIR रद्द करें ◾‘मुसलमानों को औरंगजेब पसंद’: कोल्हापुर में हिन्दू संगठनों ने जताया विरोध, हरकत में आई पुलिस प्रशासन, उठाया ये बड़ा कदम ◾दुबई स्वास्थ्य प्राधिकरण ने विश्व प्रत्यारोपण दिवस पर 'अंग दान' जागरूकता अभियान शुरू किया◾AIUDF नेता रफीदुल इस्लाम बोले- "असम सरकार निजी मदरसों को बंद नहीं कर सकती"◾उत्तर प्रदेश : मेरठ में 35 वर्षीय महिला की गोली मारकर हत्या ◾

Karnataka polls: सिद्धरमैया की चुनावी सीट पर सस्पेंस, ‘कोलार और बादामी’ बनी चर्चा का केंद्र

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धरमैया आगामी कर्नाटक विधानसभा चुनाव किस सीट से लड़ेंगे, इसे लेकर मंगलवार को भी संशय बरकरार रहा। वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने कहा कि वह इस बारे में अपने परिवार के साथ विचार-विमर्श करेंगे।मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री के समर्थकों ने उनके कोलार से चुनाव लड़ने के अपने फैसले पर कायम रहने के लिए उन पर दबाव बनाया। 

हालांकि, पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने कथित तौर पर यह स्पष्ट कर दिया है कि वे इस कदम के पक्ष में नहीं हैं। इस बीच, सिद्धरमैया ने इस दावे को खारिज किया है कि कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व ने उन्हें कोलार सीट से चुनाव नहीं लड़ने की सलाह दी है। वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में सिद्धरमैया ने दो निर्वाचन क्षेत्रों से चुनाव लड़ा था। वह बागलकोट जिले की बादामी सीट से जीते जबकि मैसूरु जिले की चामुंडेश्वरी सीट से हार गए थे।

सिद्धरमैया ने कहा कि केंद्रीय नेतृत्व ने उन्हें अपने निर्वाचन क्षेत्र का चयन करने में ‘‘एक प्रतिशत जोखिम’’ भी नहीं लेने और उन्हें चुनाव प्रचार के लिए पूरे राज्य का दौरा करने के लिए कहा था। कोलार सहित कर्नाटक के विभिन्न हिस्सों से आए सिद्धरमैया के समर्थकों ने मंगलवार को उनके आवास के बाहर धरना दिया और मांग की कि वह कोलार से ही चुनाव लड़ें। प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए वरिष्ठ नेता ने कहा कि वह पार्टी आलाकमान द्वारा लिए गए निर्णय का पालन करेंगे।