कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता जगदीश शेट्टार ने सोमवार को कहा कि अगर दो वर्ष पहले से ही मुख्यमंत्री एच डी कुमारास्वामी को पुलवामा हमले की जानकारी थी तो वह इसे केंद्र सरकार के साथ साझा करके केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 40 जवानों की जान बचा सकते थे।

जगदीश शेट्टार ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा ‘‘ कुमारस्वामी ने चिकमंगलुरू जिले में एक जनसभा में कहा था कि दो वर्ष पहले ही सेना के एक सेवानिवृत अधिकारी ने उन्हें बता दिया था कि अगले लोकसभा चुनाव से पहले वोट हासिल करने के लिए भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव पैदा करने के वास्ते कोई भी घटनाक्रम हो सकता है।’’

उन्होंने कुमारस्वामी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग करते हुए कहा कि अगर कुमारस्वामी को इस बात का पहले से ही पता था और यह सच बात थी तो उन्हें इस जानकारी को केंद्र सरकार के साथ साझा करने के लिए किसने रोका था? अगर कोई व्यक्ति किसी जिम्मेदारी के पद पर बैठा है तो उसे राष्ट्रीय सुरक्षा की चिंता होनी चाहिए।

जगदीश शेट्टार ने आरोप लगाया कि इस जानकारी को अपने तक ही सीमित रखकर उन्होंने देशद्रोह का अपराध किया है और यह जानकारी उन्हें राष्ट्रीय जांच एजेंसी के साथ साझा करनी चाहिए थी। उन्होंने जोर देकर कहा,‘‘ इस बार भी देश में मोदी की सुनामी लहर है और इसकी चपेट में आकर सभी विपक्षी पार्टियां बह जाएंगी।

महागठबंधन पहले ही चिथड़े- चिथड़े हो गया है और कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने वाले अरविंद केजरीवाल, ममता बनर्जी और अखिलेश यादव आज कहां हैं?’’ उन्होंने दावा किया कि कर्नाटक में बीजेपी 22 से 24 सीटें जीतेंगी और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन दो तिहाई बहुमत हासिल करेगा।

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एम मल्लिकार्जुन खड़गे का इस क्षेत्र में विकास संबधी योगदान से जुड़ एक सवाल के बारे में उन्होंने कहा कि हैदराबाद कर्नाटक क्षेत्र उनकी लापरवाही के कारण लगातार पिछड़ा बना हुआ।