BREAKING NEWS

बवाल : गाजीपुर, सिंघू, टिकरी बॉर्डर से बैरिकेड तोड़ दिल्ली में घुसे किसान, पुलिस ने दागे आंसूगैस के गोले ◾राजपथ पर अत्याधुनिक हथियार, मिसाइल, लड़ाकू विमानों, भारतीय सैनिकों ने दिखाई भारत की ताकत ◾72वां गणतंत्र दिवस : राजपथ पर दिखी ऐतिहासिक विरासत, सांस्कृतिक धरोहर और शौर्य की झलक◾पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की दी शुभकामनाएं ◾भाजपा ने जय श्रीराम का नारा लगाकर नेताजी का अपमान कियाः ममता बनर्जी ◾किसान संगठनों का ऐलान - बजट के दिन संसद की तरफ करेंगे कूच, यह पूरे देश का आंदोलन है◾गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर सम्बोधन में बोले कोविंद - किसानों के हित के लिए सरकार पूरी तरह समर्पित ◾प्रदूषण फैलाने वाले पुराने वाहनों पर लगाया जायेगा ‘ग्रीन टैक्स’, गडकरी ने दी मंजूरी◾पंजाब के CM अमरिंदर सिंह ने किसानों से शांतिपूर्ण तरीके से ट्रैक्टर परेड निकालने की अपील की ◾कृषि कानूनों को डेढ़ साल तक निलंबित रखने का फैसला सरकार की 'सर्वश्रेष्ठ' पेशकश : नरेंद्र सिंह तोमर◾मुंबई की किसान रैली में बोले पवार - राज्यपाल के पास कंगना के लिए समय है, किसानों के लिए नहीं◾टीकों के खिलाफ अफवाहों को रोकने और उन्हें फैलाने वालों के खिलाफ केंद्र द्वारा सख्त कार्रवाई के निर्देश ◾प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक असमानता बढ़ी : कांग्रेस ◾PM की मौजूदगी में तानों का करना पड़ा सामना, BJP का नाम होना चाहिए ‘भारत जलाओ पार्टी’ : CM ममता ◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं से किया संवाद, जीवनी पढ़ने की दी सलाह ◾राहुल के आरोपों पर बोले CM शिवराज, कांग्रेस के माथे पर देश के विभाजन का पाप◾किसानों ने ट्रैक्टर परेड के लिए तैयार किया ब्लू प्रिंट, चाकचौबंद व्यवस्था के साथ ये है गाइडलाइन्स◾PM की वजह से देश हो गया एक कमजोर और विभाजित भारत, अर्थव्यवस्था हुई ध्वस्त : राहुल गांधी ◾महाराष्ट्र में किसानों का हल्ला बोल, कृषि कानून विरोधी रैली में उतरेंगे शरद पवार-आदित्य ठाकरे ◾सिक्किम में चीनी घुसपैठ को भारतीय सैनिकों ने किया नाकाम, चीन के 20 सैनिक जख्मी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कोविड-19 : भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल में संक्रमित मरीजों का उपचार बंद

भोपाल : भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर (बीएमएचआरसी) में अब कोविड-19 से संक्रमित मरीजों का उपचार बंद हो गया है गौरतलब हो कि बीएमएचआरसी अस्पताल भोपाल गैस पीड़ितों के लिए बनाया गया था। बीएमएचआरसी का अब केवल कोविड—19 के तहत नमूना जांच लैब के रूप में उपयोग किया जाएगा।'' 

मालूम हो कि 23 मार्च को कोविड—19 बीमारी की रोकथाम हेतु बीएमएचआरसी को मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य स्तरीय कोविड-19 उपचार संस्थान के रूप में चिन्हांकित किया था और तत्पश्चात 28 मार्च को दूसरा आदेश जारी कर इस अस्पताल को जिला कलेक्टर के अधीन जिला प्रशासन भोपाल को सौंप दिया था। इसके बाद इस अस्पताल में केवल कोविड-19 मरीजों का ही उपचार हो रहा था और वहां भर्ती भोपाल गैस पीड़ित मरीजों को हटा दिया गया था, जिससे कथित रूप से इलाज के अभाव में नौ भोपाल गैस पीड़ितों की मौत हो गई। इनमें से पांच मरीजों की मरने के बाद जांच में पता चला कि ये कोविड—19 से संक्रमित थे। 

मध्य प्रदेश लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के आयुक्त फैज अहमद किदवई ने बताया, ''उक्त दोनों आदेशों को शासन द्वारा तत्काल प्रभाव से निरस्त कर दिया है।'' उन्होंने कहा, ''बीएमएचआरसी को जब उससे पूछा गया कि कोविड—19 के लिए चिन्हांकित करने के मात्र 23 दिन बाद ही ऐसा क्यों किया गया, तो इस पर उन्होंने कहा, ''उच्चतम न्यायालय में याचिका लगी थी कि इससे गैस पीड़ित लोग प्रभावित हो रहे हैं। इसलिए हटा दिया है।'' 

बीएमएचआरसी में केवल कोविड-19 के मरीजों का ही उपचार करने और भोपाल गैस पीड़ित मरीजों का उपचार न करने के खिलाफ भोपाल गैस पीड़ितों के हितों के लिये लंबे अरसे से काम करने वाले संगठन ‘भोपाल ग्रुप फॉर इन्फॉर्मेशन एंड एक्शन’ द्वारा यह जनहित याचिका दायर की गई थी। ‘भोपाल ग्रुप फॉर इन्फॉर्मेशन एंड एक्शन’ की सदस्य रचना ढींगरा ने बीएमएचआरसी को कोविड-19 के उपचार के लिए पूर्ण रूप से हटाने और पहले की तरह केवल भोपाल गैस पीड़ितों का उपचार फिर से शुरू करने के आदेश का स्वागत किया है। 

उन्होंने कहा कि हमारी जनहित याचिका की वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एके मित्तल व न्यायमूर्ति विजय शुक्ला की खंडपीठ के समक्ष सुनवाई हुई। अदालत ने राज्य सरकार को नोटिस जारी किए गए हैं और 21 अप्रैल को बीएमएचआरसी में गैस पीड़ितों के इलाज के सम्बन्ध में विस्तृत हलफनामे देने के लिए आदेशित किया है। इस मामले की पैरवी वरिष्ठ अधिवक्ता नमन नागरथ द्वारा की गई। ढींगरा ने कहा कि प्रशासन का यह फैसला स्वागत योग्य है क्योंकि उन्होंने इस बात की महत्वता समझी है कि कोविड—19 संक्रमण के चलते गैस पीड़ितों पर विशेष ध्यान देने की बहुत आवश्यकता है। 

ढींगरा ने सरकार से अनुरोध किया है कि वह बीएमएचआरसी एवं अन्य सभी गैस राहत अस्पतालों में इलाज करवा रहे पंजीकृत मरीजों के साथ तुरंत सम्पर्क कर उनका हाल जाने एवं उनकी कोविड—19 की जांच सुनिश्चित कराए। उन्होंने सरकार से मांग की है कि कोविड—19 महामारी से जाने गंवाने वाले सभी गैस पीड़ित मृतकों के परिजन को 50—50 लाख रूपये की राहत राशि दी जाए। ढींगरा ने दावा किया, ''भोपाल में कोरोना वायरस संक्रमण से अब तक पांच व्यक्तियों की मौत हो चुकी है और ये पांचों भोपाल गैस त्रासदी के पीड़ित थे।'' ढींगरा ने यह भी आरोप लगाया कि गैस पीड़ित भर्ती मरीजों को जबरदस्ती बीएमएचआरसी से हटाने के कारण चार अन्य गैस पीड़ितों ने भी दम तोड़ा है।