BREAKING NEWS

गहलोत सरकार ने हासिल किया विश्वास मत, 21 अगस्त तक के लिए विधानसभा स्थगित◾राजस्थान विधानसभा में सरकार के बचाव में खड़े हुए सचिन पायलट, खुद को बताया सबसे मजबूत योद्धा◾कोर्ट की अवमानना मामले में वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण दोषी करार◾जम्मू-कश्मीर : स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले श्रीनगर में आतंकवादी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद◾सुशांत मामले में बदले संजय राउत के सुर, कहा-अभिनेता के परिवार को मिले न्याय◾कोरोना वैक्सीन बनाने वाले देशों में से एक होगा भारत, सरकार को वितरण रणनीति बनाने की जरूरत : राहुल गांधी◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 64 हजार 533 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 25 लाख के करीब◾दुनियाभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 2 करोड़ 7 लाख के पार, 7 लाख 52 हजार लोगों की मौत ◾LAC विवाद पर US ने दिया भारत का साथ, चीनी आक्रामकता की आलोचना करने वाला प्रस्ताव अमेरिकी सीनेट में पेश◾राजस्थान विधानसभा का सत्र आज से, BJP के अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ कांग्रेस लाएगी विश्वास प्रस्ताव◾स्वतंत्रता दिवस : कोरोना महामारी के बीच हर साल से अलग होगा समारोह, दिल्ली में की गई बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था ◾राजस्थान : विधायक दल की बैठक के बाद कांग्रेस ने कहा- सभी विधायकों ने भाजपा का षड्यंत्र विफल करने का लिया संकल्प ◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, संक्रमितों का आंकड़ा 5.60 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 11,813 नए केस◾आंध्र प्रदेश में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटों में 82 लोगों की मौत, 9996 नए मामले◾राजस्थान: विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत बोले- कांग्रेस खुद लाएगी विश्वास प्रस्ताव ◾कोविड-19 : राहुल का PM मोदी पर वार, कहा- कोरोना की यह ‘संभली हुई स्थिति’ है तो ‘बिगड़ी स्थिति’ किसे कहेंगे ◾कोविड-19 : स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में मृत्यु दर घटकर 1.96 % हुई, कुल 27 प्रतिशत लोग ही संक्रमित◾राजस्थान : CM आवास पर शुरू हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठक, गहलोत से मिले पायलट◾राजस्थान की गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी BJP◾उत्तर प्रदेश में कोरोना के 4 हजार 603 नए मामले की पुष्टि, 50 लोगों की मौत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कोलकाता : सरकार ने विद्यालयों को जारी किये गए परिपत्र वापिस लिए

कोलकाता : पश्चिम बंगाल सरकार ने शनिवार को उस अधिसूचना को वापस ले लिया, जिसमें शहर के 26 विद्यालयों में विद्यार्थियों को लाने-ले जाने के लिए ‘कार पुल’ एवं बस सेवाएं अनिवार्य की गयी थी। राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने संबंधित शीर्ष अधिकारियों को सूचित किये बगैर ही जनवरी के आखिरी हफ्ते में यह परिपत्र जारी कर दिया था। 

उन्होंने कहा, ‘‘जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को इस बारे में पता चला तो उन्होंने यह मुद्दा मेरे सामने उठाया और हमने स्कूल शिक्षा विभाग से यह परिपत्र तत्काल प्रभाव से वापस लेने को कहा। मैं ऐसा परिपत्र जारी करने की जरूरत समझ नहीं पाया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हमें तो यह भी नहीं पता कि अन्य शहरों में ऐसी कोई व्यवस्था भी है या नहीं।’’ 

स्कूल शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि यह अधिसूचना वापस ले ली गयी है लेकिन उन्होंने इस कदम की कोई वजह बताने से इनकार कर दिया। इस अधिसूचना का लक्ष्य सड़कों पर भीड़ और वायु प्रदूषण में कमी लाना था। अपने इस अधिसूचना में विभाग ने शहर के 26 प्रमुख विद्यालयों के प्रशासनों से अप्रैल तक एक ऐसी प्रणाली को अनिवार्य रूप से लागू करने को कहा था जिसके तहत विद्यार्थी स्कूल बस या कार पुल कर लाए ले जाये जायेंगे।