BREAKING NEWS

मुख्यमंत्री योगी बदलेंगे पश्चिम बंगाल में सियासी पारे का पैमाना, कल मालदा में रैली कर भरेंगे हुंकार ◾चुनाव से पहले भाजपा का आरोप, कोलकाता पुलिस फर्जी मतों के लिए कर रही है पोस्टल बैलट्स का गलत इस्तेमाल◾मुंबई की बिजली गुल करने के पीछे था चीनी हैकर्स का हाथ, पूरे भारत के पावरग्रिड सिस्टम को फेल करने का था प्लान◾नरेंद्र मोदी और आरएसएस को नहीं करने देंगे तमिल संस्कृति का अपमान : राहुल गांधी◾Corona Vaccine Registration : Co-Win पोर्टल पर आज शुरू हो गया रजिस्ट्रेशन, जानें पूरी प्रक्रिया◾तमिलनाडु में बोले राहुल गांधी- राज्य में ऐसा व्यक्ति CM जो तमिल संस्कृति का प्रतिनिधित्व करता हो◾किराएदार सिपाही के पति ने मकान मालिक के परिवार को जलाया जिंदा, 2 मासूमों की मौत ◾दो दिवसीय असम दौरे पर पहुंची कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी, कामाख्या मंदिर में पूजा से की शुरुआत ◾देश की एक बड़ी जमीन मोटे अनाज के लिए बहुत उपयोगी, किसानों के लिए ये चीज प्राथमिक जरूरत है : मोदी◾महीने के पहले दिन आम आदमी को एक और झटका, LPG सिलेंडर के दामों में हुआ इजाफा◾Today's Corona Update : देश में कोरोना संक्रमण के सामने आए 15,510 नए मामले, 106 मरीजों की मौत◾दुनिया में कोरोना मरीजों की संख्या 11.4 करोड़ से अधिक, 25.3 लाख से ज्यादा मरीजों की मौत◾डोनाल्ड ट्रंप ने किया बड़ा ऐलान, कहा- नई पार्टी शुरू करने की योजना नहीं, रिपब्लिकन का दूंगा साथ ◾देश में आज से कोरोना वैक्सीन का दूसरा चरण शुरू, 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को लग रहा है टीका ◾TOP - 5 NEWS 01 MARCH : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾PM मोदी ने एम्स में लगवाई कोरोना वैक्सीन, देश को कोविड-19 से मुक्त बनाने की अपील की ◾वैज्ञानिक नवाचार के लिए हब के रूप में उभर रहा भारत : जितेंद्र सिंह ◾कोरोना योद्धाओं के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं : हर्षवर्धन◾राज्य, जिलों को कोविड-19 टीकाकरण केंद्रों का पूर्व पंजीकरण को-विन 2.0 पर कराना होगा ◾वाम, कांग्रेस व आईएसएफ गठबंधन ने जनहित सरकार पर दिया जोर, पहले दिन दिखी दरार ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कुमारस्वामी का दावा - हिंदी राजनीति और भेदभाव के चलते दक्षिण के नेताओं को नहीं मिलते हैं मौके

जनता दल सेकुलर (जदएस) के नेता एच डी कुमारस्वामी ने दक्षिण के नेताओं को ‘हिंदी राजनीति और भेदभाव’ के चलते मौका नहीं मिलने का आरोप लगाते हुए सोमवार को कहा कि इन बातों ने कई दक्षिण भारतीयों को प्रधानमंत्री बनने से रोका है। हिंदी नहीं जानने के कारण द्रमुक सांसद कनिमोई से सीआईएसएफ अधिकारियों द्वारा कथित रूप से ‘ क्या आप भारतीय हैं’ जैसा सवाल करने पर क्षोभ प्रकट करते हुए कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री ने सत्तारूढ़ वर्ग पर दक्षिण का ‘तिरस्कार करने’ और उसकी ‘अनदेखी’ करने का आरोप लगाया। 

अपने ट्वीटों में उन्होंने कन्नड़ों को कई सरकारी और सार्वजनिक उपक्रमों की नौकरियों में मौकों से कथित रूप से वंचित रखने को लेकर भी चिंता प्रकट की और कहा कि व्यक्ति को या तो अंग्रेजी में या हिंदी परीक्षा देनी पड़ती है। कुमारस्वामी ने लिखा, ‘‘द्रमुक सांसद कनिमोई से सवाल किया गया ‘ क्या आप भारतीय हैं?’ मैं बहन कनिमोई का किये गये अपमान पर अपनी आवाज उठाता हूं।’’ 

उन्होंने लिखा, ‘‘ अब यह बहस करना बिल्कुल उपयुक्त है कि कैसे दक्षिण के नेताओं से हिंदी-राजनीति और भेदभाव के चलते मौके छीन लिए गये।’’ द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) सांसद कनिमोई ने रविवार को आरोप लगाया था कि चेन्नई हवाईअड्डे पर जब वह हिंदी में नहीं बोल सकी, तब सीआईएसएफ की एक अधिकारी ने उनसे पूछा कि ‘‘क्या वह भारतीय हैं।’’ इस पर, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) ने मामले की जांच का आदेश दिया। 

कुमारस्वामी ने कहा कि हिंदी की राजनीति ने कई दक्षिण भारतीयों को प्रधानमंत्री बनने से रोका है और एच डी देवेगौड़ा, करूणानिधि एवं कामराज उनमें प्रमुख है। उन्होंने कहा कि वैसे तो उनके पिता (देवेगौड़ा) इस बाधा को तोड़ने में सफल रहे लेकिन भाषा के कारण उनकी आलोचना किये जाने और उनकी उपहास उड़ाये जाने की कई घटनाएं सामने आयीं। 

कुमारस्वामी ने कहा, ‘‘ हिंदी राजनीति तब प्रधानमंत्री देवेगौड़ा को लाल किले से अपना स्वतंत्रता दिवस भाषण हिंदी में दिलाने में सफल रही थी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री देवगौड़ा बिहार और उत्तर प्रदेश के किसानों के कारण ही अंतत: राजी हुए। इस हद तक इस देश में हिंदी राजनीति काम करती है।उनका भी ऐसा ही अनुभव रहा है क्योंकि वह दो बार लोकसभा के सदस्य रहे हैं।"

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ सत्तारूढ़ वर्ग दक्षिण को तुच्छ मानकर उसकी अनदेखी करता है। मैंने बहुत नजदीक से देखा है कि कैसे हिंदी भाषी नेता पैंतरेबाजी करते हैं। उनमें से ज्यादातर गैर हिंदी नेताओं का सम्मान नहीं करते।’’ 

कोरोना वायरस को मात देकर अस्पताल से वापस लौटे CM येदियुरप्पा