BREAKING NEWS

क्या नाराज हैं फडणवीस ! सत्ता में आने के बाद भी जश्न में भी नही हुए शामिल◾ क्या नाराज हैं फडणवीस ! सत्ता में आने के बाद भी जश्न में भी नही हुए शामिल◾ राष्ट्रपति चुनाव : शिअद व जजपा करेंगी मुर्मू का समर्थन ◾ Presidential Election 2022: द्रौपदी मुर्मू सर्वसम्मति की उम्मीदवार हो सकती थीं, CM ममता का बड़ा बयान◾ GST collection: जून में 56% उछला जीएसटी संग्रह, मार्च 2022 के बाद से लगातार चौथा महीना है जब कलेक्शन इतना अधिक◾उप्र : नोएडा में अवैध कोरियाई रेस्तरां का भंडाफोड़, भारी मात्रा में शराब बरामद, दो गिरफ्तार◾ यूक्रेन -रूस युद्ध : ओदेसा में रूस के मिसाइल हमले में 19 लोगों की मौत◾ Punjab: क्या पंजाब लोक कांग्रेस का बीजेपी में होगा विलय? कैप्टन अमरिंदर सिंह जल्द कर सकते हैं बड़ा ऐलान ◾राहुल गांधी का भाजपा पर तीखा प्रहार, बोले- देश में ‘‘गुस्से और नफरत" का बनाया माहौल◾ भारत ने पाकिस्तान से हिरासत में रखे कैदियों को रिहा करने को कहा◾ PM Modi News: प्रधानमंत्री मोदी ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से की फोन पर बात, जानें किन मुद्दों पर हुई चर्चा◾ राजस्थान : कन्हैयालाल के कत्ल के बाद एक्शन में गहलोत प्रशासन, भड़काऊ बयान देने वाला मौलवी गिरफ्तार ◾उपराष्ट्रपति चुनाव में भी चौंका सकती हैं भाजपा, पूर्वोत्तर से हो सकता हैं राजग का उम्मीदवार ◾Prophet Remarks Row: नूपुर शर्मा को बचा रही BJP... मोहम्मद जुबैर की गिरफ्तारी क्यों? ओवैसी हमलवार ◾Yair Lapid: यैर लैपिड बने इजराइल के नए प्रधानमंत्री, PM मोदी ने बधाई देते हुए कहा- दोनों देश पूर्ण राजनयिक...◾नूपुर शर्मा को लेकर जो टिप्पणी की है उसको देखते हुए सत्तारूढ दल का सिर शर्म से झुकना चाहिए : कांग्रेस ◾ शिंदे के कदम से कमजोर नहीं होगी पार्टी, जहां ठाकरे-वहीं शिवसेना : संजय राउत ◾Maharashtra News: सत्ता पलटने के बाद ठाकरे का छलका दर्द! बोले- 2019 में अमित शाह मान जाते तो.... ◾जीएसटी ने कारोबारी सुगमता बढ़ाने में योगदान दियाः प्रधानमंत्री◾ वादे पर रहते तो आज BJP का होता मुख्यमंत्री, इस्तीफा देने के बाद उद्धव का शिंदे और भाजपा पर बड़ा हमला◾

विधान पार्षदों के नामांकन पर बंबई HC के निर्देश के बाद कोश्यारी ने अमित शाह से की मुलाकात

विधान पार्षदों के नामांकन पर बंबई उच्च न्यायालय के आदेश के कुछ घंटे बाद महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की है।उच्च न्यायालय ने कहा है कि राज्य के राज्यपाल ‘उचित समय’ के भीतर विधान पार्षदों के नामांकन पर निर्णय लेने के लिए बाध्य हैं।राजभवन ने शुक्रवार शाम को हुई बैठक को ‘शिष्टाचार भेंट’ करार दिया।

कोश्यारी द्वारा अपने कोटे से विधान परिषद (एमएलसी) के सदस्यों के रूप में 12 व्यक्तियों को नामित करने के लिए महाराष्ट्र मंत्रिपरिषद द्वारा भेजे गए प्रस्ताव पर निर्णय लेने में देरी राज्यपाल और महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार के बीच विवाद का एक प्रमुख कारण बन गई है।उच्च न्यायालय ने नामांकनों पर फैसला लेने के संबंध में राज्यपाल को निर्देश के अनुरोध के लिए नासिक के एक व्यक्ति द्वारा दाखिल याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई करते हुए यह आदेश पारित किया। उच्च न्यायालय ने कहा कि विधान परिषद (एमएलसी) के सदस्यों के रूप में 12 व्यक्तियों को नामित करने के लिए राज्य मंत्रिपरिषद द्वारा भेजे गए प्रस्ताव को ‘‘उचित समय के भीतर’’ स्वीकार या अस्वीकार करना महाराष्ट्र के राज्यपाल का ‘‘संवैधानिक दायित्व’’ है।

मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जी एस कुलकर्णी की पीठ ने कहा कि मंत्रिपरिषद द्वारा राज्यपाल को सूची भेजे जाने के आठ महीने बीत चुके है और यह ‘‘उचित समय’’ है। इस गतिरोध को दूर करना होगा।मंत्रिपरिषद ने नवंबर 2020 में परिषद के सदस्यों के लिए 12 नामों की सिफारिश की थी। राज्यपाल के कोटे से सदस्यों का कार्यकाल पिछले साल जून में खत्म हो गया था। सरकार ने दलील दी थी कि राज्यपाल को नामांकन पर उसके प्रस्ताव को स्वीकार कर लेना चाहिए और वह अपना निर्णय लंबित नहीं रख सकते।

तालिबान की बढ़ती ताकत, 2 और अफगान प्रांतीय राजधानियों पर नियंत्रण का किया दावा