मध्यप्रदेश की सभी 230 विधानसभा सीटों के लिए कल 11 दिसंबर को होने वाली मतगणना के पहले सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इसके साथ ही नतीजों को लेकर कल सुबह 11 बजे तक काफी हद तक तस्वीर साफ होने की उम्मीद है। मतगणना कल सुबह आठ बजे शुरु होगी। पहले डाकमतपत्रों की गणना होगी, जिसके बाद ईवीएम मशीनों के मतों की गणना होगी। सभी जिलों के लिए मतगणना संबंधित जिला मुख्यालयों पर होगी।

इस बार चुनाव में बुधनी विधानसभा क्षेत्र से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव, चुरहट से नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, भोजपुर से पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी और मंत्री सुरेंद्र पटवा, खुरई से मंत्री भूपेंद्र सिंह, रहली से गोपाल भार्गव, दमोह से जयंत मलैया, भोपाल दक्षिण-पश्चिम से उमाशंकर गुप्ता, सिलवानी से रामपाल सिंह समेत भारतीय जनता पार्टी से कांग्रेस में गए सरताज सिंह की होशंगाबाद सीट से प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है।

मुख्यमंत्री शिवराज

मतगणना के संबंध में राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने बताया कि 11 दिसंबर को सुबह आठ बजे से डाकमतपत्रों की गणना होगी। साढे आठ बजे से मशीनों के मत गिने जाएंगे। हर विधानसभा क्षेत्र के मतों की गणना के लिए 14 टेबल लगाई जाएंगी। राजधानी भोपाल की सभी विधानसभा सीटों पर मतगणना के संबंध में कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. सुदाम खाडे ने कल मतगणना स्थल पुरानी जेल में व्यवस्थाओं की समीक्षा की।

एग्जिट पोल: मप्र और छत्तीसगढ़ में भाजपा- कांग्रेस में कांटे की टक्कर

इस दौरान उन्होंने आवश्यक निर्देश भी दिए। इंदौर जिले में मतगणना स्थल में नौ विधानसभा क्षेत्रों के अभ्यर्थियों और अभिकर्ताओ के प्रवेश के लिए जिला प्रशासन द्वारा अलग-अलग रंगों के प्रवेश पत्र जारी किए जा रहे हैं। मतगणना के लिए समूचे प्रदेश में मतगणना स्थलों के बाहर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। अनाधिकृत लोगों का मतगणना स्थल पर प्रवेश वर्जित रहेगा।

मतगणना स्थलों की ओर का यातायात भी परिवर्तित किया जाएगा। प्रदेश में 28 नवंबर को मतदान के साथ ही सभी प्रत्याशियों का भाज्ञ ईवीएम में कैद हो गया था। प्रदेश में कुल पांच करोड़ चार लाख 95 हजार 251 मतदाता हैं। इस बार दो हजार 899 प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतरे थे। राज्य में कुल 75.05 फीसदी मतदान हुआ था।