BREAKING NEWS

UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾JNU में फिर सुलगी नए विवाद की चिंगारी, छात्रसंघ ने की बाबरी मस्जिद दोबारा बनाने की मांग, निकाला मार्च ◾भारत में होने जा रहा कोरोना की तीसरी लहर का आगाज? ओमीक्रॉन के खतरे के बीच मुंबई लौटे 109 यात्री लापता ◾देश में आखिर कब थमेगा कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के इतने नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा में न्यायाधीशों के वेतन में संशोधन की मांग वाले विधेयक पर होगी चर्चा, कई दस्तावेज भी होंगे पेश ◾PM मोदी के वाराणसी दौरे से पहले 'गेरुआ' रंग में रंगी गई मस्जिद, मुस्लिम समुदाय में नाराजगी◾ओमीक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच दिल्ली फिर हो जाएगी लॉकडाउन की शिकार? जानें क्या है सरकार की तैयारी ◾यूपी : सपा और रालोद प्रमुख की आज मेरठ में संयुक्त रैली, सीट बटवारें को लेकर कर सकते है घोषणा ◾दिल्ली में वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज, प्रदूषण को कम करने के लिए किया जा रहा है पानी का छिड़काव ◾

मध्य प्रदेश : झाबुआ के उपचुनाव में जीत के लिए भाजपा ने ताकत झोंकी

मध्य प्रदेश के झाबुआ विधानसभा क्षेत्र का उपचुनाव भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया है। पार्टी ने यहां अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। तमाम बड़े नेताओं के दौरे हो रहे हैं और वे कांग्रेस की कमलनाथ सरकार पर जमकर हमले बोल रहे हैं। बीते साल हुए विधानसभा चुनाव में झाबुआ में भाजपा के जी. एस. डामोर ने कांग्रेस के विक्रांत भूरिया को शिकस्त दी थी। 

भाजपा ने लोकसभा चुनाव में झाबुआ से डामोर को उम्मीदवार बनाया और उन्होंने कांग्रेस के उम्मीदवार कांतिलाल भूरिया को शिकस्त दी थी। इसी के चलते झाबुआ विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव हो रहा है। भाजपा ने जहां भानु भूरिया को उम्मीदवार बनाया है, वहीं कांग्रेस ने पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया को मैदान में उतारा है। भाजपा इस चुनाव को लेकर काफी गंभीर है और हर हाल में जीत चाहती है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार यहां जनसंपर्क और जनसभाएं कर रहे हैं। 

भाजपा नेताओं का कहना है कि सत्ता में आने से पहले कांग्रेस ने जो वादे किए थे, उन्हें पूरा नहीं किया है और इस चुनाव में आदिवासी उन्हें वादे पूरे न करने का जवाब देंगे। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कहना है, "इस चुनाव में कांग्रेस के नेता फिर आएंगे लुभावने वादे करेंगे और चुनाव होने के बाद सब भूल जाएंगे। यह झूठे वादे करने वाली सरकार और पार्टी को जवाब देने का मौका है।"

भाजपा के मुख्य प्रवक्ता डॉक्टर दीपक विजयवर्गीय का कहना है, "झाबुआ उपचुनाव में भाजपा की जीत तय है, क्योंकि कांग्रेस ने कांतिलाल भूरिया को एक बार फिर उम्मीदवार बनाया है और वहां की जनता उनसे नाराज है। इतना ही नहीं कांग्रेस सरकार के आठ माह का कार्यकाल पूरी तरह वादाखिलाफी का कार्यकाल रहा है। इसका असर चुनाव नतीजों पर पड़ना तय है।" 

वहीं कांग्रेस के प्रवक्ता अजय यादव का कहना है, "भारतीय जनता पार्टी को यहां जीत की संभावना बिल्कुल नहीं है। यही कारण है कि उसने तमाम बड़े नेताओं को चुनाव मैदान में उतार दिया है। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सिर्फ इसलिए हार गई थी कि उसकी पार्टी के नेता जेवियर बागी होकर चुनाव लड़े थे। इस बार स्थिति अलग है और यहां कांग्रेस की जीत लगभग तय है। जेवियर मेडा कांग्रेस में हैं और कांग्रेस उम्मीदवार के लिए प्रचार कर रहे हैं।" 

उल्लेखनीय है कि झाबुआ विधानसभा चुनाव कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण है। एक तरफ जहां यह कांग्रेस सरकार के आठ माह के कामकाज का लिटमस टेस्ट है, वहीं दूसरी ओर भाजपा इस चुनाव के जरिए कांग्रेस के खिलाफ पनप रहे असंतोष को भुनाना चाह रही है। 

राज्य की 230 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के पास पूर्ण बहुमत नहीं है और बाहरी समर्थन से यह सरकार चल रही है। कांग्रेस के 114 विधायक हैं और भाजपा के 108 विधायक। यही कारण है कि भाजपा इस विधानसभा उपचुनाव को जीतकर वर्तमान सरकार के सामने संकट खड़ा करने की तैयारी कर सकती है।